When do Girls stop Growing in Height?

(Co-Authored by Swati)

Swati, the Mother of 5 years old Lishika, explains the journey of her daughter’s growth and nutrition. Check out the full article below.

Lishika was born six months early and was preterm. There was a worry that development and growth would be delayed. The doctor urged me to avoid using any growth-related medications for height and weight and instead go for natural methods to encourage her growth. She used to happily eat all fruits and veggies, but she was a little behind in learning and started walking a bit lately. Her social behaviour has also been impacted by the lockdown period.

I always rely more on Ayurveda and organic, healthy foods than on unnatural or preservative-laden commercial health foods. It’s crucial to establish a positive relationship with food. Try to describe the positive impacts of good food on the body and the negative effects of junk food. Appreciate them for making the effort to eat a healthy meal. 

Even though the parents are of good height, children may be shorter due to poor diet and care. In order to avoid suffering later on and to reduce the possibility of delayed height growth in girls after puberty, it is crucial to take care of children’s nutrition in the early years of age. Constant effort is essential for a girl’s appropriate height in girls”.

“I believe that investing in our children’s development from the earliest age is the most important contribution a parent can make!!”

Who wouldn’t want a healthy body and the ideal height? Everyone wants their kids to be taller than they are. Girls grow quickly from birth through childhood. Their growth accelerates once more when they reach adolescence. Girls usually stop growing by the time they are 14 or 15 years old, or during puberty, and their height reaches its final height. However, with the right diet and activities like exercise and good posture, height can still be increased even beyond puberty. Continue reading for tips and foods that help girls grow taller.

FACTORS AFFECTING HEIGHT IN GIRLS:

Genetics

Genetics plays an important role in determining height in girls. They got their physical characteristics from their parents, all aspects of their personality such as , height, weight, body structure, skin, hair and eye colour, are all influenced by their parent’s genes. Usually taller parents have taller kids and vice versa.

Also, check Tips to help your child gain healthy weight

Nutrition

After genetics nutrients are the main factor on which the height in girls depends, as everything the body needs comes from the food we eat. Malnutrition can lead to many deficiency diseases that can adversely affect the girl child’s growth and development.

Also, check 11 Foods that provide daily nutrition for kids 

Exercise and outdoor activities

Outdoor activities and regular exercise help girls to grow well and reach their developmental milestones on time. If they regularly play outdoors or do some exercise daily, it will help keep them healthy by strengthening their immune system.

Also, check 7 Foods to boost immunity in kids 

Hormones

Growth hormones play an important role in a girl’s physical growth. These are made in the pituitary gland and are crucial hormones for growth. If the production is low due to any health condition it will adversely affect the girl’s height. 

Also, check Growth spurts in kids

Sex

Boys and girls grow at different rates. Height in girls is lesser than in boys. Even boys continue growing for longer than females.

Also, check Skin and hair changes at puberty

HOW DOES PUBERTY AFFECT HEIGHT IN GIRLS?

One to two years prior to the onset of menstruation is when girls often experience a growth spurt. Most girls reach puberty between the ages of 8 and 13, while the growth spurt happens between the ages of 10 and 14. In the year or two following the onset of their first period, they only gain 1 to 2 more inches. At this point, they have grown to adult height.It explains a sequence of changes that occur in girls as their bodies begin to produce more of particular hormones.

Also, check Tips and foods to increase the height of the child

HOW TO INCREASE HEIGHT IN GIRLS EVEN AFTER PUBERTY?

1. BALANCED DIET:

You are what you eat, your personality is the mirror of your diet. The foods that girls consume have to be healthy so that they grow up to be tall. A balanced diet is one which includes protein, carbohydrates, fats, vitamins and minerals in correct proportions. Minerals like calcium and potassium are key nutrients for bone development and should be present in the foods to increase height even after puberty. Also, keep a check on the consumption of processed foods as it adversely affects the girl’s growth. 

Also, check Importance of balanced diet for kids

2. EXERCISE AND YOGA:

Outdoor play and exercise must be part of a girl kid’s lifestyle. There are some exercises which help in gaining height like stretching, as it helps elongate the spine and also improves the posture of the girls at all times. Hanging from the bar also helps the spine elongate, which is important to be taller. The next exercise for gaining height is skipping, in which the body stretches entirely and promotes the overall growth in the kids.

Swimming is another sport or exercise which keeps your child active and energetic, it’s a full body exercise which involves lots of stretching and helps kids to grow taller. Apart from these exercises, you can also motivate your child to do some yoga poses, which is an age-old practice and helps children to make them taller. Some of the asanas are Surya namaskar and chakrasana, which are proven to have positive effects on height in girls even after puberty. 

3. GOOD SLEEP:

Sleep is the golden chain that ties your health and body together. Proper sleep is one of the most important factors in your girl’s overall development and an essential part of a healthy lifestyle. Sleeping releases a growth hormone called HGH, which plays an important role in increasing height. The effects of sleep deprivation (insufficient sleep) can lead to many developmental issues. 

Also, check 5 Foods that help your child in sleeping well

4. SUNLIGHT:

Sunlight is a great source of vitamin D, which helps in muscle and bone growth and development that is crucial for height in girls. Vitamin D also helps your body to absorb calcium from the foods and aids in strengthening the bones. So always encourage your girl for outdoor activities, so that they get a daily dose of vitamin D through the sun. 

Also, check What foods are a good source of calcium and vitamin D?

5. POSTURE:

The posture of your child has a great impact on their height, as slumping can put unnecessary pressure on the spine. A good posture not only elevates stress and pain in the neck and back but it can change your physical height also. Always interrupt your girl to sit and walk straight when you see them slouching.

6. CALCIUM

Girls are growing fast and gaining height so their Calcium needs are also high. One of the most important minerals in our body is CALCIUM. Bones are 70% calcium and it is only calcium which gives bones their hardness for protection and support. Vitamin D helps the body to absorb calcium and works with it to build strong bones and increase height. It moves calcium from the intestine to the bloodstream and into the bones. From age 9 – 18 girls need more calcium to meet the daily recommended intake. Interestingly, it is only in their mid-20s that a girl child can improve their bones and increase height, which will last them a lifetime.

Also, check Calcium-rich foods

FOODS TO INCREASE HEIGHT IN GIRLS

1. MILK AND ITS PRODUCTS:

It is the most commonly consumed type of milk and naturally a good source of many nutrients like calcium, protein, phosphorus and Vitamin B2 and is one of the best foods to increase height. In several countries, it is fortified with vitamin D because milk doesn’t naturally contain vitamin D, but is one of the most widely used calcium-rich foods for kids. These two work together to keep the bones strong. There are some dairy products made of cow’s milk like cheese, and yoghurt which is a good source of vitamin D. All of these play a role in increasing the height in girls even after puberty.

Also check, 8 Healthy and creamy milkshake recipes

2. EGG YOLK:

Eggs are one of the highest natural sources of vitamin D. Just one whole large egg provides 50% of vitamin D required for the day. It helps to maintain strong bones and teeth. Those who can may opt for fish (salmon, sardines) also as a source of vitamin D. Egg is the food if you are looking for height gainer foods.

3. MORINGA:

Moringa is a superfood. It has 3 times more calcium than milk which makes it one of the best foods to increase height to treat weak or damaged bones and also one of the best non-dairy sources of calcium. Some studies also indicate that moringa can heal damaged bones thus making it a must-have calcium-rich foods for bones. Dried moringa leaf powder has 17 times more vitamin D than fortified milk. In addition to this, it’s a fix for digestion troubles, immunity and iron.

Also check, Health benefits of Moringa

4. RAGI:

Ragi is also one of the foods high in calcium and vitamin D.  It is said that no other plant source provides calcium the way ragi can, making it one of the popular non-dairy sources of calcium. Ragi also has vitamin D and along with calcium, it can help in improving bone strength. It is a whole grain that is gluten-free also and can be used in baking cakes and cookies.

Also check, Gluten-free diet for kids

5. POTASSIUM-RICH FOOD:

If the child eats lots of comfort food, then consuming Potassium-rich foods (banana, spinach, cucumber, peas, and sweet potato) will save Calcium from being robbed from the bones.

Also check, Health benefits of vegetables for kids

6. ALMONDS:

Amongst all the nuts, almonds are the highest in calcium. One ounce of almonds or about 22 almonds, provides 8% of the recommended daily intake of calcium. 

Also check, Iyurved’s Daily Nutrition Chocolate and Savoury spread made of Almond and 6 other nuts and seeds

7. SEEDS:

Many seeds are good sources of calcium. For instance, 1 tablespoon (9 grams) of poppy seeds has 13% of the recommended daily intake, while the same serving of sesame seeds packs 9% of the recommended daily intake. In addition to calcium, chia seeds are also rich in omega-3 fatty acids.

8. VEGETABLES:

Cabbage, mustard (sarson leaves), broccoli & ladyfinger are good sources of calcium.

Also check, Pasta recipes with hidden vegetables

9. LOTUS SEEDS/ MAKHANA:

Makhana or lotus seeds are grown in Asian countries and are considered as a power food to increase height. Makhana is an excellent source of many important nutrients. It is loaded with protein, fibre, calcium, magnesium, iron, phosphorus and carbohydrates. Just a bowl of makhana is a great snack for kids. 

Also check, Health benefits of makhana

PRODUCTS:

It’s no SECRET that following an Ayurvedic lifestyle has numerous advantages. This unique collection of Ayurvedic spreads is an easy solution to feed daily nutrition for Immunity, Eye, Brain development, Bone strength and overall growth to kids without any fuss. To know more about kid’s ayurvedic foods – SHOP HERE.

Ayurvedic spread by Iyurved

India’s First Tasty Kids Nutrition fortified with Ayurvedic herbs.

If your child is a picky eater or does not take enough nutrition for the day, you can give Daily Nutrition Chocolate Spread | Made with clinically proven ‘5 Ayurvedic Herbs and 7 Nuts’ | ORDER | 0% preservative | 0% Palm oil |


WATCH THE FULL VIDEO HERE

height in girls

CHECK MORE PRODUCTS FOR:

Immunity, Gut health, Digestion, Weight, Brain development, Speech delay, Epilepsy, Eye health, Hormones, Sleep, Hyperactivity, Bones and Overall growth

what is the down's syndrome

READ MORE BLOGS:

लड़कियों में यौवन में होने वाले शरीरिक बदलाव 

Puberty in girls

पैरेंटिंग के दौरान आप अपने बच्चों को बढ़ते हुए देखने के साथ साथ कई चीजों का अनुभव करते हैं। शिशु (0 से 1 वर्ष), बच्चा (1 से 3 वर्ष), प्रारंभिक बचपन (4 से 8 वर्ष), मध्य बचपन (9 से 11 वर्ष) और किशोरावस्था (12 से 18 वर्ष), प्रत्येक चरण के रूप में आप अपने बच्चे में कुछ मानसिक और शारीरिक विकास का अनुभव करते हैं।

पहले तीन चरणों (शिशु, बच्चा और प्रारंभिक बचपन) के दौरान बच्चे आमतौर पर विकास के कई प्राकृतिक शारीरिक परिवर्तनों से गुजरते हैं। बच्चों के ये पहले 8 साल उनके स्वस्थ विकास और आजीवन सीखने के लिए बेहद महत्वपूर्ण हैं। इस दौरान संज्ञानात्मक, सामाजिक, भावनात्मक, भाषा और शारीरिक विकास उनके जीवन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। प्रत्येक चरण में एक बच्चे को आपके द्वारा सिखाई गई सीखों और परिवर्तनों को समझने की आवश्यकता होती है जो वे अपने आसपास अनुभव कर रहे हैं। जैसे ही वे यौवन (puberty) के चरण में प्रवेश करते हैं, उनके साथ रहना अधिक महत्वपूर्ण हो जाता है। यह कुछ प्रमुख शारीरिक और हार्मोनल परिवर्तनों का समय है, जो कुछ प्रश्न उत्पन्न कर सकते हैं, जिनका ठीक से उत्तर दिया जाना है, लेकिन मुख्य प्रश्न यह है कि यौवन क्या है और किस उम्र में यौवन शुरू होता है?

यौवन क्या है? यह किस उम्र में शुरू होता है?

यौवन वह समय है जब एक लड़का या लड़की जैविक और शारीरिक परिवर्तनों की एक श्रृंखला से गुजरते हैं। जीवन में इस चरण का अनुभव सभी ने किया है। यह बचपन से किशोरावस्था तक का संक्रमण है। इस चरण के दौरान किशोर अपने शरीर और हार्मोन के स्तर में कुछ बदलावों से गुजरते हैं।

लड़कियों में यौवन अक्सर 8 से 13 साल की उम्र के बीच  शुरू हो जाता है । हालांकि हर लड़की की अपनी अनूठी यात्रा होती है और प्रत्येक लड़की में यौवन का समय अलग होता है, यह निश्चित रूप से लड़कियों में कुछ हार्मोनल, शारीरिक और भावनात्मक परिवर्तन लाता है जो बिल्कुल सामान्य हैं। किसी भी शारीरिक परिवर्तन को देखने के लिए 8 वर्ष की आयु वास्तव में युवा लगती है। इसलिए, अपनी युवा लड़कियों के साथ यौवन के चरणों और महिला प्रजनन प्रणाली पर चर्चा करना थोड़ा अजीब है, लेकिन उन्हें सबसे अच्छी तरह से तैयार करने के लिए परिवर्तन होने से पहले इन विषयों पर उन्हें शिक्षित करना महत्वपूर्ण है। इससे उन्हें परिवर्तनों को समझने और स्वीकार करने में अधिक सुविधा होगी।

लड़कियों में यौवन के संकेत :

स्तन विकास:

यह ज्यादातर लड़कियों में यौवन का पहला दिखाई देने वाला संकेत है। “ब्रेस्ट बड्स”, निपल्स के नीचे छोटे-छोटे उभार, दिखने लगते हैं । बाएं और दाएं स्तन का अलग-अलग गति से बढ़ना सामान्य है। ब्रेस्ट बड्स का कोमल या दर्द होना भी सामान्य है, आमतौर पर समय के साथ इसमें सुधार होता है। इस स्तर पर पहनने के लिए स्पोर्ट्स ब्रा एक अच्छा विकल्प हो सकता है।

शरीर के बाल(प्यूबिक हेयर):

लगभग 15-20% लड़कियों में प्यूबिक बाल यौवन का पहला संकेत हो सकते हैं। ये बाल बाहों के नीचे, जननांग क्षेत्रों के आसपास और पैरों पर बढ़ने लगते हैं। यह लड़कियों में यौवन का एक और संकेत है।

योनि स्राव(वैजिनल डिस्चार्ज):

यह शरीर में एस्ट्रोजन हार्मोन की बढ़ती संख्या का संकेत है। लड़कियों को थोड़ी मात्रा में स्पष्ट या सफेद योनि स्राव का अनुभव होता है जो उनकी पहली माहवारी से लगभग 6-12 महीने पहले शुरू होता है। इसे लड़कियों में यौवन का संकेत माना जाता है।

पीरियड्स (माहवारी):

लड़कियों को आमतौर पर ब्रेस्ट बड्स के विकसित होने के 1-2 साल के भीतर पहली बार पीरियड्स आ जाते हैं। यह जानना जरूरी है कि पीरियड्स बड़े होने की एक सामान्य प्राकृतिक प्रक्रिया है। पहले कुछ महीनों के दौरान यह अनियमित हो सकता है क्योंकि शरीर कुछ तेज शारीरिक परिवर्तनों के अनुकूल हो रहा होता है। सामान्य मासिक धर्म चक्र 21 दिन से 35 दिन तक का हो सकता है। (मासिक धर्म के दौरान कौन से खाद्य पदार्थ मदद कर सकते हैं?) माहवारी के साथ ऐंठन और दर्द सामान्य है। चिंता करने की कोई बात नहीं है। लेकिन अगर मासिक धर्म में ऐंठन गंभीर है और स्कूल और सामान्य दिन-प्रतिदिन की गतिविधियों को प्रभावित कर रही है, तो स्त्री रोग विशेषज्ञों से बात करें।

यौवन चरण के दौरान कुछ अन्य परिवर्तन:

मस्तिष्क

जाहिर तौर पर लड़कियों को यौवन के दौरान तेजी से बदलाव का सामना करना पड़ता है और इस तरह उनके मस्तिष्क को समायोजित होने के लिए समय की आवश्यकता होती है। (बच्चों की दिमागी शक्ति बढ़ाने के लिए शीर्ष 10 खाद्य पदार्थ) यह उनके व्यवहार और सामाजिक कौशल को प्रभावित करता है। 

हड्डियाँ 

यदि लड़कियां अधिक उम्र में यौवन में प्रवेश करती हैं तो उनकी हड्डियों का घनत्व कम हो सकता है और जीवन में आगे भी हड्डियों की समस्या का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए, हड्डियों के स्वास्थ्य में निवेश करने का यह आदर्श समय है। अपने आहार में कैल्शियम और विटामिन डी से भरपूर खाद्य पदार्थों को शामिल करने से उन्हें जीवन भर के लिए मजबूत हड्डियां प्राप्त करने में मदद मिल सकती है। (विटामिन डी कैल्शियम को अवशोषित करने में कैसे मदद कर सकता है?)

वजन

वजन में वृद्धि हो सकती है। (वजन की समस्याओं का प्रबंधन कैसे करें?) यौवन के दौरान मस्तिष्क अंडाशय को महिला हार्मोन एस्ट्रोजन बनाने का निर्देश देता है। यह हार्मोन एक लड़की के शरीर के आकार और आकार में बदलाव के लिए जिम्मेदार होता है। ऊपरी बाहों, जांघों और पीठ के आसपास चर्बी देखी जा सकती है। कूल्हे (हिप्स) चौड़े और सुडौल हो जाते हैं। उनके पेट, आंत जैसे अंग भी इस चरण के दौरान आकार में बढ़ जाते हैं। इस समय अपने आहार में प्रोटीन, खनिज, कैल्शियम और आयरन युक्त अधिक स्वस्थ और पौष्टिक खाद्य पदार्थों को शामिल करना चाहिए।

ऊंचाई

यौवन के दौरान लड़कियां लंबी हो सकती हैं। युवावस्था में प्रवेश करते समय लड़कियों की ऊंचाई में प्रति वर्ष 7-8 सेमी की वृद्धि देखी जा सकती है। लड़कियों की हाइट में पीक ग्रोथ उनके पीरियड्स शुरू होने से 6-12 महीने पहले देखी जा सकती है।

नींद के पैटर्न

यौवन के दौरान बच्चों में देर रात तक जागने और सुबह अधिक देर तक सोने का एक पैटर्न विकसित होता है। (कौन से खाद्य पदार्थ स्वाभाविक रूप से बेहतर नींद लेने में मदद कर सकते हैं?) ऐसा इसलिए होता है क्योंकि उनके शरीर को मेलाटोनिन, नींद को बढ़ावा देने वाले हार्मोन का उत्पादन करने में समय लगता है। नींद के शोध से पता चलता है कि एक किशोर को कम से कम 8 से 9 घंटे की नींद लेनी चाहिए। लेकिन उनमें से ज्यादातर को सिर्फ 6-7 घंटे ही मिलते हैं।

त्वचा और बाल

यौवन अवस्था के दौरान तेल ग्रंथियां अधिक सक्रिय हो जाती हैं। इससे लड़कियों को मुंहासों की समस्या का सामना करना पड़ता है। (बच्चों के मुंहासों का इलाज कैसे करें?) कभी-कभी यह केवल एक सामयिक दाना होता है जो प्रत्येक मासिक धर्म से ठीक पहले होता है। लेकिन कुछ किशोरों के लिए यह एक स्थायी स्थिति हो सकती है जिसे मुँहासे के रूप में जाना जाता है। ज्यादातर तैलीय त्वचा और मुंहासों की समस्या साथ-साथ चलती है। कई किशोर लड़कियों को हथेली, पैरों के तलवों, बाहों के नीचे और खोपड़ी पर अत्यधिक पसीने का सामना करना पड़ता है। कुछ किशोर लड़कियों के यौवन में प्रवेश करते ही बालों के झड़ने का अनुभव होता है। (बच्चों में बाल गिरने का मूल कारण क्या है?) हालांकि यह इलाज योग्य है और स्वस्थ आहार का पालन करके इसे प्रबंधित किया जा सकता है।

किशोरों में पीसीओएस (PCOS)

पीसीओएस का मतलब पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम है। यह आजकल की टीनएज लड़कियों में एक आम बात हो गई है। महिलाएं एक महिला हार्मोन एस्ट्रोजेन बनाती हैं । लेकिन वह पुरुष हार्मोन टेस्टोस्टेरोन भी कम मात्रा में बनाती है। पीसीओएस वाली लड़कियां इन पुरुष हार्मोनों का थोड़ा अतिरिक्त उत्पादन करती हैं। हालांकि यह स्पष्ट नहीं है कि पीसीओएस का वास्तव में क्या कारण है, ऐसा कहा जाता है कि आपको अपने परिवार से जो जीन विरासत में मिला है, वह इस हार्मोन असंतुलन का मुख्य कारण है। अगर मां को पीसीओएस है, तो बेटियों को इसके होने का खतरा अधिक होता है।

संकेत और लक्षणों में शामिल हैं: अनियमित मासिक धर्म, बहुत भारी और दर्द पूर्ण मासिक धर्म, चेहरे पर बालों का बढ़ना, मुंहासे और वजन की समस्या। अगर आपकी लड़की को इनमें से कोई भी समस्या है, तो अपने स्त्री रोग विशेषज्ञ से सलाह लें। पीसीओएस इलाज योग्य है और आहार और व्यायाम के मामले में जीवनशैली में कुछ बदलाव करके इसे ठीक किया जा सकता है।

पोषक तत्व (nutrients) जो यौवन के दौरान मदद कर सकते हैं:

प्रोटीन

लड़कियों को यौवन के दौरान पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन के साथ संतुलित भोजन की आवश्यकता होती है। यह मांसपेशियों और ऊतकों की वृद्धि और मरम्मत में मदद करता है। यह एंजाइम और हार्मोन भी उत्पन्न करता है। प्रोटीन युक्त आहार उन्हें पूरे दिन ऊर्जावान महसूस करने में मदद करते हैं। (मैं अपने बच्चों को आवश्यक प्रोटीन कैसे प्रदान कर सकता हूँ?)

आयरन 

कई लड़कियों को आयरन की कमी और एनीमिया हो जाता है। (आयरन की कमी को कैसे दूर करें?) असंतुलित आहार के कारण आयरन की कमी हो सकती है । आरडीए (अनुशंसित आहार भत्ता) दिशानिर्देश 2020 के अनुसार, एक लड़की के लिए आयरन  की जरूरत 28-30mg/d के बीच होती है। एक लड़की को अपने मासिक धर्म के नुकसान को बहाल करने के लिए यौवन के दौरान अधिक आयरन की आवश्यकता होती है। यह मांसपेशियों की वृद्धि में मदद करता है और रक्त की मात्रा भी बढ़ाता है।

कैल्शियम

लड़कियों को प्रतिदिन कम से कम 800-1000mg कैल्शियम की आवश्यकता होती है। (कैल्शियम कैसे मजबूत हड्डियों के निर्माण में मदद करता है?) उन्हें मजबूत हड्डियों के निर्माण के लिए इसकी आवश्यकता होती है जो बाद में जीवन में उनकी मदद कर सकते हैं। कैल्शियम की कमी से ऑस्टियोपोरोसिस होने का खतरा बढ़ सकता है (ऐसी स्थिति जिसमें हड्डियां कमजोर हो जाती हैं और आसानी से टूट सकती हैं)। विटामिन डी का सेवन भी उतना ही जरूरी है क्योंकि यह कैल्शियम के अवशोषण में मदद करता है।

ज़िंक 

किशोर लड़कियों के लिए के लिए आरडीए 9-12 मिलीग्राम / दिन ज़िंक उच्चतम है। जिंक की कमी से लड़कियों में विकास मंदता हो सकती है। यह यौवन के दौरान अस्थि खनिज करण (bone mineralization)  को भी बढ़ावा देता है और हड्डियों के घनत्व (bone density ) को बढ़ाने में मदद करता है।

विटामिन ए

यह एक लड़की के आहार में शामिल करने के लिए सबसे आवश्यक पोषक तत्व है। यह यौवन के दौरान गर्भाशय को मजबूत करने में मदद करता है। इसके अलावा यह स्वस्थ त्वचा और विकास को बढ़ावा देता है। यह ऊतक (tissues) की मरम्मत करता है और दृष्टि में भी मदद करता है। (हम खाद्य पदार्थों से विटामिन ए को कैसे अवशोषित कर सकते हैं?)

उपयोगी जड़ी बूटियां/ हर्ब्स :

मंजिष्ठा

आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों को उनके उपचार और उपचार गुणों के लिए सदियों से जाना जाता है। मंजिष्ठा अपने रक्त शुद्ध करने वाले गुणों के लिए जानी जाने वाली जड़ी-बूटियों में से एक है। इसके अलावा यह पिंपल्स के इलाज के लिए जाना जाता है, मूड को बढ़ाता है, इस दौरान सुचारू रक्त प्रवाह विकसित करता है और मासिक धर्म के दर्द को कम करता है और पीरियड्स को नियंत्रित करने और पीसीओएस के इलाज में मदद करता है।

नीम

नीम मुंहासों की समस्या के इलाज में अविश्वसनीय रूप से प्रभावी है। जैसे-जैसे लड़कियां किशोरावस्था में प्रवेश करती हैं, उनकी तेल ग्रंथियां अधिक सक्रिय हो जाती हैं और मुंहासों का कारण बनती हैं। नीम के एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण किसी भी तरह के पिंपल्स, ब्लैक या व्हाइट हेड्स पर सकारात्मक प्रभाव डालते हैं। यह मुंहासे पैदा करने वाले बैक्टीरिया के हानिकारक प्रभावों को नियंत्रित करता है। इसमें एंटीऑक्सिडेंट और औषधीय गुण भी होते हैं जो रक्त को शुद्ध करने में मदद करते हैं और नियमित अवधि को बढ़ावा देते हैं। नीम के पत्तों का सेवन करने से पीरियड्स के दर्द को ठीक करने में मदद मिल सकती है क्योंकि यह एक बेहतरीन दर्द निवारक है। (हमें एंटीऑक्सीडेंट की आवश्यकता क्यों है?)

हल्दी

हल्दी (हल्दी) के औषधीय लाभ हैं जो कई चिकित्सीय स्थितियों का इलाज करने में मदद करते हैं। यह हार्मोन को संतुलित करने और लड़कियों में मासिक धर्म चक्र को विनियमित करने में मदद करता है। हल्दी विटामिन ए, थायमिन (बी1), राइबोफ्लेविन (बी2) और विटामिन सी से भी भरपूर होती है और किशोर लड़कियों के लिए एक उत्तम प्रतिरक्षा बूस्टर भोजन के रूप में काम करती है। करक्यूमिन पित्ताशय की थैली में पित्त (bile in gallbladder ) के उत्पादन को उत्तेजित करता है, इसका उपयोग यकृत (liver ) द्वारा विषाक्त पदार्थों (toxins ) को खत्म करने और रक्त को शुद्ध करने के लिए किया जाता है जो पीसीओएस को ठीक करने में मदद करता है। (बच्चों के लिए इम्युनिटी पाउडर)

मेवे और बीज

मेवे और बीज प्रोटीन, एंटीऑक्सिडेंट, फाइबर और विटामिन और खनिजों से भरे होते हैं। इनमें स्वस्थ वसा भी शामिल हैं जिनमें सूजन-रोधी प्रभाव होते हैं और शरीर की कोशिकाओं को स्वस्थ संरचना प्रदान करते हैं। ये सभी पोषक तत्व हार्मोन को संतुलित करने के लिए आवश्यक और फायदेमंद होते हैं। अलसी के बीज, कद्दू के बीज, सूरजमुखी के बीज, बादाम और हेज़लनट्स को नियमित रूप से खाने से पीसीओएस के लक्षणों को कम करने में मदद मिल सकती है।

अश्वगंधा

अश्वगंधा एक एडाप्टोजेन जड़ी बूटी है। यह एक उत्कृष्ट तनाव निवारक है और किशोर लड़कियों के लिए बेहद मददगार हो सकता है। शोधकर्ताओं का सुझाव है कि इसकी जड़ में नींद पैदा करने वाले यौगिक होते हैं जो स्वाभाविक रूप से बेहतर नींद लेने में मदद कर सकते हैं। यह एसिटाइलकोलाइन के स्तर को बढ़ाने के लिए भी प्रेरित करता है, जो मस्तिष्क की शक्ति को बढ़ाने से जुड़ा सबसे महत्वपूर्ण न्यूरोट्रांसमीटर है। (बच्चों के लिए अश्वगंधा के स्वास्थ्य लाभ)

पकाने की विधि: छिपी जड़ी बूटियों और नट्स के साथ गेहूं बेरी कुकीज़ (Recipe of Wheat Berry Cookies)

आइए सब्जियों, जड़ी-बूटियों और नट्स के ‘छिपे हुए’ पोषण से हर व्यंजन को स्वादिष्ट और पौष्टिक बनाते हैं।

Recipe of Wheat Berry Cookies by Iyurved

Iyurved के गुप्त स्वास्थ्य घटक- डेली न्यूट्रिशन स्प्रेड से बनी रेसिपी देखें।

बच्चों द्वारा पसंद किए जाने वाले अधिक स्वस्थ व्यंजनों की जाँच करें।

उत्पाद/प्रोडक्ट्स:

हमें बच्चों के लिए पौष्टिक और स्वादिष्ट उत्पादों की अपनी श्रृंखला पेश करते हुए खुशी हो रही है !!

हम जानते हैं कि प्रतिदिन स्वस्थ भोजन तैयार करना और खिलाना एक बहुत बड़ा काम है, और भी कठिन है जब बच्चे अपने द्वारा चयनित भोजन खाने वाले होते हैं। बच्चे कुछ खाद्य पदार्थ और प्रारूप को पसंद करते हैं। बच्चों को हर रोज कड़वी आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां, तरह-तरह की सब्जियां, फल, मेवा और बीज खिलाना आसान नहीं होता।

आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के साथ मिश्रित, यह अनूठा उत्पाद बिना किसी झंझट के बच्चों को प्रतिरक्षा(इम्युनिटी), मस्तिष्क के विकास (ब्रेन डेवलपमेंट) , हड्डियों की मजबूती(बोन स्ट्रेंथ) और समग्र विकास (ओवरॉल ग्रोथ) के लिए दैनिक पोषण (डेली न्यूट्रिशन) प्रदान करने का एक आसान उपाय है।


Teens Hormone Balance Chocolate Spread

आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के साथ भारत का पहला स्वादिष्ट किड्स न्यूट्रिशन।

बच्चों और किशोरों के लिए  हॉर्मोन बैलेंस चॉकलेट स्प्रेड | 0% संरक्षक | 0% रिफाइंड चीनी | 0% पाम तेल | मंजिष्ठा , हल्दी और नीम के साथ  | यहाँ आर्डर करें

बच्चों के लिए दैनिक पोषण: प्रतिरक्षा, मस्तिष्क विकास, हड्डियों और समग्र विकास के लिये

(शिपिंग केवल भारत और सिंगापुर में )


Join Facebook group for FREE CONSULTATION

Foods and Remedies by a Nutrition Expert

और ब्लॉग पढ़ें:

हॉर्मोन असंतुलन को प्रबंधित करने के लिए भोजन

hormonal imbalance

भोजन के विकल्प सीधे शरीर में हार्मोन को प्रभावित कर सकते हैं। मैदा , ब्रेड, पास्ता, पिज्जा, सफेद चावल जैसे रिफाइंड या प्रोसेस्ड कार्ब्स का सेवन सीधे शरीर में ब्लड शुगर को बढ़ा सकता है और अंततः हार्मोन असंतुलन का परिणाम होता है। इसके विपरीत, साबुत अनाज जैसे अमरंथ, जौ या अन्य उच्च फाइबर खाद्य पदार्थ रक्त शर्करा में वृद्धि को नियंत्रित कर सकते हैं और हार्मोन स्वास्थ्य को ठीक करके तनाव का प्रबंधन कर सकते हैं। फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ तनाव को दूर करने के लिए उपयुक्त होते हैं क्योंकि वे शरीर में सेरोटोनिन नामक मस्तिष्क को शांत करने वाला रसायन छोड़ते हैं। हॉर्मोन असंतुलन के लिए भोजन मदद कर सकते हैं | 

फाइबर के अलावा, शोध में पाया गया है कि मैग्नीशियम का सेवन बच्चों में तनाव, चिंता और हार्मोन असंतुलन को प्रबंधित करने में मदद कर सकता है। हॉर्मोन असंतुलन के लिए भोजन में मैग्नीशियम सबसे उत्तम है | मैग्नीशियम तंत्रिका संचरण और तंत्रिका-मांसपेशियों के समन्वय के लिए जिम्मेदार है। यह एक बच्चे में अत्यधिक उत्तेजना से बचाता है (जो दर्दनाक हो सकता है)। इस बात पर पर्याप्त शोध चल रहा है कि कैसे मैग्नीशियम तंत्रिका संबंधी विकारों और हार्मोन असंतुलन को ठीक करने या रोकने में मदद कर सकता है।

हार्मोन को संतुलित कैसे रखें?

परंपरागत रूप से, यदि हम सदियों पहले पीछे मुड़कर देखें, तो सेंधा नमक या एप्सम नमक का उपयोग शरीर की नसों को ठीक करने, आराम करने और शांत करने के लिए किया जाता रहा है। एप्सम नमक वास्तव में नमक नहीं है बल्कि मैग्नीशियम सल्फेट नामक खनिज है। इस खनिज में शरीर या पैरों को भिगोने से त्वचा के माध्यम से अच्छी मात्रा में अवशोषण होता है जिसके परिणामस्वरूप नसों और मांसपेशियों को आराम मिलता है।(हॉर्मोन असंतुलन को प्रबंधित करने के लिए भोजन)

अध्ययनों से संकेत मिलता है कि लगभग 50% बच्चे दैनिक मैग्नीशियम की आवश्यकता को पूरा नहीं करते हैं। मैग्नीशियम शरीर में पाए जाने वाले चार प्रचुर मात्रा में खनिजों में से एक है। तो, इस खनिज की कोई भी कमी दैनिक जीवन में आसानी से दिखाई देगी क्योंकि इसके परिणामस्वरूप हार्मोन असंतुलन होता है। मैग्नीशियम हड्डियों के निर्माण, रक्त प्रवाह को बनाए रखने, तनाव को कम रखने और हार्मोन के स्वास्थ्य के लिए  महत्वपूर्ण है। यह उन लड़कियों को भी राहत देता है जो मासिक धर्म में ऐंठन, पैर में ऐंठन और चिड़चिड़े मूड से पीड़ित हैं। (लड़कियों में यौवन)

अस्थमा से पीड़ित बच्चों के लिए, जो खतरनाक वायु गुणवत्ता स्तरों के कारण बढ़ रहा है, मैग्नीशियम मदद कर सकता है। इस अद्भुत खनिज का शांत प्रभाव पड़ता है और इसलिए यह बच्चों में अति सक्रियता और ध्यान की कमी को कम करने में सहायता करता है। शरीर में मिनरल का भंडार बनाए रखने के लिए मैग्नीशियम का दैनिक सेवन आवश्यक है। आहार में मैग्नीशियम युक्त खाद्य पदार्थों को शामिल करना हार्मोन को संतुलित करने का सबसे अच्छा तरीका है। (हार्मोन असंतुलन को ठीक करने वाले फल)

हार्मोन असंतुलन को प्रबंधित करने के लिए भोजन:

पालक, बीन्स, चिया सीड, सूरजमुखी के बीज, जीरा, साबुत गेहूं का आटा, दूध, दही, बादाम, मूंगफली, काजू, क्विनोआ हॉर्मोन असंतुलन के लिए भोजन हैं | सिर्फ 1 साबुत गेहूं की रोटी / पराठा इस खनिज की 15% दैनिक आवश्यकता को पूरा कर सकता है। साथ ही 10 बादाम या काजू 10% और 1 कप पालक 20% देंगे। 

हॉर्मोन असंतुलन के लिए भोजन
Magnesium to control hormonal imbalance
  • मैग्नीशियम हमारे शरीर में विटामिन-डी को अवशोषित करने में भी मदद करता है, जो बदले में हमारी हड्डियों में कैल्शियम को अवशोषित करने में मदद करता है। इसलिए, इस शक्तिशाली खनिज की कमी से सीधे हड्डियां, दांत, बाल और नाखून कमजोर हो जाएंगे। कमजोर हड्डियां (सुस्ती) बच्चों में जलन और तनाव को और बढ़ा देती हैं।
  • माइग्रेन सबसे आम न्यूरो विकारों में से एक है जिसमें मैग्नीशियम के सेवन से भी सुधार हुआ है।
  • चिंता और अवसाद ने दुनिया भर में करोड़ों लोगों को प्रभावित किया है। चिकित्सा के अलावा, मैग्नीशियम के आहार सेवन को संभावित उपचार के रूप में पेश किया गया है।

इसलिए हां! मैग्नीशियम हर बच्चे के लिए जरूरी है। अगली बार जब आपके बच्चे की मांसपेशियां थकी हुई हों या ऐंठन हो, तो पानी के साथ मैग्नीशियम साल्ट का इस्तेमाल करके उनके पैरों को डुबोएं और टेबल सॉल्ट को टेबल पर ही रहने दें!

क्विनोआ मटर खाने की रेसिपी:

आइए हर भोजन को जड़ी-बूटियों और मेवों से स्वादिष्ट और पौष्टिक बनाने का प्रयास करें।

Iyurved के गुप्त स्वास्थ्य घटक- डेली न्यूट्रिशन स्प्रेड से बनी रेसिपी देखें।

बच्चों द्वारा पसंद किए जाने वाले अधिक स्वस्थ व्यंजनों की जाँच करें।

उत्पाद/प्रोडक्ट्स:

हमें बच्चों के लिए पौष्टिक और स्वादिष्ट उत्पादों की अपनी श्रृंखला पेश करते हुए खुशी हो रही है !!

हम जानते हैं कि प्रतिदिन स्वस्थ भोजन तैयार करना और खिलाना एक बहुत बड़ा काम है, और भी कठिन है जब बच्चे अपने द्वारा चयनित भोजन खाने वाले होते हैं। बच्चे कुछ खाद्य पदार्थ और प्रारूप को पसंद करते हैं। बच्चों को हर रोज कड़वी आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां, तरह-तरह की सब्जियां, फल, मेवा और बीज खिलाना आसान नहीं होता।

आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के साथ मिश्रित, यह अनूठा उत्पाद बिना किसी झंझट के बच्चों को प्रतिरक्षा(इम्युनिटी), मस्तिष्क के विकास (ब्रेन डेवलपमेंट) , हड्डियों की मजबूती(बोन स्ट्रेंथ) और समग्र विकास (ओवरॉल ग्रोथ) के लिए दैनिक पोषण (डेली न्यूट्रिशन) प्रदान करने का एक आसान उपाय है।


Teens Hormone Chocolate Spread

आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के साथ भारत का पहला स्वादिष्ट किड्स न्यूट्रिशन।

बच्चों और किशोरों के लिए  हॉर्मोन बैलेंस चॉकलेट स्प्रेड | 0% संरक्षक | 0% रिफाइंड चीनी | 0% पाम तेल | मंजिष्ठा , हल्दी और नीम के साथ  | यहाँ आर्डर करें

बच्चों के लिए दैनिक पोषण: प्रतिरक्षा, मस्तिष्क विकास, हड्डियों और समग्र विकास के लिये

(शिपिंग केवल भारत और सिंगापुर में )


छोटे बच्चों और किशोरों के माता-पिता के लिए बच्चों के पोषण और स्किनकेयर समुदाय में शामिल हों।

पोषण विशेषज्ञ द्वारा अनुशंसित खाद्य पदार्थ और उपचार।


और ब्लॉग पढ़ें:

Nutritional Needs in Adolescence

Nutritional needs in Adolescence

How healthy or disease free your adulthood will be, depends on the foods you consumed during your early childhood and teenage days. Certainly, children go through various stages of growth and development from infant (0 to 1 years old), toddler (1 to 3 years old), early childhood (4 to 8 years old), middle childhood (9 to 11 years old) to adolescence (12 to 18 years old) . That is why at each stage, you will observe various mental and physical developments in your child. How are nutritional needs in adolescence different from earlier years? (Power foods for kids of all ages)

What is Teenage?

Teenage is the time between thirteen to nineteen years of age in a person’s life. And this is the time for some major physical, mental and hormonal changes. Since there are so many changes taking place in the body, it becomes very important for parents to know what are daily nutritional requirements for teenagers. So when kids enter their teens, parents should understand how nutritional needs in adolescence are different from preteen years. (What is Puberty?)

Growth and Development during ADOLESCENT years:

Teenagers undergo major physical development during their puberty phase. These physical changes are regulated by changes in the levels of hormones which are produced by the pituitary gland: luteinizing hormone (responsible for menstrual cycle in girls) and follicle-stimulating hormone (responsible for reproductive system in both girls and boys). As a result, in the early puberty phase, luteinizing hormone and follicle-stimulating hormone increase, resulting in major physical changes including weight gain, outbursts of acne, height gain and behavioral changes like anxiety, hyper-activity and short-temperedness. (Fruits for teens?)

WHAT ARE THE Nutritional needs IN ADOLESCENCE?

Teenagers tend to make more food choices on their own as they become more independent and are often influenced by their peers. So it becomes parent’s responsibility to provide them with good examples and nutritious foods and minimize the consumption of junk or packaged food. (Kids can deplete their calcium by eating junk food.)

Calorie requirements:

Due to the growth spurt of puberty, there is a surge in appetite around the age of ten in girls and twelve in boys which leads to increase in daily calories requirement during this time. Calories are the measurement used to express the energy delivered by food. The body of an adolescent needs more calories during than at any other time of life. (What is growing leg pain?) On average, boys require 2,800 calories per day while girls require 2,200 calories per day.

Essential Nutrients:

Due to so many changes taking place in the body, there are daily nutrients and habits that kids need to keep themselves happy and healthy. Nutritional needs in adolescence includes all the essential macronutrients and micronutrients in the right quantity. (What is balanced diet?)  

Macronutrients:

Protein: Adolescent needs a balanced meal with adequate amounts of protein during puberty as protein helps in growth and repair of muscles and tissues. It also generates enzymes and hormones. Protein rich diets help them to feel energetic throughout the day. Nuts, seeds, chicken, eggs, fish and cheese are a few high protein foods. (Top nuts and seeds for protein)

Carbohydrates: They are the biggest source of energy for teenagers. Almost 60% of energy (calories) for the day must come from carbohydrate foods. They provide instant energy and keep the kids on their toes. Fruits, vegetables, nuts, seeds, whole grains and sugar are rich in carbohydrates. (Food for immunity?)

Dietary Fat: Fat should make up no more than 30% of the diet. A teenager who indulges in a fat-heavy diet is going to put on weight, even if he or she is active. Dietary fat contains varying proportions of three types:

  • Monounsaturated fat is the healthiest kind of fat and is found in olives, olive oil, peanuts, peanut, peanut butter, cashews, walnuts, walnut oil and canola oil.
  • Polyunsaturated fat is found in corn oil, safflower oil, sunflower oil, soybean oil, cottonseed oil, and sesame-seed oil.
  • Saturated fat is the most cholesterol laden of the three and is found in meat and dairy products like beef, pork, lamb, butter, cheese, cream, egg yolks, coconut oil, and palm oil. (Natural sources of saturated fats?)

Your family’s intake of saturated fat should not more than 10% of your total daily calories. The other 20% of daily calories from dietary fat should come equally from the two unsaturated kinds of fat.

Micronutrients:

Iron: Iron is essential for teens, especially for girls as they lose more of it once menstruation starts. Iron rich foods such as meat, fish, poultry, green leafy vegetables, nuts and seeds should be  teenagers on a daily basis.(How iron deficiency affects children?)

Calcium and Vitamin D: Adolescent needs calcium to build strong bones which can help them later in life. Deficiency of calcium can increase the risk of developing osteoporosis (a condition in which bones become weak and can easily break). Consumption of vitamin D is equally important as it helps in absorption of calcium. Calcium rich foods include low-fat milk, other dairy foods and dark green vegetables, along with fortified foods like fortified juice and cereal. (Why calcium and vitamin D are important?)

Vitamins: Vitamins are water-soluble or fat-soluble. Leafy vegetables, animal products, nuts & seeds, vegetable oils, dairy foods are rich in fat-soluble vitamins (vitamin A, D, E and K ). Whereas nuts & seeds, fruits, vegetables, grains, milk and dairy foods are high in water-soluble vitamins (vitamin C, the B vitamins). (What foods have which vitamins?

Minerals: Minerals include calcium, iron, sodium, phosphorus, magnesium, chloride and Sulphur are found in nuts, seeds, shellfish, chicken, eggs, beans, cocoa, avocados, berries, yogurt and cheese. (Why calcium?)


Recipe: Pumpkin and Millet Pancake with hidden herbs and nuts:

Let’s make every dish tasty and nutritious by ‘hidden’ nutrition of veggies, herbs and nuts.

Millet pumpkin pancake by Iyurved

Check the Recipe made with Iyurved’s secret health ingredient- DAILY NUTRITION spread.

Check more healthy recipes loved by kids.



Teens Hormone Chocolate Spread

India’s First Tasty Kids Nutrition fortified with Ayurvedic herbs.

Kids & Teens Hormone Balance Chocolate Spread | 0% preservatives | 0% refined sugar | 0% Palm oil | Fortified with MANJISTHA, TURMERIC, NEEM | ORDER |

Check more products for: Immunity, Gut health, Digestion, Eyesight, Weight, Brain development, Sleep, Bones and Overall growth

(shipping in India and Singapore only)

Join Iyurved group for FREE CONSULTATION

Foods and Remedies by a Nutrition Expert

Read more blogs: