How to improve your Childs Memory?

childs memory

Is your child facing difficulties in remembering a tiny bit of information? Does he/she forget the task given and do something else? Memory is very important to build a great foundation for learning either curricular or extracurricular. If your child’s memory is good, he can do better in school activities and tests and achieve something in life. Continue reading for tips on how to improve your childs memory.

With the rising competition in not only school-related academics, but also various kinds of additional competitions like spell bee, Olympiads, quizzes etc. the pressure on parents and children is rising and all this requires the childs memory and concentration power to be sharp. However, every child isn’t born with sharp memory power. The more they practice, the better their memory improves. ( Tips to increase concentration in kids)

WHATSAPP for concerns like Speech Delay, Low Weight, Frequent Illness, Hyperactivity, Low Concentration, Weak Eyesight, Improper Sleep, Pigmentation, Pores, Face Marks, Fine Lines , Lactation etc.

Types of memory:
Short-term memory:

It is the memory that helps children memorise the recent or latest information they have learnt. This is responsible for processing and recalling recent information by the students so that they can achieve their tasks. Children having trouble with short-term memory face difficulties in arranging the information and understanding the topic. These kids usually fall behind in class.

Long-term memory:

When the child understands a topic or information deeply, it will be stored in its long-term memory. The child has problems with long-term memory can’t recall information for a long time and fall behind in academics. 

Also, Try this for learning disability in kids

How to improve the childs memory power?

1. Involving in memory-boosting games:

You can find memory-improving games both in online and offline mode. These games are designed in such a way that a child improves their memory power by remembering along with fun.

2. Motivating to ask more questions:

If the child understands what he is reading or learning, he is likely to remember that for a long time. By motivating the child to ask more questions, he can deeply understand that topic and develop an interest in that. This practice will also help in developing critical thinking and problem-solving skills in the child.

Also, check 10 PROVEN ACTIVITIES FOR BRAIN DEVELOPMENT OF CHILD

3. Create songs and rhymes:

Our brains are designed to remember more likely music and patterns rather than simple sentences. So, by encouraging your child to create music and rhymes will improve his memory power.

4. Create excitement about learning:

Improve your child’s memory by making learning exciting. You can take them to the library, museum or an art gallery and create interest in learning something. 

5. Active learning:

By encouraging the child to have a discussion about what he or she thinks about a topic, the child’s memory can be improved as he is likely to keep more information in mind to express about it later.

6. Visual aids:

Use more visual aids to teach the children so that they remember more. You can create flashcards having images or words and ask them to match with the respective sentences/definitions.

Also, Try this for Speech delay in kids

7. Making keywords for a subject:

Ask children to make a list of keywords about a subject and encourage them to build connections between them. 

8. Ask them to be your teacher:

In order to teach you what he had learnt, the child will remember much more and you can ask him to review the book/source if he can’t remember fully.

9. Using all senses:

By using more than one sense information can be remembered more easily. Try to touch, read loudly, conversing and use the props, the child can utilise the material in more than one way.

10. Break big information into smaller ones:

It’s always better to learn a small amount of information at once rather than the entire information at a time. You can even use colours, highlighting pens etc to highlight the important topic for later.

Herbs that increase memory power:
Curcumin:

Curcumin has a protein called brain-derived neurotrophic factor (BDNF) which is found in the brain and spinal cord that plays a key role in keeping nerve cells healthy, as well as regulating communication between nerve cells, which is critical for learning and memory for the kid.

Brahmi:

Brahmi is a superfood for the brain and is believed to sharpen the brain by protecting cells and increasing chemicals associated with learning and memory. It has been shown to improve spatial learning and retaining power in kids. In older times, kids were often given Brahmi powder with ghee/honey. This would increase their focus and attention while keeping them calm and distressed.

Also, check How can ayurvedic herbs help with brain development?

Ashwagandha:

This herb is known to reduce anxiety and stress. And is used to increase acetylcholine levels which support better memory, mental focus and intelligence. This herb also reduces mental fatigue and enhances sleep quality. It protects the brain nerve cells from damage. It is the best food for toddlers’ brain development.

Shalaki:

This herb improves brain function mainly due to its antioxidant property. The antioxidants present fight against the free radicals responsible for causing brain cell damage and support stronger memory and hence are childs memory-boosting food.

Foods that improve childs memory power:

Fatty fish:

Fishes such as trout, salmon, albacore tuna, sardines, and herring, are rich sources of omega-3 fatty acids. The brain utilises omega-3s to build brain and nerve cells, and these fats are essential for learning and memory because 60% of the brain is fat, and 50% of the fat comprises of omega-3 fatty acids.  (What are some food sources of omega 3?)

Blueberries:

Blueberries and other dark-coloured berries provide anthocyanins, which have anti-inflammatory and antioxidant effects. These antioxidants help to fight both oxidative stress and inflammation, which are responsible for brain ageing and neurodegenerative diseases. They can also deposit in the brain and help improve communication between brain cells.

Turmeric:

Turmeric contains curcumin as an active ingredient and it can pass the blood-brain barrier, directly entering the brain and benefit the cells there. The curcumin benefits childs memory, reduces depression and helps to grow new brain cells. (What other foods help with mood?).

Broccoli:

Broccoli is a decent source of antioxidants and a very high source of vitamin K. Vitamin K aids in the synthesis of sphingolipids, a kind of fat in brain cells.

Pumpkin seeds:

They contain a high amount of antioxidants which protect the body and brain from free-radical mediated damages. They’re also excellent sources of magnesium, iron, zinc, and copper which are very important for brain health. ( Health benefits of pumpkin seeds )

Dark chocolate:

Dark chocolate, as well as cocoa powder, are sources of brain-boosting compounds, such as caffeine, flavonoids and antioxidants. It has higher cocoa content than regular milk chocolate. The flavonoids in chocolate gather in the areas of the brain that deal with learning and memory.

Nuts:

Nuts are good sources of healthy fats, antioxidants, and vitamin E, essential for brain health. Vitamin E protects cells against free-radical damage to help delay mental degeneration. Walnuts are rich sources of omega-3 fatty acids.  (Other benefits of nuts and seeds)

Eggs:

Eggs contain several nutrients required for brain health, including vitamins B6 and B12, choline and folate. Choline is a micronutrient necessary to create acetylcholine, a neurotransmitter required for balancing memory and mood.

Products:

It’s no SECRET that following an Ayurvedic lifestyle has numerous advantages. This unique collection of Ayurvedic spreads is an easy solution to feed daily nutrition for Immunity, Eye, Brain development, Bone strength and overall growth to kids without any fuss. To know more about kid’s ayurvedic foods –SHOP HERE.

India’s First Tasty Kids Nutrition fortified with Ayurvedic herbs.

To boost your child’s memory, give Kids & Teens Brain Booster Chocolate/ Savoury Spread | 0% preservatives | 0% refined sugar | 0% palm oil | Fortified with SHANKHAPUSHPI, ASHWAGANDHA, BRAHMI | Contains OMEGA 3, PROTEIN | ORDER |


CHECK MORE PRODUCTS FOR:

Immunity, Gut health, Digestion, Weight, Brain development, Speech delay, Epilepsy, Eye health, Hormones, Sleep, Hyperactivity, Bones and Overall growth

what is the down's syndrome

READ MORE BLOGS:

बच्चों में एकाग्रता बढ़ाने के टिप्स और खाद्य पदार्थ

tips to improve concentration

क्या आपका बच्चा हमेशा विचलित होता है और अपने होमवर्क पर ध्यान केंद्रित नहीं कर रहा है? क्या आपके लिए अपने बच्चे को केवल २०-३० मिनट के लिए बैठाना और पढ़ाना मुश्किल है? यह समझने के लिए पढ़ें कि बच्चों में एकाग्रता की समस्याएं क्या हैं और जानें कि एकाग्रता बढ़ाने के टिप्स और खाद्य पदार्थ क्या हैं?

बच्चों का  ध्यान केंद्रित करना आसान नहीं है, और कई माता-पिता को वास्तव में कठिन संघर्ष करना पड़ता है। माता-पिता के लिए अक्सर यह एक चुनौती होती है कि वे अपने बच्चे को एक जगह बिठाएं, उन्हें सिखाएं कि कैसे अपनी पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित करें और बिना ज्यादा विचलित हुए इसे खत्म करें। यह माता-पिता को चिंतित करता है और कुछ माता-पिता भी यह सोचने लग सकते हैं कि उनके बच्चों में कुछ गड़बड़ है। लेकिन निश्चिंत रहें, बच्चों में एकाग्रता की समस्या बहुत आम है।

न केवल स्कूल से संबंधित प्रतियोगिताएं , बल्कि विभिन्न प्रकार की अतिरिक्त प्रतियोगिताओं जैसे स्पेल बी, ओलंपियाड, क्विज़ आदि में बढ़ती प्रतिस्पर्धा के साथ, माता-पिता और बच्चों पर दबाव बढ़ रहा है और इस सब के लिए बच्चे में तेज स्मृति और एकाग्रता शक्ति की आवश्यकता होती है। बच्चों में एकाग्रता बढ़ने के टिप्स आपि मदद कर सकते हैं.

बच्चों में खराब एकाग्रता के लक्षण:

यदि आपके बच्चे को किसी चीज़ पर बहुत देर तक ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई होती है, तो वह कम एकाग्रता या एकाग्रता की समस्या से पीड़ित हो सकता है। ध्यान की यह कमी उसकी पढ़ाई और अन्य गतिविधियों में भी देखी जा सकती है। आइए बच्चों में खराब एकाग्रता के लक्षणों को समझते हैं:

  • आसानी से भटकना
  • रुचि में कमी
  • स्थिर बैठने और सोचने में असमर्थता
  • निर्देशों का पालन करने में असमर्थता
  • चीजों को आसानी से खो देता है
  • ज्यादातर समय मूडी, चिड़चिड़े और कर्कश
  • अति सक्रिय
  • बेचैन
  • अपनी चीजों को व्यवस्थित करने में असमर्थता

बच्चों में कम एकाग्रता का क्या कारण है?

बहुत सारे विकर्षण:

बच्चे स्वाभाविक रूप से जिज्ञासु होते हैं और उनका दिमाग हमेशा भटकता रहता है। टीवी, वीडियो गेम, मोबाइल फोन आदि उनके लिए आसान ध्यान भटकाने का काम करते हैं। स्टडी टाइम, टीवी टाइम, प्ले टाइम के लिए एक शेड्यूल या टाइम टेबल बनाएं और सुनिश्चित करें कि वे इसका नियमित रूप से पालन करते हैं। धीरे-धीरे आपका बच्चा समझ जाएगा कि पढ़ाई के दौरान उसे सिर्फ पढ़ाई पर ध्यान देने की जरूरत है और बाकी काम भी उसे करने को मिल जाएंगे।

चुनौतीपूर्ण कार्य:

कभी-कभी बच्चों को उन्हें दिया गया प्रश्न या कार्य बहुत कठिन या चुनौतीपूर्ण लग सकता है। ऐसे मामलों में, वे पूरी तरह से ध्यान केंद्रित करने में सक्षम नहीं हो सकते हैं और रुचि भी खो देंगे। बड़े कार्य को छोटे और सरल कार्यों में तोड़ना जो आपके बच्चे के लिए उपयुक्त उम्र के हों और आपके बच्चे को हर एक कार्य को पूरा करने के लिए प्रेरित करें।

नींद की कमी:

अध्ययनों से पता चला है कि नियमित रूप से पर्याप्त मात्रा में नींद लेने वाले बच्चों ने एकाग्रता, ध्यान, व्यवहार, सीखने, स्मृति और सबसे महत्वपूर्ण मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य में सुधार किया है। बच्चे के दिमाग का ज्यादातर विकास नींद के दौरान होता है। बच्चों के मस्तिष्क के समुचित विकास के लिए हर रात कम से कम आठ से बारह घंटे की नींद बहुत जरूरी है। (मस्तिष्क के विकास के लिए सोना क्यों ज़रूरी है?) सुनिश्चित करें कि आपके बच्चे को पर्याप्त नींद मिले और यह भी कोशिश करें कि बहुत देर तक जागकर उनकी दिनचर्या में खलल न पड़े।

माता-पिता का  ध्यान आकर्षित करना :

कभी-कभी बच्चे अपने माता-पिता का ध्यान आकर्षित करने के लिए ठीक से अपना काम नहीं करते हैं और ध्यान नहीं लगाते  हैं। अपने बच्चे के साथ प्रतिदिन कुछ गुणवत्तापूर्ण समय बिताएं और उन्हें अधिक सुरक्षित और प्यार महसूस करने में मदद करें।

अल्प खुराक:

नाश्ता न करना और अनुचित पोषण आपके बच्चे की एकाग्रता शक्ति को भी प्रभावित कर सकता है। अपने बच्चे को हर दिन एक संतुलित आहार देकर उसकी मदद करें और सुनिश्चित करें कि आपका बच्चा कोई भी भोजन, विशेष रूप से नाश्ता नहीं छोड़ता है। (संतुलित आहार इतना महत्वपूर्ण क्यों है?)

भावनात्मक उपद्रव:

यदि घर में माता-पिता के झगड़े, तलाक या किसी प्रियजन की मृत्यु जैसी किसी भी तरह की अशांति है, तो बच्चा भावनात्मक रूप से परेशान हो सकता है और इससे न केवल उसकी एकाग्रता बल्कि समग्र प्रदर्शन भी प्रभावित होगा। अपने बच्चे को घर की परेशानियों से दूर रखें और इस परेशानी की घड़ी में उन्हें अधिक भावनात्मक सहारा दें।

शारीरिक गतिविधि में कमी :

कम शारीरिक गतिविधि या शारीरिक व्यायाम की कमी आपके बच्चे को आलसी और सुस्त बना सकती है जिससे उसकी एकाग्रता पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। अपने बच्चे को साइकिल चलाने, दौड़ने, बाहरी गतिविधियों और खेलों के लिए बाहर ले जाएं।

प्रेरणा या रुचि की कमी:

किसी विशेष विषय या गतिविधि में रुचि या प्रेरणा की कमी भी बच्चों में खराब एकाग्रता का कारण बनती है। उन्नत बच्चे या बच्चे जिनका औसत  स्तर से अधिक IQ है, रुचि या प्रेरणा की कमी के कारण अधिक पीड़ित होते हैं। अपने बच्चे को हर छोटी उपलब्धि के लिए प्रेरित और प्रोत्साहित करें।

अव्यवस्थित कार्यक्षेत्र:

अव्यवस्थित कार्यक्षेत्र या अव्यवस्थित नोटबुक होने से जो पढ़ाया जा रहा है उस पर ध्यान केंद्रित करने के बजाय चीजों की तलाश में अधिक समय व्यतीत करना पड़ सकता है। अपने बच्चे को संगठित होना सिखाएं और उन्हें अव्यवस्था मुक्त रहने में मदद करें।

सीखने में समस्याएं:

कुछ मामलों में, एडीएचडी, डिस्लेक्सिया या एडीडी जैसी सीखने की कठिनाइयां बच्चों में कम या उचित एकाग्रता के लिए जिम्मेदार हो सकती हैं। आप ऐसे मामलों में उचित निदान और मार्गदर्शन के लिए किसी पेशेवर से परामर्श करके मदद कर सकते हैं। 

बच्चों में एकाग्रता बढ़ाने के टिप्स:

मस्तिष्क व्यायाम: बच्चों में एकाग्रता बढ़ाने के टिप्स में मस्तिष्क व्यायाम बहोत ज़रूरी है| विभिन्न प्रकार की पहेलियों को हल करना या स्मृति खेल खेलना, सुडोकू, शतरंज बच्चों में एकाग्रता में सुधार करने में मदद कर सकता है।

मेडिटेशन: मेडिटेशन और माइंडफुलनेस प्रैक्टिस बेहतर एकाग्रता में मदद कर सकते हैं। अध्ययनों से पता चलता है कि ध्यान, माइंडफुलनेस ट्रेनिंग, योग और गहरी सांस लेने से बच्चों को ध्यान, याददाश्त, फोकस और अन्य संज्ञानात्मक क्षमताओं को बढ़ाने में मदद मिल सकती है। इसलिए, यह एकाग्रता में सुधार करने के सर्वोत्तम सुझावों में से एक है।

संगीत सुनना: एकाग्रता बढ़ाने के टिप्स में संगीत सुनना बहोत ज़रूरी है | एकाग्रता में सुधार के लिए कुछ अध्ययन संगीत सुनने के लाभों का समर्थन करते हैं। काम या पढ़ाई के दौरान संगीत चालू करने से एकाग्रता में सुधार करने में मदद मिल सकती है। विशेषज्ञ आमतौर पर इस बात से सहमत होते हैं कि शास्त्रीय संगीत या प्रकृति की आवाज़ फोकस बढ़ाने में मदद करने के लिए अच्छे विकल्प हैं।

प्रकृति में समय बिताएं: बच्चों में एकाग्रता बढ़ाने के लिए एक और उपाय प्रकृति में समय बिताना है। शोध से पता चलता है कि प्राकृतिक वातावरण मस्तिष्क के विकास को लाभ पहुंचा सकता है और बच्चों में एकाग्रता शक्ति में भी सुधार कर सकता है। यहां तक ​​​​कि पार्क में 20 मिनट की पैदल दूरी शहरी सेटिंग में समान लंबाई की पैदल दूरी से अधिक बच्चों में एकाग्रता में सुधार करने में मदद कर सकती है।

बच्चों में एकाग्रता और याददाश्त बढ़ाने के लिए खाद्य पदार्थ:

ओमेगा -3 फैटी एसिड:

अनुसंधान ने बचपन में ओमेगा 3 फैटी एसिड और मस्तिष्क के विकास के बीच एक कड़ी स्थापित की है। इन स्वस्थ वसा में अद्भुत मस्तिष्क शक्ति होती है और स्मृति और ध्यान अवधि को बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। मछली और अखरोट ओमेगा 3 का बहुत अच्छा स्रोत हैं और इसलिए एकाग्रता और याददाश्त में सुधार के लिए सबसे अच्छे खाद्य पदार्थों में से एक हैं। (ओमेगा 3 आपके बच्चों के लिए क्यों महत्वपूर्ण है?)

ब्लू बैरीज़:

ब्लूबेरी में एंथोसायनिन होता है, जो पौधों के यौगिकों का एक समूह है जिसमें विरोधी भड़काऊ और एंटीऑक्सिडेंट प्रभाव होते हैं। एंटीऑक्सिडेंट ऑक्सीडेटिव तनाव और सूजन दोनों के खिलाफ कार्य करते हैं और इस प्रकार मस्तिष्क की उम्र बढ़ने और न्यूरोडीजेनेरेटिव रोगों को रोकने में मदद कर सकते हैं। (एंटीऑक्सीडेंट क्यों?)

हरे पत्ते वाली सब्जियां:

हरी सब्जियां दिमाग का पसंदीदा भोजन है। पालक, पत्तागोभी, पुदीना और केले जैसी सब्जियां मस्तिष्क के स्वास्थ्य में योगदान करती हैं क्योंकि वे विटामिन बी, आयरन और एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर होती हैं जो नई कोशिकाओं के विकास में मदद करती हैं और तेज सोच में सहायता करती हैं। चूंकि पालक में विटामिन ए, बी12, के और आयरन जैसे मस्तिष्क को बढ़ावा देने वाले पोषक तत्वों की एक विस्तृत विविधता होती है, इसलिए इसे बच्चे के मस्तिष्क के विकास के लिए सबसे अच्छा भोजन माना जाता है। (बच्चों के लिए पोषण युक्तियाँ?)

अंडे:

अंडे मस्तिष्क के स्वास्थ्य से जुड़े कई पोषक तत्वों का एक अच्छा स्रोत हैं, जिनमें विटामिन बी 6, बी 9 और बी 12 शामिल हैं। पूरे अंडे (अंडे का सफेद भाग और जर्दी) खाने से कोलीन की वजह से याददाश्त को नियंत्रित करने में मदद मिलती है। शोध बताते हैं कि अंडे के नियमित सेवन से बच्चों और वयस्कों में संज्ञानात्मक प्रदर्शन में सुधार होता है। (बच्चों को विटामिन की आवश्यकता क्यों है?)

डार्क चॉकलेट:

एक अध्ययन से पता चला है कि पांच दिनों तक कोको खाने से मस्तिष्क में रक्त का प्रवाह बेहतर होता है। डार्क चॉकलेट में पाए जाने वाले कंपाउंड्स  यौगिक स्मृति, ध्यान अवधि, प्रतिक्रिया समय और समस्या को सुलझाने के कौशल को बढ़ाते हैं। यह बच्चों का पसंदीदा है और बच्चे के मस्तिष्क के विकास के लिए भोजन के रूप में काम करता है। (बिना चीनी वाली चॉकलेट ट्विक्स बार की रेसिपी)

मेवे और बीज:

बच्चे के मस्तिष्क के विकास और संज्ञानात्मक कार्यों के लिए मूंगफली, अखरोट, पिस्ता, बादाम और काजू जैसे मेवे बहुत महत्वपूर्ण हैं। इन्हें अपने बच्चे के दैनिक आहार में शामिल करना बहुत फायदेमंद होता है। (मेवे  और बीज के अन्य लाभ)

पानी:

हाइड्रेटेड रहने से भी एकाग्रता पर सकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। यहां तक ​​​​कि हल्का निर्जलीकरण भी जानकारी पर ध्यान केंद्रित करना या याद रखना कठिन बना सकता है।

बच्चों में एकाग्रता बढ़ाने के लिए जड़ी-बूटियाँ:

करक्यूमिन: करक्यूमिन में मस्तिष्क-व्युत्पन्न न्यूरोट्रॉफिक कारक (बीडीएनएफ) नामक एक प्रोटीन होता है जो मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी में पाया जाता है जो तंत्रिका कोशिकाओं को स्वस्थ रखने के साथ-साथ तंत्रिका कोशिकाओं के बीच संचार को विनियमित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है|   (मस्तिष्क के समग्र विकास के लिए खाद्य पदार्थ?)

ब्राह्मी: ब्राह्मी मस्तिष्क के लिए एक सुपरफूड है और माना जाता है कि यह कोशिकाओं की रक्षा करके तथा सीखने और स्मृति से जुड़े रसायनों को बढ़ाकर मस्तिष्क को तेज करता है। इसने बच्चों में स्थानिक सीखने और शक्ति बनाए रखने में सुधार दिखाया है। पुराने समय में, बच्चों को अक्सर घी/शहद के साथ ब्राह्मी पाउडर दिया जाता था। इससे उनका ध्यान और चिंतन  बढ़ेगा, और वे शांत और व्यथित भी  रहेंगे। (आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियाँ मस्तिष्क के विकास में कैसे मदद कर सकती हैं?)

अश्वगंधा: यह जड़ी बूटी चिंता और तनाव को कम करने के लिए जानी जाती है। और एसिटाइलकोलाइन के स्तर को बढ़ाने के लिए उपयोग किया जाता है जो बेहतर स्मृति, मानसिक ध्यान और बुद्धि का समर्थन करता है। यह जड़ी बूटी मानसिक थकान को भी कम करती है और नींद की गुणवत्ता को बढ़ाती है। यह मस्तिष्क की तंत्रिका कोशिकाओं को क्षति से बचाता है। यह बच्चों के मस्तिष्क के विकास के लिए सबसे अच्छा भोजन है। (अश्वगंधा क्यों?)

शलाकी: यह जड़ी बूटी मुख्य रूप से अपने एंटीऑक्सीडेंट गुण के कारण मस्तिष्क के कार्य में सुधार करती है। इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट मस्तिष्क की कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाने वाले फ्री रेडिकल्स से लड़ते हैं और याददाश्त को मजबूत करते हैं और इसलिए इसका उपयोग बच्चे के मस्तिष्क के विकास के लिए भोजन के रूप में किया जाता है। (फ्री रेडिकल्स क्या हैं?)


पकाने की विधि: छिपे हुए जड़ी बूटियों और नट्स के साथ बाजरा क्रेप / पैनकेक

आइए सब्जियों, जड़ी-बूटियों और नट्स के ‘छिपे हुए’ पोषण से हर व्यंजन को स्वादिष्ट और पौष्टिक बनाते हैं।



उत्पाद/प्रोडक्ट्स:

हमें बच्चों के लिए पौष्टिक और स्वादिष्ट उत्पादों की अपनी श्रृंखला पेश करते हुए खुशी हो रही है !!

हम जानते हैं कि प्रतिदिन स्वस्थ भोजन तैयार करना और खिलाना एक बहुत बड़ा काम है, और भी कठिन है जब बच्चे अपने द्वारा चयनित भोजन खाने वाले होते हैं। बच्चे कुछ खाद्य पदार्थ और प्रारूप को पसंद करते हैं। बच्चों को हर रोज कड़वी आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां, तरह-तरह की सब्जियां, फल, मेवा और बीज खिलाना आसान नहीं होता।

आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के साथ मिश्रित, यह अनूठा उत्पाद बिना किसी झंझट के बच्चों को प्रतिरक्षा(इम्युनिटी), मस्तिष्क के विकास (ब्रेन डेवलपमेंट) , हड्डियों की मजबूती(बोन स्ट्रेंथ) और समग्र विकास (ओवरॉल ग्रोथ) के लिए दैनिक पोषण (डेली न्यूट्रिशन) प्रदान करने का एक आसान उपाय है।


Kids & Teens Brain Booster Chocolate Spread
एकाग्रता बढ़ाने के टिप्स

आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के साथ भारत का पहला स्वादिष्ट किड्स न्यूट्रिशन।

बच्चों और किशोरों के लिए  ब्रेन बूस्टर चॉकलेट स्प्रेड | 0% संरक्षक | 0% रिफाइंड चीनी | 0% पाम तेल | शंखपुष्पी, अश्वगंधा, ब्राह्मी के साथ  | ओमेगा 3, प्रोटीन शामिल है | यहाँ आर्डर करें

बच्चों के लिए दैनिक पोषण: प्रतिरक्षा, मस्तिष्क विकास, हड्डियों और समग्र विकास के लिये

(शिपिंग केवल भारत और सिंगापुर में )


छोटे बच्चों और किशोरों के माता-पिता के लिए बच्चों के पोषण और स्किनकेयर समुदाय में शामिल हों।

पोषण विशेषज्ञ द्वारा अनुशंसित खाद्य पदार्थ और उपचार।


और ब्लॉग पढ़ें: