10 AMAZING HEALTH BENEFITS OF BOTTLE GOURD/ LAUKI

Right since our childhood, we have always heard that green vegetables are the healthiest and it is important to consume them every day. Amongst them, bottle gourd/lauki is one and it’s known for its nutritional powerhouse and health benefits. However, when it comes to babies and children, we always think twice before giving them any food. There are many parents who wonder if they may give their newborn bottle gourd or lauki. The answer is yes, you can totally give them. So, let’s look into the nutritional information and the amazing health benefits of bottle gourd and its juice for babies and toddlers.

WHEN CAN I GIVE MY BABY BOTTLE GOURD FOR THE FIRST TIME?

Bottle gourd is a simple to digest vegetable that can be given to kids as young as six months old. When you first start, use steamed bottle gourd puree. Begin with 1 tablespoon of bottle gourd puree and progressively increase the amount as the baby grows. Of all the vegetables, this is perhaps the least reactive. 

As it’s easily digestible, it is preferred for babies, the elderly, and the sick. The majority of the bottle gourd is water, with the rest containing important vitamins and minerals.

Bottle gourd – Nutritional facts

Bottle gourd contains 15 calories per 100 g with 96 percent water content. It is high in dietary fibre, vitamin C, riboflavin, zinc, thiamine, iron, magnesium, and manganese, and low in saturated fat and cholesterol. (Food with B vitamins and why do you need them?)

Nutritional information of bottle gourd
Nutritional information of Bottle gourd / Lauki

10 Health benefits of bottle gourd for babies and toddlers:

Here are proven health benefits of bottle gourd  for babies and toddlers:

1. Great source of vitamins and minerals

Bottle gourd is an excellent source of vitamins and minerals such as vitamin C, vitamin B, vitamin A, vitamin E and iron, folate which are important for a child’s growth and development. Parents must ensure that their children, especially infants, have a well-balanced diet to avoid nutritional deficiencies. Therefore, feeding your baby bottle gourd is an excellent option to start with. 

2. Treats constipation and diarrhea

Bottle gourd acts as a natural laxative and helps to alleviate constipation and diarrhea in babies. This is due to the vegetable’s high water and fibre content, which aids in the cleaning of the digestive tract and facilitates bowel movement. (Home remedies and foods for constipation in kids)

3. Reduces acidity in babies

The bottle gourd has long been used to treat stomach ulcers. When a baby has indigestion, they can develop acidity. In most cases, indigestion causes the stomach to create more acid than is required, resulting in acidity. Bottle gourd can help to decrease this.

4. perfect thirst quencher

It is a great thirst quencher for kids because it contains roughly 96 percent water. It also prevents fatigue and keeps the body cool and rejuvenated in summers by lowering the body’s heat. ( What is the right time to introduce water for baby?)

5.Excellent deworming food for babies

Bottle gourd seeds are one of the traditional remedies for worms in the intestine. Bottle gourd seeds can be boiled, ground into a paste, and given to babies (not more than 2 teaspoons). (Deworming foods for kids)

6. Good for urinary infection

Infections of the urinary tract are fairly prevalent in babies. One of the causes for this is because the baby’s body does not have enough water. Infections can occur if there isn’t enough water to clear the bacteria out of the urinary tract. Urinary tract infections can be considerably reduced by feeding your baby bottle gourd on a regular basis.

7.Protects liver

Infants are more likely to develop liver illnesses such as jaundice or hepatitis. Feeding bottle gourd which is rich in vitamin C to your babies helps to remove toxins and also protects the kidneys and liver from oxidative damage.

8. Good for heart health

Bottle gourd/lauki has a store of essential minerals and trace elements that help in maintaining good heart health in babies as well as adults. Its low sodium and high potassium content help to lower cholesterol levels, control blood pressure and promote adequate blood flow to the heart.

9. Great stress reliever 

One of the health benefits of bottle gourd is its inherent capacity to relieve stress. Bottle gourd has a significant quantity of choline, a neurotransmitter that aids in the improvement of brain functioning and the prevention of stress, depression, and other mental illnesses. This has a relaxing impact on both children and adults.

10. Promotes skin health

The high antioxidant – Vitamin C in bottle gourd helps to treat skin allergies and rashes in kids and create a youthful glow. Not only does including this vegetable in your diet help but putting its juice to your face offers you an instant, healthy glow. (What are the causes for acne in kids and how to treat them?)

Health benefits of bottle gourd juice for babies and toddlers:

Not just the vegetable but also its juice offers numerous health benefits. Bottle gourd meaning in hindi – lauki is quite popular for its juice.  Let’s look into the benefits of lauki juice.

  1. The benefits of lauki juice are not confined to the body and skin; it is also beneficial to the hair. Premature hair greying in children is most common these days and is mainly due to nutritional deficiencies. Early in the morning, drinking a glass of bottle gourd juice can help prevent the formation of grey hair. ( Reason for hair fall in kids)
  2. Sesame oil mixed with the juice is an excellent remedy for insomnia. It’s a good idea to massage the scalp every night with this preparation. (not recommended for babies below 1 year) 
  3. If your kids suffer from mental illness, epilepsy or stomach acidity or indigestion as well as mouth ulcers then bottle gourd juice is a great remedy.
  4. The bitter form of bottle gourd is used as a cardiac tonic, a poison antidote, and a tonic for bronchitis, cough, asthma, and liver illnesses. You can give a teaspoon of this juice to your babies. 
  5. A glass of bottle gourd juice mixed with a pinch of salt can help minimize sodium loss from the body (salt can be avoided for babies below 1 year of age).
  6. Bottle gourd juice is an alkaline mix that helps to reduce the burning feeling in the urinary tract.
  7. Benefits of lauki juice, extracted from leaves is also proven medicine for jaundice.

Steps to prepare bottle gourd/ lauki juice:

Following are the steps for making lauki juice: (Summer drinks for kids)

  • Cut off a piece of the end and taste it first, then proceed. Using a lauki that has a bitter flavour is not recommended.
  • Then, peel off the entire skin from the lauki, and cut it into little pieces. Mix them in a blender.
  • Black pepper and salt can be added to suit your tastebuds. You can also increase the flavour by adding mint leaves, ginger to your juice. ( Avoid pepper and salt for children below 1 year of age)
  • You can also add a few drops of lemon or amla to the lauki juice to enhance its flavour and antioxidant content.
  • Combining other veggies with lauki juice is not recommended because it may have a detrimental impact on your health.

Before giving your infant bottle gourd, there are several precautions to follow:

  • Baby’s age:  When a baby is about 6 months old, bottle gourd can be introduced to his or her diet. It is critical to introduce semi-solid foods during this stage for the baby’s health and development.
  • How to offer bottle gourd to your baby: Peeling the hard outer covering, cutting it into little pieces, and heating them is one of the best ways to provide bottle gourd to your baby. The vitamins in it are washed out during the boiling process, so don’t boil it. Steaming is a better option.
  • How much bottle gourd to feed: The amount of bottle gourd to use is determined by the baby’s age. When the baby is at the age of six months, only a couple of tablespoons are required. As the infant grows, you can increase the amount of bottle gourd.

More and more parents throughout the world are adopting bottle gourd into their baby’s diets as they learn about the health benefits of bottle gourd. Bottle gourd, on the other hand, should not be consumed uncooked because it might be detrimental to the stomach and intestines. (7 foods to boost immunity in kids)

In conclusion, bottle gourd is beneficial to both the physical and mental health of your children. It will make a world of difference if you incorporate it into the baby’s weekly menu.

Recipe: lauki ke kofte/bottle gourd balls with hidden herbs and nuts

Recipe of lauki ke kofte/bottle gourd balls by Iyurved

Check the Recipe made with Ayurvedic spread by Iyurved- DAILY NUTRITION spread.

CHECK MORE HEALTHY RECIPES LOVED BY KIDS.

PRODUCTS:

We are happy to introduce our range of nutritious & tasty kid’s Ayurvedic foods!!
We know that preparing and feeding healthy foods everyday is a huge task. Even more tough when kids are picky eaters. Kids prefer certain foods and formats. It is not easy to feed kids bitter Ayurvedic herbs, variety of vegetables, fruits, nuts and seeds everyday.
Mixed with Ayurvedic herbs, this unique Ayurvedic savoury spread is an easy solution to feed daily nutrition for Immunity, Brain development, Bone strength and overall-growth to kids without any fuss.

Ayurvedic Savoury Spread for kids Daily Nutrition by Iyurved

India’s First Tasty Kids Nutrition fortified with Ayurvedic herbs.

If your child is a picky eater or does not take enough nutrition for the day, you can give ‘5 Ayurvedic herbs and 7 Nuts’ chocolate or savoury spread to meet daily Nutrition ORDER | 0% preservative | 0% Palm oil |

Check more products for: Immunity, Gut health, Digestion, Weight, Brain development, Bones and Overall growth

(shipping in India and Singapore only)

Join Iyurved group for FREE CONSULTATION

Foods and Remedies by a Nutrition Expert
Read more blogs:

8 Common Nutritional Deficiencies in Children

nutritional deficiencies in children

Have you ever wondered why your child gets sick or has health difficulties despite having a full plate of food? Do you think that plate provides all the essential nutrients that the child requires? Nowadays, malnutrition is most prevalent and is found to be associated with common nutritional deficiencies in children.

Most parents make the mistake of believing that just because their child eats three meals a day means he or she is getting all of the nutrients needed for growth and development. But, a well-balanced meal consisting of all the important vitamins and minerals is all that the child needs. So, let’s understand what is nutritional deficiencies, symptoms, nutritional deficiencies diseases and foods that help to overcome them. 

 What are nutritional deficiencies?

The child’s body needs a sufficient amount of vitamins and minerals to grow properly and be able to fight and avoid diseases. We refer to these nutrients as micronutrients.

While some are made naturally by the body, the majority come from the foods your children consume. Malnutrition, also known as nutrient deficiency, occurs when your child’s body does not get or is unable to absorb the necessary amount of nutrients. 

Signs and symptoms of nutritional deficiencies in children

Nutritional deficiencies cause health-related problems which can be difficult to detect while your child is young but become more apparent as they develop. Immune deficiency, stunted bone development, delayed brain growth, weariness, digestive troubles, and even early dementia are few common nutritional deficiencies symptoms.

Apart from these common symptoms, nutritional deficiencies diseases also exhibit symptoms such as :

  • Lethargy
  • Loss of attention
  • Dry skin/hair
  • Depression/ Anxiety
  • Delayed speech
  • Weight loss
  • Hyperactivity
  • Frequent cold or flu

8 Common nutritional deficiencies in children

Here is a list of some common nutritional deficiencies in children, their symptoms and dietary sources:

1. Calcium deficiency

Every cell in your body requires calcium to function properly. Calcium helps to mineralize bones and teeth, which is especially important during periods of rapid growth. Calcium is also a signalling molecule, so a deficiency can cause problems with your child’s heart, nerves, and muscles.

You should never take more calcium than you need. Calcium levels in your blood are strictly controlled, therefore any excess is stored in your bones as calcium phosphate. As a result, your bones will release calcium if you don’t get enough of it from the diet.

HeALTH CONCERNS caused due to calcium deficiency

In many cases, a calcium deficiency is not accompanied by symptoms. However, rickets in children and osteoporosis in the elderly are two prevalent forms of calcium deficiency that cause weaker and more fragile bones.

Dietary sources of calcium

Here are some of the calcium-rich foods that you should include in the diet: 

  • Milk and dairy products like cheese and yogurt
  • Moringa
  • Ragi (8 amazing benefits of Ragi)
  • Vegetables like cabbage, mustard, broccoli, lady’s finger
  • Seeds like poppy, chia and sesame
  • Almonds
  • Makhana/ Lotus seeds
  • Amaranth
2. Iron deficiency

Iron deficiency is one of the most common nutritional deficiencies in children. However, it is even more common in picky eaters and toddlers who have weaned from breast milk. (Iron deficiency in children)

Iron is a vital mineral that is found in abundance in red blood cells. Also, iron attaches to haemoglobin and aids oxygen transport between blood cells. It also aids in the production of RBCs.

There are two types of dietary iron – Heme and Non- heme iron. Heme iron is found in animal sources such as red meat and is easily absorbed in the body. Non-heme iron can be present in plant and animal foods, but it is difficult to absorb.

Vegetarians and vegans mostly consume plant sources having non-heme iron which is less absorbed. Hence they are more likely to develop iron deficiency. 

HeALTH CONCERNS caused due to iron deficiency

Anemia is the most common nutritional deficiency in children. The common symptoms of anemia include pale skin, fatigue, weakness and tiredness, poor appetite, craving for strange things like ice, dirt and paint, slower growth and development, behavioural issues, frequent infection.

Dietary sources of iron

The best sources of iron both heme and non-heme are listed below:

Heme iron sources:
  • Red meat
  • Shellfish
  • Organ meat
  • Sardines
Non-heme iron sources:
  • Beans
  • Green leafy vegetables like broccoli, spinach, kale
  • Seeds like pumpkin, sesame, flax and hemp
  • Dried fruits like raisins, prunes and apricot
  • Fruits like apple, pear and pomegranate 
  • Legumes
3. Vitamin D deficiency

Vitamin D is a fat-soluble vitamin that acts in the body like a steroid hormone and is produced on exposure to sunlight. It aids iron, magnesium, zinc, and phosphate absorption. It also aids calcium absorption and helps in the formation of strong bones and teeth. Not just bones and teeth, vitamin D also builds immunity in the body and fights off attacking viruses and bacteria. (Vitamin D and calcium for building strong bones in kids)

HeALTH CONCERNS caused due to Vitamin D deficiency 

The deficiency of vitamin D prevents the absorption of calcium in the body. Calcium deficiency causes disorders, such as hypocalcemia and hypophosphatemia (rickets), as well as the weakening of bones, certain types of malignancies and lowered immunity. It may also cause growth delay, bone loss and there is an increased risk of fractures. 

Dietary sources of Vitamin D

Sunlight is the natural source of Vitamin D. However, other dietary sources of vitamin D are:

  • Cod liver oil
  • Fatty fish such as salmon, mackerel, sardines
  • Egg yolk
  • Banana 
  • Milk and milk products
  • Fortified cereals
  • Mushroom
  • Ragi
4. Vitamin A deficiency

Vitamin A is a fat-soluble vitamin that is important. It aids in the formation and maintenance of healthy skin, teeth, bones, and cell membranes, as well. Also, it creates eye pigments, which are essential for vision. For Vitamin A to travel to the required parts of the body, like the retina at the back of the eye, it has to partner with another mineral- Zinc.

Dietary vitamin A comes in two forms:

  • Preformed vitamin A  (Retinol): It is derived from animal sources.
  • Pro-vitamin A (Carotenoid): It is obtained from plant sources.

HeALTH CONCERNS caused due to Vitamin A deficiency

A lack of vitamin A or vitamin A deficiency can cause both acute and chronic eye damage, leading to blindness. Vitamin A deficiency can also weaken the immune system and increase mortality, especially in children and women who are pregnant or lactating.

Dietary sources of Vitamin A

The dietary sources of vitamin A are:

  • Organ meat
  • Fish liver oil
  • Sweet potatoes
  • Carrot
  • Green leafy vegetables

Orange-coloured fruits and vegetables like carrots, mangoes, apricot, and sweet potatoes are rich in vitamin A, hence helps to protect your kid from any eye disease.

5. Vitamin B9-Folate deficiency

Vitamin B9, also known as folic acid or folate, is an essential component for the growth and development of the human body. Folate aids in the formation of DNA and RNA, as well as protein metabolism. Dietary folate is also necessary for the production of healthy red blood cells. And it is especially important in times of fast growth, such as during pregnancy and the development of the foetus.

HeALTH CONCERNS caused due to Vitamin B9-Folate deficiency

Folate deficiency in children and babies can cause brain and spinal cord underdevelopment, growth issues, anaemia, and congenital defects. (7 brain-boosting foods for your child) 

Dietary sources of Vitamin B9-Folate

The sources of Vitamin B9 include:

  • Green leafy veggies
  • Fresh fruits
  • Nuts
  • Beans
  • Fortified cereals and bread
  • Seafood
  • Eggs 
  • Peanuts
6. Vitamin B12 – Cobalamin deficiency

Cobalamin is important for the production of blood cells and to sustain healthy nerve cells in the body. However, vegetarians and vegans may not obtain enough vitamin B12 in their meals and may need to take a B12 supplement. (Foods with B vitamins and their importance)

HeALTH CONCERNS caused due to Vitamin B12 – Cobalamin deficiency

A vitamin B12 deficiency causes megaloblastic anemia. The diseases caused by nutritional deficiencies of Vitamin B12 can also lead to a number of symptoms including weakness, exhaustion, constipation, a decreased appetite, and weight. Failure to meet the minimum requirements can also show negative effects on the nervous system and nutritional deficiencies symptoms such as confusion, depression and dementia. 

Dietary sources of Vitamin B12 – Cobalamin

The sources of Vitamin B12 include:

  • Dairy products
  • Fish
  • Meat
  • Beef liver
  • Fortified cereals
  • Egg
7. Zinc deficiency

Zinc is an important mineral for healthy growth, digestion, sex hormone development, and immunity in children. A deficit can have an adverse effect on your child’s hair, skin, and nails, as well as his or her cognitive function and height.

HeALTH CONCERNS caused due to zinc deficiency 

Loss of appetite and decreased growth and development in babies and children are early signs of zinc deficiency. They may be angry and sluggish. The immune system of the body may be compromised, causing wounds to heal more slowly and incompletely.

Dietary sources of zinc

The sources of zinc include:

8. Magnesium deficiency

Magnesium is an important mineral in the human body. It’s not only important for bone and tooth structure but it’s also involved in over 300 enzyme processes.

HeALTH CONCERNS caused due to magnesium deficiency

The diseases caused by nutritional deficiencies of magnesium include type 2 diabetes, metabolic syndrome, heart disease, and osteoporosis. Abnormal heart rhythm, muscular cramps, restless leg syndrome, tiredness, and headaches are the most common magnesium – nutritional deficiencies symptoms. (How magnesium can help to balance hormones in teenagers?)

Dietary sources of magnesium

The sources of magnesium include:

  • Whole grains
  • Nuts
  • Dark chocolate
  • Green leafy vegetables

Almost every vitamin can be lacking in some way. However, the aforementioned flaws are by far the most prevalent. Children, young women, the elderly, vegetarians, and vegans appear to be the most vulnerable to a variety of deficits.

Eating a well-balanced diet rich in full, nutrient-dense foods is the greatest approach to avoid deficiencies. Supplements, on the other hand, maybe essential for people who cannot get enough from their food alone.

Recipe: LADDU RECIPE WITH SESAME SEEDS AND JAGGERY

Laddu recipe with sesame seeds and Jaggery by Iyurved

Check the Recipe made with Ayurvedic spread by Iyurved- DAILY NUTRITION spread.

CHECK MORE HEALTHY RECIPES LOVED BY KIDS.

PRODUCTS:

We are happy to introduce our range of nutritious & tasty kid’s Ayurvedic foods!!
We know that preparing and feeding healthy foods everyday is a huge task. Even more tough when kids are picky eaters. Kids prefer certain foods and formats. It is not easy to feed kids bitter Ayurvedic herbs, variety of vegetables, fruits, nuts and seeds everyday.
Mixed with Ayurvedic herbs, this unique Ayurvedic chocolate spread is an easy solution to feed daily nutrition for Immunity, Brain development, Bone strength and overall-growth to kids without any fuss.


Kids and teens Daily nutrition Ayurvedic chocolate spread by Iyurved

India’s First Tasty Kids Nutrition fortified with Ayurvedic herbs.

If your child is a picky eater or does not take enough nutrition for the day, you can give ‘5 Ayurvedic herbs and 7 Nuts’ chocolate spread to meet daily Nutrition ORDER | 0% preservative | 0% Palm Oil |

Check more products for: Immunity, Gut health, Digestion, Weight, Brain development, Bones and Overall growth

(shipping in India and Singapore only)

Join Iyurved group for FREE CONSULTATION

Foods and Remedies by a Nutrition Expert

Read more blogs:


5 foods to manage hormone imbalances in kids and teens

hormone imbalances

Food choices have a direct effect on hormone levels in the body. Consuming refined or processed carbohydrates such as white flour, bread, pasta, pizza, and white rice raises blood sugar levels in the body, resulting in hormone imbalances.

Whole grains like amaranth, buckwheat, barley, and other high-fiber diets, on the other hand, can regulate blood sugar spikes and manage stress by making hormones happy. They do so by releasing serotonin, a relaxing neurotransmitter in the brain.

Ayurvedic herbs including Manjishtha, Turmeric, and Neem, in addition to nuts and seeds, have been shown in studies to aid children manage stress, anxiety, and hormone imbalances.

Hormone imbalances:

These hormones are abundant in a newborn baby and gradually decrease over time. They flare up again during puberty, causing dramatic physical changes in teenagers’ bodies. In the process of puberty, teenagers go through a lot of physical changes as well as hormonal changes.

Some physical changes are regulated by changes in the levels of hormones. These are produced by the pituitary gland—luteinizing hormone (responsible for menstrual cycle in girls) and follicle-stimulating hormone (responsible for reproductive system in both girls and boys). Weight increase, acne flare-ups, height gain, hair loss, and behavioral changes such as anxiety, hyperactivity, and short-temperedness are all symptoms of hormone imbalances.

Few ayurvedic herbs are beneficial to children and can assist to alleviate their problems while also balancing their hormones.

Hormone balancing foods:
Manjishtha:

Manjishtha is a powerful blood cleanser. It detoxes and purifies the blood. Apart from that, it aids in the removal of blood flow obstructions and promotes great blood circulation. This aids in the treatment of acne. This herb also helps to lift your spirits, leaving you peaceful and relaxed. It elevates your mood by increasing Dopamine levels in your blood (a neurotransmitter that regulates brain activity). Manjishtha’s anti-stress and nootropic properties aid to keep your mind at ease. It also helps in managing hair problems like dandruff, greying of hairs and hair fall.

Turmeric:

Turmeric’s anti-inflammatory qualities are well-known. Furthermore, it aids in the management of hormone imbalances by regulating estrogen metabolism. It provides excellent liver support. Curcumin, the main ingredient in turmeric, has been found in studies to help the liver detoxify. This improves the liver’s ability to flush out harmful poisons that cause hormone imbalances. It is quite important. Curcumin has also been shown to help with puberty initiation in the event of delayed puberty in a few trials.

Neem:

Neem offers a variety of medical characteristics and benefits in addition to balancing hormones. It is a powerful antioxidant that aids in the cleansing of the blood. This herb is an excellent hormonal acne treatment as well as a potent healer. It treats acne-prone skin that has been plagued by several ailments since adolescence. Neem also possesses anti-inflammatory, astringent, and antibacterial qualities, which aid in the treatment of hormonal acne.

Nuts:

For your hormones to function properly, the right amount of good fat is essential as your hormones thrive on fat production. Nuts such as peanut, cashew, and almonds are good sources of the same. Almonds have great estrogenic activity. Therefore, it impacts our endocrine system and regulates our major body glands. Whereas, cashews and peanuts have healthy phytoestrogens.

Seeds:

Sunflower, pumpkin, and melon seeds are excellent sources of healthy fats. Vitamin E, antioxidants, magnesium, zinc, potassium, and vitamin K are all abundant in them. These aid in the body’s estrogen and progesterone levels being balanced. Not only that, but they’re beneficial to your overall health because they aid digestion, cell growth, and keep your nervous system in good shape.

SCIENTIFIC RESEARCH ON INGREDIENTS FOR HORMONE BALANCE:

Manjistha: There is convincing scientific evidence that a Manjistha helps in making the skin complexion even, cure acne and lighten dark spots. Read here.

Neem: There is wide research on the role of Neem in reducing acne and hair fall. Read here.

Turmeric: There is scientific evidence that supports the claim that turmeric helps in reducing acne. Read here.

Foods to avoid:
Refined sugar:

Refined sugar and carbs can cause substantial hormonal imbalance. Sugar causes the body’s most critical hormone, Insulin, to malfunction. Insulin interacts with a number of other hormones in the body, including estrogen and testosterone. Furthermore, it depletes vitamin B levels in the body, leading to anxiety and sadness over time.

Greatest source of sugar in the average kid’s diet are sugary snacks and beverages like cookies, cakes, candies, fruit juice, soda, and sports drinks. Everything that the child picks up to eat today has strains of added sugar in some form or the other.

Preservatives: 

Most of the packaged food companies are adding artificial preservatives to delay spoilage and contamination in foods.  To clearly define, artificial preservatives such as nitrates, benzoates, sulphites, sorbates, parabens, formaldehyde, BHT, BHA and several others can cause serious health hazards. Hormone imbalances, hypersensitivity, allergy, asthma, hyperactivity, neurological damage are some hazards.

REfined oil: 

Broadly speaking, all natural and useful elements are removed from oil during the refining process. This is bad for your hormones, digestive system, and respiratory system, and ultimately has a negative impact on your general health.


How to feed all these foods to Teens?

Now the question arises how to include all these bitter Ayurvedic herbs, nuts, seeds and antioxidants in your child’s diet?

TEENS HORMONE BALANCE CHOCOLATE SPREAD

Specially designed for kids, this unique product is formulated with 14 nutrient-rich ingredients which provides Daily Nutrition for teens to help control acne through Hormone Balance. No Refined Sugar and Zero preservatives.


Does my child need it?

Formulated with 14 nutrient-rich ingredients, Iyurved provides Daily Nutrition for teens to help control acne through Hormone Balance, especially for teens who:

  • Are in puberty age
  • Notice acne on face
  • Need a clear skin without acne

What is unique about this product?

Never has it been so easy to feed bitter Ayurvedic herbs  and nuts to children in such a convenient format. This innovative product makes it easy to feed Ayurvedic herbs combined with daily nutrition of nuts to the child everyday.

  • Carbohydrates: Provides energy
  • Protein: Helps support muscle development
  • Fats: Supports brain development
  • Fiber: Supports digestion
  • Vitamin A, E: Protects eyes and builds immunity
  • B Vitamin: Supports energy formation in the body
  • Vitamin C, Selenium and Zinc: Builds immunity
  • Iron and Copper: Provides energy and supports brain development
  • Calcium, Phosphorus, Magnesium, Manganese, Vitamin K: Supports bone development

This product has been developed by a nutritionist in close collaboration with one of the best food technologists in India.


PRODUCTS:

We are happy to introduce our range of nutritious & tasty products for kids!!
We know that preparing and feeding healthy foods everyday is a huge task. Even more tough when kids are picky eaters. Kids prefer certain foods and formats. It is not easy to feed kids bitter Ayurvedic herbs, variety of vegetables, fruits, nuts and seeds everyday.
Mixed with Ayurvedic herbs, this unique product is an easy solution to feed daily nutrition for Immunity, Brain development, Bone strength and overall-growth to kids without any fuss.


Ayurvedic chocolate spread by Iyurved

India’s First Tasty Kids Nutrition fortified with Ayurvedic herbs.

If your child is a picky eater or watches too much screen, or is at a learning stage, or is hyperactive, or has acne, or falls sick often | Give ‘Iyurved’s Chocolate Spreads’ for healthy body and growth | ORDER | 0% preservative | 0% Palm oil | 0% refined sugar |

(shipping in India and Singapore only)

Join Iyurved group for FREE CONSULTATION

Foods and Remedies by a Nutrition Expert
READ MORE BLOGS:

Saturated vs unsaturated fats

Saturated fat vs unsaturated fats

For many years, the word “fat” was associated with unhealthy eating. It is better to avoid them as much as possible. Although, many of us have made a move to low-fat meals. This choice did not, however, make us healthier because we cut out on both good and bad fats. You might be thinking, “Isn’t fat harmful to your health?”. But, fats are a crucial source of energy for the human body. Therefore, this article outlines the difference between saturated fat vs unsaturated fats, as well as how to eat healthily.

What are dietary fats?

Dietary fats are a significant energy source. It aids vitamin and mineral absorption. Moreover, fat is essential for the building of the cell membranes, cell walls and nerve sheaths. Blood clotting, muscle movement, and inflammation are all dependent on it. The fats stored in tissues are also essential for thermoregulation and insulation of the body. 

Some fats are superior to others in terms of long-term health. Monounsaturated and polyunsaturated fats are good fats to consume while synthetic or tailor-made trans fats are on the list of bad fats. Whereas saturated fats occupy a midway ground.

Also, knowing the difference between saturated and unsaturated fats, their sources and possible health effects can help you make better cooking and shopping decisions.

Saturated fats

These are usually solid at room temperature. Coconut oil and ghee are the two main examples of saturated fats that have various health benefits.

Ghee is a loaded source of fat-soluble vitamins like A, D and K. Ghee is a pure form of fat and contains no casein, making it perfect for dairy-intolerant people. It also contains gut-friendly enzymes which help in its easier digestion. While coconut oil has omega 6 fatty acids, but no omega 3 fatty acids and no trans fats. Both ghee and coconut oil help improve brain function, digestion and metabolic function.

Sources of saturated fats:

  • Animal meat – cuts of meat that are rich in fat
  • Poultry –  Chicken and egg yolk
  • Dairy products – cheese, butter, whole milk, cream
  • Plant oils –  Palm and Coconut oil (Benefits of coconut oil)
  • Processed meats – sausages, hot dogs
  • Pre-packaged snacks – chips, pastries, cookies, crackers

Saturated fat in your diet – Why limit it?

The sources of saturated fats are mostly unhealthy, but, contrary to popular belief, saturated fat is not a bad thing. It can be part of a heart-healthy diet when consumed in moderation.

  • Risk of heart disease

Healthy fats are essential for the body’s energy and other functions. Consuming excessive amounts of saturated fats might lead to a buildup of cholesterol in the blood vessels (blood vessels). High saturated fat foods increase LDL (bad) cholesterol. Cholesterol that is too high in LDL increases your risk of heart disease and stroke.

  • Add extra kilos to the body:

It is abundant in many high-fat foods, such as pizza, baked products, and fried dishes. So, eating too much of these foods might lead you to gain weight by adding extra calories to your diet. Every gramme of fat provides 9 calories. Therefore, it is more than twice as much as carbs and protein combined.

Unsaturated fats

These are considered a healthier form of fat and must be consumed for body and brain development. These fats are liquid (oil form) at normal temperature. They can also be found in solid foods.

Mono-unsaturated fats:

Sources of monounsaturated fats include:

  • Olive oil
  • Avocados
  • Peanut oil
  • Most seeds and nuts

Poly-unsaturated fats:

Polyunsaturated fats are necessary for the body’s proper functioning. In addition, polyunsaturated fats aid in the movement of muscles and the coagulation of blood. These fats are not produced by the body, therefore you have to consume them in the form of food.

Omega-3 and omega-6 fatty acids are two forms of polyunsaturated lipids. In terms of heart health, omega-3 fatty acids are advantageous. (Why should you add omega-3 foods to your kid’s diet?)

Best sources of Omega-3 fatty acids:
Best sources of omega-6 fatty acids:
  • Canola oil
  • Safflower oil
  • Soybean oil
  • Walnut oil
  • Sunflower oil
  • Corn oil

According to a recent study, there is some indication that polyunsaturated fats may lessen the risk of heart disease. Therefore, it is ideal to choose them in place of saturated fats. Also, there has to be a balance between omega-3 and omega-6 fatty acids for maximum benefit to health.

Trans fats:

Trans fats are a type of unsaturated fatty acid that have been turned from a liquid state to a more solid state by food processing. They are mostly used is all processed foods- cheese spreads, donuts, chips, dips, cakes, cookies etc since they are solid in state and can help hold the shape of food item.

Meat and dairy from ruminant animals, such as cattle and sheep, contain natural trans fats, often known as ruminant trans fats. When bacteria in the stomachs of these animals eat grass, they produce trans fats. Several studies have shown that moderate intake of these trans fats from animal sources is not detrimental.

Health risks associated with trans fats:

Heart disease risk may increase with artificial trans fats. Also, they seem to increase the amount of LDL (bad) cholesterol without increasing the HDL (good) cholesterol levels. In addition, people consuming more trans fat have a higher risk of insulin sensitivity and developing diabetes.

Sources in diet:

Most trans fats in your diet come from partially hydrogenated vegetable oils. Because they are inexpensive to produce and have a long shelf life. There is a range of processed foods that include trans fats. The partly hydrogenated oil should not be added to the processed goods as a result of the FDA’s 2018 ban. They are no longer GRAS. Although this restriction has been partially implemented, many processed foods still contain trans fats.

Saturated fat vs unsaturated fats

Here are few differences between saturated fat and unsaturated fats:

saturated fat vs unsaturated fats
Saturated fat vs Unsaturated fats
Recommended levels of fat intake:

According to the World health organization (WHO), total fat intake should not exceed 30% of total energy intake. Also, 

  • lower saturated fat consumption to less than 10% of total energy intake
  • lower trans-fat intake to less than 1% of total energy intake
  • Replace the saturated fat food list with unsaturated, particularly polyunsaturated fats.
Tips for a fat-friendly diet:

The following are some simple strategies for people to regulate their fat consumption in their diet:

  • Choosing low-fat dairy over full-fat dairy, or lean meat over fatty pieces of meat.
  • Avoiding foods that claim to be fat-free . To replace the fats, many of these items contain added sugars and refined carbs. However,it’s possible that these additives can raise caloric consumption without adding any additional dietary value.
  • Know about saturated fat content by reading nutritional labels such as the reference intake (RI) on the front of packages.
  • Foods high in trans fats and sodium (processed foods) should be avoided
  • When cooking, use steaming or boiling rather than frying.
  • Changing to fats that are good for you. Unsaturated fats are abundant in foods like sardines, avocado, and walnuts. These may help with brain development, immune system strength, and heart health. (Foods to boost immunity in kids)
How to replace saturated fat sources with healthier ones?

Fats are important for your body. Hence, eliminating them from the diet will not be a great option. You can introduce healthy fats to your diet with a few simple modifications.

Replace bad fats with good ones
saturated fat vs unsaturated fats
saturated fat sources
Saturated fat vs unsaturated fats: Replace bad fats with good ones

You do not have to eliminate fat from your diet. However, you should be cautious about the amount and type of fat you consume. Also, keep in mind that fat contains a lot of calories. Choose unsaturated fat-rich foods instead of saturated fat-rich foods, not in addition to them.


Recipe: Cookies recipe with Ragi flour and hidden herbs and nuts

Cookies recipe with Ragi flour by Iyurved

Check the Recipe made with Ayurvedic spread by Iyurved – DAILY NUTRITION spread.

CHECK MORE HEALTHY RECIPES LOVED BY KIDS.


PRODUCTS:

We are happy to introduce our range of nutritious & tasty kid’s Ayurvedic foods!!
We know that preparing and feeding healthy foods everyday is a huge task. Even more tough when kids are picky eaters. Kids prefer certain foods and formats. It is not easy to feed kids bitter Ayurvedic herbs, variety of vegetables, fruits, nuts and seeds everyday.
Mixed with Ayurvedic herbs, this unique Ayurvedic chocolate spread is an easy solution to feed daily nutrition for Immunity, Brain development, Bone strength and overall-growth to kids without any fuss.


Kids and teens Immunity boost Ayurvedic chocolate spread

India’s First Tasty Kids Nutrition fortified with Ayurvedic herbs.

For kids falling sick often, give Immunity Boost Chocolate Spread | 0% preservatives | 0% Refined sugar | 0% Palm oil | With Amla, Giloy, Tulsi, Turmeric, Ashwagandha | ORDER |

Check more products for: Immunity, Sleep (for hyperactive kids), Brain, Weight, Daily Nutrition, Overall growth, Hormones (Acne)

(shipping in India and Singapore only)

Join Iyurved group for FREE CONSULTATION

Foods and Remedies by a Nutrition Expert

Read more Blogs:

The Weight Gain Diet Plan: 8 Recipes for gaining healthy weight

weight gain diet plan

For many people, losing weight is an excellent goal, but not for everyone. Even if your slim figure is admired and envied by many, it is critical that you maintain a healthy weight. There are numerous reasons why you would want to gain weight. Despite the fact that being overweight is a more well-known cause of health concerns, being underweight can also cause problems. In this article, you will find some foods and weight gain diet plan to add on some kilos to your body. In this article, you will learn about recipes and foods to increase weight as well as how to create your own weight gain diet plan. 

What is the meaning of being underweight?

Being underweight means that you are below the recommended weight range as per your gender, age and height. The body mass index (BMI) is a typical method for determining whether or not a person’s weight is within a healthy range. Using weight to height ratio, people can calculate their body mass index (BMI). A BMI of 18.5–24.9 is usually recommended. An underweight person with a BMI of less than 18.5 may need to gain weight. There are, however, instances in which an individual can have a low BMI and still be healthy. Some characteristics, such as muscle mass, are not put into account by the BMI measurement. This can cause a healthy individual to be overweight. In general, a person’s BMI gives a good indication of whether they are in a healthy weight range or not.

Stress, bad eating habits, irregular meals, lack of physical fitness, and genetics are some of the most prevalent reasons why people are unable to put on weight and maintain their weight gain. (Reason for not gaining weight)

RISKS ASSOCIATED WITH BEING UNDERWEIGHT:

Having a low body weight carries a number of health hazards. Unhealthy eating habits are often to blame for being underweight in many circumstances. This can lead to malnutrition, which has its own concerns. So, for example, a deficit in vitamin D could be detrimental to your bones’ health.

Calories must be consumed in adequate quantities each day in order for the body to function properly. A diet that is too low in calories might lead to:

  • Nausea and fatigue
  • hair and skin concerns

Being underweight can also lead to the following:

  • Impaired immune system
  • Bone disorders
  • Infertility
  • Developmental problems
  • Abnormal eating habits
  • Higher infection risk

This is a reference Weight and Height Chart for Indian Boys and Girls upto 5 years of age.

Indian Boys Growth Chart

*Weight in Kg and Height in cm.

Indian Girls Growth Chart

*Weight in Kg and Height in cm

7 tips to follow for a healthy weight gain:

You can follow a proper weight gain diet plan for putting on weight. In addition to increasing caloric and protein consumption, it is also necessary to maintain a healthy balanced diet without eating too many items that may have a lot of calories but little nutritional value. (What are some nutritious weight gain foods for kids) Following tips can help:

Select foods that are both calorie-rich and nutritious

To gain weight, you should not begin consuming high-calorie unhealthy food. Junk food typically provides mainly calories from fat and sugar. They don’t contain any nutrition.

INCLUDE Nuts, Dry Fruits and Seeds AND SEEDS IN YOUR DIET:

If you’re watching your weight, nuts like peanuts, almonds, cashews are a good choice. It is rich in nutrients as well as fiber, minerals, beneficial oils, and antioxidants. Even nut butters are nutritious. (Why are nuts so important?) If you compare them to dairy butter, they are richer in good fatty acids and calories. Also, seeds such as pumpkin, sunflower and flax seeds are rich in minerals and antioxidants. (How seeds are a good source of protein?)

Eat AT REGULAR INTERVALS:

Include at least three snacks with your three main meals, so that you can consume more calories in a reasonable amount of time. For this to happen, you must eat at regular intervals so that the food can be digested and there is room for additional food to be consumed. Therefore, having a snack every two hours is a smart idea.(How to increase your child’s appetite?)

Consume healthy fats and oils:

Oils that include both mono- and poly- unsaturated fats, coupled with a lower level of saturated fats, should be included when making healthy choices. A suitable choice is vegetable oils such as sunflower and olive, nut oils such as peanut, and rice bran oil.(What is saturated fats?)

Drink High Calorie Smoothies or Shakes:

If you have a low appetite, you might want to go for a high calorie shake or smoothie rather than a large meal. Shakes & smoothies provide nutrient dense calories without making you feel full.

Include in SOMe Physical Activities or Weight Training:

It is important for kids to include in some of the physical activities like, cycling, walking/running, swimming etc. on a daily basis. This helps kids to digest foods and creates space for their next meal. For adults, weight training at least 3 times a week helps in adding healthy weight to the body. In addition, weight training also helps in gaining and maintaining lean muscle mass.

CHOOSE RIGHT SNACKS:

Snacking in between the meals is a good way to add some calories. You should consume snacks ideally two hours after a meal. A snack should provide at least 200 kcal and not stuff you up, so that you enjoy a meal later.

Weight gain diet plan: 

You can refer to this sample weight gain diet plan and make your own diet plan as per your choice and taste.

Time OF THE DAYSnack/MEAL Options
Early Morning:Milk/Tea with whole grain cookies
BreakfastMultigrain Paneer Sandwich with Milkshake/ Pancake
Mid morning Snacknuts & seeds/ smoothie
Lunch2-3 rotis, dal, green salad, vegetable curry & full cream curd/ Quinoa peas pulao with curd
Evening snackMilk/Tea with ragi cake/ banana & apple muffins
DinnerPaneer paratha with curd/ sprouts or millet Pizza
Bed Time SnackMilk or a handful of nuts
Healthy Weight gain diet plan

You can add these recipes in your weight gain diet plan.

SmoothieS:

Below are a few smoothie recipes to gain weight. 

  • Walnut Banana and apple smoothie 

This is one of the best smoothie recipes to gain weight. Bananas contain lots of nutrients and vitamins that help to speed up your metabolism. Apples are a great source of carbs that provide you a boost of energy right away. Having too much of it, though, might lead to extra weight gain. Walnuts are a rich source of healthy monounsaturated fatty acids, phytosteroids and the amino acid L-arginine. So, walnuts supply both additional calories which is essential for muscle regeneration and growth.

Walnut Banana & Apple Smoothie
  • Strawberry avocado smoothie

Avocados are rich in vitamins, minerals, healthy fats, and fiber. Strawberry contains natural sugars and adds more carbs which help in weight gain. It’s one of the best smoothie recipes for weight gainers out there!

Strawberry Avocado Smoothie Recipe

Multigrain paneer sandwich:

The consumption of white bread may contribute to weight gain, while the consumption of multigrain or whole wheat bread is even better. Because of this, it is beneficial to choose healthy breads such as bran, oats, rye and whole wheat bread. Vitamin A, Vitamin B6, Vitamin C, calcium, iron, folate, and magnesium are all found in whole wheat Paneer sandwiches. A breakfast of a protein-rich whole grain Paneer sandwich, a banana, and a glass of milk are some of the foods to increase weight in a healthy way.

Multigrain Paneer Sandwich

Cheese paratha with millet:

When it comes to cheese, even little servings may pack a punch when it comes to calorie count. This recipe of cheese paratha with millet helps to add nutrition and serves as the weight gain foods for kids. 

Check the Recipe made with Ayurvedic spread by Iyurved- DAILY NUTRITION spread.

Check more healthy recipes loved by kids.

Sprouted moong bhel: 

It is a common recipe in weight gain diet plan Indian style. Despite the fact that it’s a snack, it is packed with nourishment. This provides enough energy and stamina because it is packed with calories and protein, together with fiber.

Sprouted Moong Bhel Recipe

One-pot veggies dish:

As a vegetarian, you may not have the protein and carbohydrate content of meat. However, you may gain weight and stay healthy by eating the correct vegetables in the right quantities. Pumpkin, beets, potatoes, corn, peas, and yam are some of the vegetables that help in weight gain and are included in the weight gain foods for kids.

Check the Recipe made with Ayurvedic spread by Iyurved- DAILY NUTRITION spread.

Check more healthy recipes loved by kids.

Ragi and broccoli cutlets:

Ragi aids in weight gain, bone and tooth development, and overall growth in kids. It is commonly given to kids as their first food. Adding vegetables creates a classic recipe for weight gain diet plan Indian style. (Why is Ragi known as a superfood?)

Ragi & Broccoli Cutlet Recipe

Easy one-pot pasta:

Pasta has a moderately high calorie count, making it beneficial for weight gain. It is an easy, minute made and kid’s favourite recipe. 

One Pot Pasta Recipe

Before planning a weight gain diet plan, keep the following in mind: include healthy foods while avoiding excessive sugar and salt consumption.

There are a few do’s and don’ts when it comes to adding foods and drinks to your daily diet to gain weight. You should avoid drinking fluids such as water, tea, or coffee before lunch, since they will make you feel full and decrease your appetite.


Products:

We are happy to introduce our range of nutritious & tasty products for kids!!
We know that preparing and feeding healthy foods everyday is a huge task. Even more tough when kids are picky eaters. Kids prefer certain foods and formats. It is not easy to feed kids bitter Ayurvedic herbs, variety of vegetables, fruits, nuts and seeds everyday.
Mixed with Ayurvedic herbs, this unique Ayurvedic savoury spread is an easy solution to feed daily nutrition for Immunity, Brain development, Bone strength and overall-growth to kids without any fuss.


India’s First Tasty Kids Nutrition fortified with Ayurvedic herbs.

If your child is a picky eater or does not take enough nutrition for the day, you can give ‘5 Ayurvedic herbs and 7 Nuts’ savoury spread to meet daily Nutrition ORDER | 0% preservative | 0% Palm oil |

Check more products for: Immunity, Gut health, Digestion, Weight, Brain development, Bones and Overall growth

(shipping in India & Singapore only)

Join Facebook group for FREE CONSULTATION

Foods and Remedies by a Nutrition Expert

Read more blogs


स्तन का दूध (ब्रेस्ट मिल्क) बढ़ाने के लिए 7 खाद्य पदार्थ और कुछ टिप्स

foods to increase breast milk

एक बच्चे को जन्म देना एक महिला के लिए पूरी तरह से एक नया अनुभव है। मां के नए किरदार के साथ जिंदगी का नया अध्याय शुरू होता है । मां और बच्चे के बीच का रिश्ता पवित्र होता है। मातृत्व के शुरुआती दिनों में, एक माँ की मुख्य चिंता यह होती है कि वह बच्चे के लिए पर्याप्त स्तन दूध का उत्पादन कर रही है या नहीं। शिशु का हर रोना उसे यह सोचकर बेचैन कर देता है कि शायद उसे पर्याप्त दूध नहीं मिल रहा है। कुछ खाद्य पदार्थ और नुस्खे स्तन का दूध बढ़ाने में मदद करते हैं| 

नयी  माँ के लिए एक उचित दिनचर्या को समझने और खोजने के लिए पहले पाँच से छह सप्ताह महत्वपूर्ण हैं। यह वही समय है जब शरीर स्तन के दूध की स्वस्थ आपूर्ति को नियंत्रित कर रहा होता है। हालांकि बहुत कम संख्या में माताएँ हैं जो पर्याप्त स्तन दूध का उत्पादन करने में सक्षम नहीं हैं, फिर भी यह एक सामान्य डर है। कुछ टिप्स और खाद्य पदार्थ जो नई माताओं में स्तन के दूध के उत्पादन को बढ़ाते हैं और इस डर को दूर करने में मदद कर सकते हैं। इससे पहले हमें यह समझना होगा कि कम स्तन दूध की आपूर्ति के कारण क्या हैं।

कम दूध उत्पादन के कारण:

विलंब:

कुछ चिकित्सीय स्थितियों के कारण माँ और बच्चे का अलग होना दूध उत्पादन को प्रभावित कर सकता है। यदि प्रसव के बाद माँ अस्वस्थ है या बच्चे को विशेष देखभाल के लिए नर्सरी में भर्ती होने की आवश्यकता है, तो यह स्तनपान में देरी करता है और इसलिए शरीर पर्याप्त दूध का उत्पादन बंद कर देता है।

खराब लगाव:

कुछ माताओं के निप्पल सपाट या उल्टे होते हैं जिससे बच्चे के लिए ठीक से दूध चूसना मुश्किल हो जाता है। इससे स्तन से खराब लगाव हो सकता है। जन्म के समय पीलिया होने के कारण सोते हुए बच्चे और होंठ या जीभ का चिपका होना कुछ अन्य कारण हैं जो शिशुओं को स्तनपान से आवश्यक दूध की आपूर्ति प्राप्त करने से रोकते हैं।

अनुसूची:

जब भी वह मांग करे बच्चे को दूध पिलाने की जरूरत है। बच्चे को दूध पिलाने के लिए समय सारिणी बनाने से स्तन के दूध का उत्पादन कम हो सकता है।

फार्मूला फीड पर निर्भरता :

कुछ माताएँ अपने बच्चों के लिए स्तनपान और फार्मूला फीड दोनों  पसंद करती हैं। लेकिन स्तनपान छोड़ने और फॉर्मूला पर अधिक निर्भर रहने से स्तन के दूध की आपूर्ति कम हो सकती है।

गर्भनिरोधक गोलियां:

दोबारा गर्भवती होने के डर से बचने के लिए कुछ महिलाएं एस्ट्रोजन युक्त गर्भनिरोधक गोलियां लेना शुरू कर देती हैं। यह स्तन के दूध उत्पादन को प्रभावित करता है।

धूम्रपान:

धूम्रपान भी दूध के उत्पादन में बाधा डाल सकता है। यह फ़ीड के माध्यम से बच्चों को निकोटीन के नकारात्मक प्रभावों से भी गुजर सकता है। आगे जीवन में बच्चों को इस बुरी आदत के कारण कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

स्तन का दूध बढ़ाने के तरीके:

मांग और आपूर्ति:

अपने बच्चे को अक्सर स्तनपान कराएं क्योंकि शरीर मांग और आपूर्ति के नियम पर दूध बनाता है। जितना अधिक आप स्तनपान कराती हैं, उतना ही आपके शरीर को दूध उत्पादन का संकेत मिलता है। अपने बच्चे को हर दो से तीन घंटे में दूध पिलाने से आप स्वाभाविक रूप से अपने स्तन के दूध की आपूर्ति को बढ़ाने में सक्षम हो सकती हैं।

ब्रेस्ट पंप:

पावर पंप आपके स्तन के दूध के उत्पादन को बढ़ाने का एक शानदार तरीका है। यह आपके स्तन को पूरी तरह से खाली कर देता है और शरीर को अधिक दूध बनाने के लिए प्रेरित करता है।

सही भोजन:

एक नर्सिंग माँ को अपने भोजन के सेवन का उचित ध्यान रखना चाहिए। दूध की आपूर्ति बढ़ाने का यह सबसे प्रभावी तरीका है। स्तनपान कराने वाली माँ को अपने पीने और पूरे दिन एक उचित संतुलित भोजन खाने की व्यवस्था करनी चाहिए क्योंकि भूख और निर्जलित होने की तुलना में दूध की आपूर्ति तेजी से नहीं हो सकती है। (माताओं के लिए प्रोटीन का आसान स्रोत)

दोनों पक्षों से स्तनपान:

शुरुआती दिनों में अपने बच्चे को दिन में 8-12 बार दूध पिलाने की सलाह दी जाती है। बच्चे को हमेशा दोनों तरफ से दूध पिलाने की कोशिश करें। यदि यह काम नहीं कर रहा है, तो आप दूसरी तरफ एक पंप का उपयोग कर सकते हैं। इससे दुग्ध उत्पादन को बढ़ावा मिलेगा।

आराम और नींद:

उचित आराम और अच्छी नींद आपके शरीर को दूध की आपूर्ति बढ़ाने में मदद कर सकता है। आपके बच्चे को जन्म देने के बाद, आपके स्तन के दूध की आपूर्ति का निर्माण शुरू हो जाता है। उचित पौष्टिक आहार, जलयोजन और विश्राम जैसे कई कारक इस प्रक्रिया को प्रभावित करते हैं। स्तनपान कराने वाली माताओं में दूध उत्पादन बढ़ाने के लिए लैक्टेशन कुकीज महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। इन कुकीज़ को बनाने के लिए दूध उत्पादन को बढ़ावा देने वाले कुछ खाद्य पदार्थों का उपयोग किया जाता है। दूध की कम आपूर्ति के मुद्दों को दूर करने के लिए एक नई माँ के आहार में शामिल करने के लिए ये सबसे अच्छी चीजें हैं। (नींद मस्तिष्क के विकास में बच्चे की मदद कैसे करती है?)

स्तन का दूध बढ़ाने के लिए खाद्य पदार्थ:

मेथी के बीज:

मेथी एक जड़ी बूटी है जिसे अक्सर स्तनपान कराने वाली माताओं में स्तन के दूध के उत्पादन को बढ़ाने के लिए सबसे अच्छे खाद्य पदार्थों में से एक के रूप में उपयोग किया जाता है। यह माताओं के लिए सबसे अच्छा गैलेक्टागॉग (स्तन का दूध बढ़ने का भोजन) बताया गया है। यह पसीने के उत्पादन की सक्रियता को प्रभावित करता है और चूंकि स्तन ग्रंथियां उसी श्रेणी की होती हैं जिसे कुछ हार्मोनल उत्तेजना के कारण संशोधित किया गया है, यह स्तन के दूध के उत्पादन को बढ़ा देता है। मेथी को दूध उत्पादन को बढ़ावा देने वाले सबसे अच्छे खाद्य पदार्थों में से एक माना जाता है। (मेवे और बीज जो दूध उत्पादन में मदद करते हैं)

दलिया/ ओटमील:

चूंकि ओटमील में आयरन की मात्रा अधिक होती है, इसलिए इसे स्तन के दूध को बढ़ाने के लिए बेहतरीन खाद्य पदार्थों में से एक माना जाता है। आयरन की कमी (मातृ एनीमिया) के परिणामस्वरूप नर्सिंग माताओं में दूध की आपूर्ति कम हो सकती है। एक नई माँ के आहार में दलिया को शामिल करने से दूध की आपूर्ति को बढ़ाने में मदद मिल सकती है। (बच्चे की भूख बढ़ाने के उपाय)

सौंफ के बीज:

यह आमतौर पर स्तनपान कुकीज़ में प्रयोग किया जाता है। सौंफ को उन खाद्य पदार्थों में से एक माना जाता है जो स्तन के दूध की आपूर्ति को बढ़ाते हैं। इसमें एस्ट्रोजन जैसा यौगिक होता है जो दूध उत्पादन को बढ़ाता है। यह दूध की मात्रा बढ़ाने में भी मदद कर सकता है जो शिशुओं में वजन बढ़ाने को बढ़ावा दे सकता है। (खाद्य पदार्थ जो बच्चे को पाचन में मदद करता है)

मोरिंगा:

मोरिंगा को एक उत्कृष्ट गैलेक्टागॉग के रूप में जाना जाता है। एक अध्ययन में यह पाया गया है कि इसका स्तन के दूध उत्पादन पर प्रभावी परिणाम होता है। यह पोषक तत्वों से भरपूर है और इसी वजह से, स्तनपान विशेषज्ञ भी इसे स्तन के दूध को बढ़ाने और स्तनपान को प्रेरित करने के लिए आहार में मोरिंगा को शामिल करने की सलाह देते हैं। हालांकि ताजा मोरिंगा के पत्तों का सेवन करना सबसे अच्छा है, मोरिंगा पाउडर को पानी में भिगोकर इसका सेवन करने से पोषक तत्वों का अवशोषण अधिक कुशलता से हो सकता है। यह स्तन के दूध को बढ़ाने के लिए सबसे अच्छे खाद्य पदार्थों में से एक है। (खाद्य पदार्थ जो बच्चों की दृष्टि में मदद करते हैं)

लहसुन:

स्तन के दूध के उत्पादन को बढ़ाने के लिए लहसुन का उपयोग हर्बल उपचार के रूप में किया जाता रहा है। इसमें सल्फर यौगिक, विटामिन और खनिज और अमीनो एसिड होते हैं और भारतीय संस्कृति में दवा के रूप में इसका उपयोग किया जाता है। इसकी गंध स्तन के दूध के माध्यम से फैलती है और बच्चों को दूध बेहतर तरीके से चूसने में मदद करती है। लहसुन एक प्रसिद्ध खाद्य पदार्थ है जो स्तन के दूध को बढ़ाता है। (खांसी का घरेलू इलाज)

मेवे / नट्स:

मेवे स्तनपान कराने वाली मां को दिन भर सक्रिय रहने के लिए ऊर्जा प्रदान करते हैं। स्तनपान कराने वाली मां के आहार में शामिल करने के लिए यह सबसे अच्छा नाश्ता है। ऐसा माना जाता है कि बादाम, अखरोट और काजू स्तनपान कराने वाली माताओं में दूध उत्पादन को बढ़ाने में मदद करते हैं। एक नए अध्ययन के अनुसार स्तनपान के दौरान नट्स का सेवन शिशुओं को एलर्जी से बचाने में मदद कर सकता है। स्तन के दूध को बढ़ाने के लिए नट्स को सबसे अच्छे खाद्य पदार्थों में से एक माना जाता है।

तिल के बीज:

तिल के बीज सबसे अच्छे खाद्य पदार्थों में से एक है जो स्तनपान कराने वाली माताओं में स्तन के दूध के उत्पादन को बढ़ाता है। यह कैल्शियम का एक समृद्ध स्रोत है जो स्तनपान कराने वाली माताओं के लिए सबसे महत्वपूर्ण पोषक तत्व है।


सेब और केले के मफिन पकाने की विधि (छिपी हुई जड़ी-बूटियों और मेवे  के साथ):

आइए सब्जियों, जड़ी-बूटियों और नट्स के ‘छिपे हुए’ पोषण से हर व्यंजन को स्वादिष्ट और पौष्टिक बनाते हैं।


उत्पाद/प्रोडक्ट्स:

हमें बच्चों के लिए पौष्टिक और स्वादिष्ट उत्पादों की अपनी श्रृंखला पेश करते हुए खुशी हो रही है !!

हम जानते हैं कि प्रतिदिन स्वस्थ भोजन तैयार करना और खिलाना एक बहुत बड़ा काम है, और भी कठिन है जब बच्चे अपने द्वारा चयनित भोजन खाने वाले होते हैं। बच्चे कुछ खाद्य पदार्थ और प्रारूप को पसंद करते हैं। बच्चों को हर रोज कड़वी आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां, तरह-तरह की सब्जियां, फल, मेवा और बीज खिलाना आसान नहीं होता।

आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के साथ मिश्रित, यह अनूठा उत्पाद बिना किसी झंझट के बच्चों को प्रतिरक्षा(इम्युनिटी), मस्तिष्क के विकास (ब्रेन डेवलपमेंट) , हड्डियों की मजबूती(बोन स्ट्रेंथ) और समग्र विकास (ओवरॉल ग्रोथ) के लिए दैनिक पोषण (डेली न्यूट्रिशन) प्रदान करने का एक आसान उपाय है।


Iyurved Immunity Boost Chocolate Spread

आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के साथ भारत का पहला स्वादिष्ट किड्स न्यूट्रिशन।

बच्चों और किशोरों के लिए  इम्युनिटी बूस्टर चॉकलेट स्प्रेड | 0% प्रेज़र्वेटिव्स | 0% परिष्कृत चीनी | 0% ताड़ का तेल | आमला, गिलोय, तुलसी के साथ | यहाँ आर्डर करें

बच्चों के लिए अन्य उत्पादों की जाँच करें: दैनिक पोषण, मस्तिष्क विकास, नींद, हार्मोन और नेत्र स्वास्थ्य।

(शिपिंग केवल भारत और सिंगापुर में )


छोटे बच्चों और किशोरों के माता-पिता के लिए बच्चों के पोषण और स्किनकेयर समुदाय में शामिल हों।

पोषण विशेषज्ञ द्वारा अनुशंसित खाद्य पदार्थ और उपचार।


और ब्लॉग पढ़ें:

बच्चे का पहला ठोस आहार: सॉलिड फूड्स

Baby's first solid foods

6 महीने की उम्र तक बच्चे को केवल स्तनपान कराने की सलाह दी जाती है। माँ के दूध में सभी आवश्यक पोषक तत्व होते हैं जो बच्चे को स्वस्थ और मजबूत बनाने में मदद करते हैं और संक्रमण से भी बचाते हैं। इसमें एंटीबॉडी(प्रतिरोधक तत्व)होते हैं जो बच्चों को वायरस और बैक्टीरिया से लड़ने में मदद करते हैं अतः यह बच्चे के इम्यून सिस्टम को भी मज़बूत बनाता है। माताओं के मन में हमेशा एक सवाल होता है कि बच्चे का पहला ठोस आहार (सॉलिड फूड्स) कब देना चाहिए?

 6 महीने पूरे करने के बाद आपके शिशु के शरीर को उचित वृद्धि और विकास के लिए अधिक पोषण की आवश्यकता होती है, तो यह सबसे अच्छा समय है जब बच्चा खाने के लिए ठोस भोजन शुरू कर सकता है।  ठोस पदार्थों को धीमेऔर सावधानीपूर्वक बच्चों के आहार में शामिल करना चाहिये ।  एक बच्चे का पाचन तंत्र अभी भी पर्याप्त परिपक्व नहीं होता इसलिए आपको उसके लिए तैयार किए जा रहे खाद्य पदार्थों पर कड़ी निगरानी रखनी होगी। ठोस पदार्थों को शुरू करने का सबसे अच्छा तरीका शुद्ध और मैश किए हुए खाद्य पदार्थ हैं। प्रत्येक भोजन जिसे आप बच्चे को ठोस भोजन के रूप में पेश कर रहे हैं उसका कुछ पोषण संबंधी उद्देश्य होना चाहिए क्योंकि आप स्वस्थ शरीर की नींव बना रहे हैं।

बच्चे का पहला ठोस आहार कब दें?

जब बच्चा 6 महीने का हो जाता है,  तभी बच्चे को ठोस आहार देना आरंभ करने का सही समय है। माता-पिता देखेंगे कि बच्चा अपनी दूध की बोतल की तुलना में दूसरे क्या खा रहा है, उसमें अधिक रुचि दिखा रहा है। यह उनकी इच्छा और अधिक स्वादों को चखने और शुरू करने की तत्परता का संकेत देता है। जिन बच्चों ने अभी खाना शुरू किया है, उनके लिए सभी प्रकार की सब्जियां और फल देना महत्वपूर्ण है। यह वह समय है जब वे धीरे-धीरे स्तनपान बंद कर रही हैं और उन्हें प्रतिरक्षा बनाने और मस्तिष्क, हड्डियों, आंखों की दृष्टि और समग्र शरीर के विकास में सहायता के लिए ठोस भोजन की आवश्यकता होती है। चुने गए प्रत्येक भोजन का पोषण उद्देश्य होना चाहिए। कृपया इस बात का ध्यान रखें कि एक भी जंक फूड एक व्यर्थ अवसर साबित हो सकता है, क्योंकि शिशुओं में दूध पिलाने का अवसर सीमित होता है। (चीनी/ शक्कर बच्चों की हड्डियों को कैसे प्रभावित करती है?)

बच्चे का पहला आहार: क्या भोजन दे सकते हैं?

केला:

केले पोटेशियम, कैल्शियम, मैग्नीशियम, लौह, फोलेट, नियासिन और विटामिन बी 6 से भरे हुए हैं। वे प्रीबायोटिक फाइबर का भी एक समृद्ध स्रोत हैं जो एक स्वस्थ पाचन तंत्र के निर्माण में मदद करते हैं। केला हड्डियों के लिए अच्छा होता है, मस्तिष्क की शक्ति में सुधार करता है और कब्ज़ की समस्या को भी ठीक करता है। जब बच्चा ठोस आहार खाना शुरू करे तो केला शामिल करना सबसे अच्छा है। चूंकि केला मीठा और मलाईदार होता है, इसलिए बच्चे भी इसे खाने का आनंद लेते हैं। शुरुआत में आप आधा छोटा मसला हुआ केला देकर शुरुआत कर सकते हैं। बाद में, प्रति दिन एक छोटा केला एक बच्चे के लिए आदर्श है। (दो फल जो छोटे बच्चों को देने चाहिए)

मूंग / मूंग दाल:

जब बच्चा ठोस आहार खाना शुरू करता है तो मूंग सबसे सुरक्षित और भोजन के रूप में जोड़ने के लिए सबसे अच्छे विकल्पों में से एक है। यह प्रोटीन, आयरन, फाइबर, विटामिन और खनिजों के साथ-साथ प्रोबायोटिक्स का एक बड़ा स्रोत है। ये सभी पोषक तत्व बढ़ते उम्र के बच्चों के लिए आवश्यक हैं। यह एक उत्कृष्ट प्रीबायोटिक है और आयुर्वेद में पाचन के लिए दवाएं बनाने के लिए 1000 से अधिक वर्षों से इसका उपयोग किया जा रहा है। मूंग में प्रतिरोधी स्टार्च होता है जो पाचन में मदद करता है। पके हुए मूंग सूप के साथ शुरू करें और धीरे-धीरे नरम पके हुए मूंग बीन दलिया में परिवर्तित करें। फलियों को हमेशा भिगोकर रखना और अंकुरित करना याद रखें क्योंकि इससे बच्चे के लिए इसे पचाना आसान हो जाता है। आप किसी भी छिलके वाली मूंग या हरे आवरण वाली मूंग का उपयोग कर सकते हैं। (छिपी हुई सब्जियों से रैप बनाने की आसान रेसिपी)

शकरकंद:

शकरकंद में पोषक तत्व होते हैं जो  शिशु के लिए ठोस आहार का शुरू करने का पसंदीदा विकल्प बनाते हैं। फाइबर से भरपूर होने के कारण, यह कब्ज को रोकने और स्वस्थ पाचन तंत्र को बनाए रखने में मदद कर सकता है। यह बीटा-कैरोटीन से भरा हुआ है जो विटामिन ए में परिवर्तित हो जाता है। शकरकंद को हर बच्चे के आहार में शामिल किया जाना चाहिए क्योंकि विटामिन ए आपके बच्चे की आंखों के स्वास्थ्य के लिए लाभदायक हो सकता है, इसमें विटामिन सी और विटामिन ई भी अच्छी मात्रा में होता है जो प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में मदद करता है। आप इसे प्यूरी के रूप में खिला सकते हैं क्योंकि यह पचने में  आसान होगा(बच्चों को पसंद आने वाले हेल्दी फ्राई की आसान रेसिपी)

गाजर:

इसकी चिकनी बनावट, मीठे स्वाद और पोषक तत्वों के कारण गाजर बच्चों के लिए एक अच्छा ठोस आहार है। यह विटामिन ए का एक अच्छा स्रोत है जो आंखों के स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है, विटामिन बी 6 जो सर्वोत्तम त्वचा, बाल प्रदान कर सकता है और यकृत को बेहतर कार्य करने में मदद करता है। गाजर फाइबर से भी भरपूर होती है, इस प्रकार शिशुओं में कब्ज को रोकने में मदद करती है। गाजर को बारीक काट लें या कद्दूकस कर लें और उबाल लें। पानी को प्यूरी बनाने या मैश करने के लिए रख दें। (भोजन में विटामिन ए कैसे बनाए रखें?)

सेब:

सेब बच्चों के लिए सबसे सुरक्षित और पौष्टिक ठोस आहार में से एक है। बच्चों को इसका मीठा स्वाद बहुत पसंद होता है। यह घुलनशील और अघुलनशील दोनों तरह के फाइबर का एक समृद्ध स्रोत है और इस प्रकार शिशुओं में आसानी से पच जाता है। सेब कार्बोहाइड्रेट से भरपूर होने के कारण बच्चे को सक्रिय रहने के लिए ऊर्जा प्रदान करता है। इसकी त्वचा में क्वेरसेटिन होता है जो एक प्रकार का प्लांट पिगमेंट फ्लेवोनोइड है जो प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने और सूजन को कम करने में मदद करता है। इसे बच्चे के पहले खाद्य पदार्थों में से एक माना जाता है। आप अपने बच्चे को सेब को प्यूरी के रूप में भी दे सकती हैं। (ऐप्पल साइडर विनेगर बालों के लिए कैसे मदद करता है?)

ब्रोकोली:

ब्रोकोली के कई स्वास्थ्य लाभ हैं। यह विटामिन ए, विटामिन सी, विटामिन के, विटामिन बी6 और फोलेट जैसे पोषक तत्वों का भंडार है। इसमें जिंक और आयरन सहित मिनरल्स भी होते हैं। ब्रोकोली बच्चे की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने के लिए लाभदायक है। विटामिन ए आंखों के स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में मदद करता है। आयरन के समृद्ध स्रोत के रूप में यह रक्त में हीमोग्लोबिन के स्तर को बढ़ाकर एनीमिया को रोकता है। ब्रोकली में फाइबर होता है जो किसी भी तरह के पाचन विकार और कब्ज को ठीक करने में मदद करता है। (बच्चे की आंखों को स्वस्थ कैसे रखें?)

आलू:

आलू को बच्चे के पहले भोजन के रूप में  सबसे सुरक्षित खाद्य पदार्थों में से एक माना जाता है। यह कार्बोहाइड्रेट का अच्छा स्रोत है और आपके बढ़ते बच्चे को ऊर्जा प्रदान करता है। इसमें मौजूद विटामिन सी, स्टार्च और विभिन्न एंज़ाइम बच्चे की त्वचा को पोषण देते हैं। यह बच्चों को स्वस्थ वजन बढ़ाने में भी मदद करता है। इसमें मौजूद फॉस्फोरस हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद करता है। इसमें प्रतिरोधी स्टार्च होता है जो स्वस्थ  बैक्टीरिया के विकास को बढ़ावा देता है और पाचन स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है। आलू को भाप में उबाल कर उबाल लें और पानी को रोक कर रखें। आलू की त्वचा में पौष्टिक फाइबर होता है जो पाचन और आंत के स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा होता है।

नाशपाती:

नाशपाती एक पौष्टिक भोजन है जो आपके बच्चे के आहार में अधिक पोषण मूल्य जोड़ सकता है। यह आहार फाइबर का एक अच्छा स्रोत है। यह आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करता है क्योंकि यह विटामिन सी, विटामिन के और पोटेशियम का एक समृद्ध स्रोत है। नाशपाती में पेक्टिन, एक पानी में घुलनशील फाइबर, और सोर्बिटोल होता है, एक यौगिक जो बड़ी आंत में पानी को बनाए रखता है, जो कब्ज को रोकने में मदद करता है और कठोर मल को ढीला करके मल त्याग को आसान बनाता  है। नाशपाती में एक बायोएक्टिव यौगिक है जो मुक्त कणों से लड़कर प्रतिरक्षा को बढ़ाता है। आप बेबी सॉलिड फ़ूड की  छिली और पकी हुई प्यूरी या मैश की हुई प्यूरी से शुरुआत कर सकते हैं।

कद्दू के बीज:

आप 6 महीने की उम्र पार करने के बाद अपने बच्चे को कद्दू के बीज सुरक्षित रूप से दे सकती हैं। इसमें शिशुओं के समुचित विकास के लिए आवश्यक सभी आवश्यक विटामिन और खनिज होते हैं। कद्दू के बीज कैल्शियम और मैग्नीशियम से भरपूर होते हैं जो हड्डियों और दांतों को मजबूत बनाने में मदद करते हैं। इसमें मौजूद फॉस्फोरस मस्तिष्क के कामकाज को बढ़ावा देता है, चयापचय में मदद करता है और मांसपेशियों के कामकाज में भी सुधार करता है। फाइबर के एक उत्कृष्ट स्रोत के रूप में, यह पाचन स्वास्थ्य का समर्थन करता है और बच्चे के मल त्याग को नियंत्रित करता है। इसमें विटामिन सी की पर्याप्त मात्रा प्रतिरक्षा को बढ़ाती है और बच्चे को सर्दी और फ्लू से बचाती है। इसमें मौजूद ट्रिप्टोफैन अमीनो एसिड, सेरोटोनिन का उत्पादन करता है जो शांति पैदा करने में मदद करता है और आपके बच्चे को आराम देता है और बचच बेहतर नींद लेते हैं। (बच्चों के लिए बीज और मेवों से बने आसान स्प्रेड)

रागी:

रागी कई स्वास्थ्य लाभ वाले सुपर फूड्स में से एक है। यह कैल्शियम और विटामिन डी का सबसे समृद्ध स्रोत है। ये दोनों पोषक तत्व शिशुओं में हड्डियों और दांतों के समुचित विकास के लिए महत्वपूर्ण हैं। इसमें मौजूद कैल्शियम शरीर द्वारा आसानी से अवशोषित हो जाता है और शुरुआती चरण के दौरान शिशुओं के लिए फायदेमंद होता है। यह शिशुओं में कुपोषण को भी रोकता है क्योंकि इसमें प्रोटीन की मात्रा अधिक होती है। रागी उच्च स्तर के आहार फाइबर से भरा हुआ है, इस प्रकार कब्ज़ को रोकता है। इसमें मौजूद अघुलनशील फाइबर शिशुओं में खाद्य पदार्थों के आसान पाचन को बढ़ावा देता है। बच्चों के लिए रागी दलिया बनाते समय, इसे कम से कम 10 मिनट तक अच्छी तरह से भून लें। (बच्चों की हड्डियों को मजबूत रखने वाले आहार?)

ज्वार:

ज्वार बच्चे की बढ़ती विकास आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए पोषण प्रदान कर सकता है। यह एक लस मुक्त अनाज है और शुरुआत में एक सुपर स्वस्थ शिशु ठोस आहार है। ज्वार मैग्नीशियम सहित विभिन्न पोषक तत्वों में समृद्ध है जो हड्डियों के निर्माण में मदद करता है, बी विटामिन जो चयापचय और त्वचा और बालों के स्वास्थ्य में आवश्यक भूमिका निभाते हैं। यह अनाज प्रोटीन का बहुत अच्छा स्रोत है और हर तरह से अच्छे स्वास्थ्य में योगदान देता है।

सांवा चावल ( बरनार्ड बाजरा ):

बच्चे के 6 महीने पूरे होने के बाद बाजरा सबसे पौष्टिक आहार है। यह घुलनशील और अघुलनशील दोनों तरह के फाइबर सहित आहार फाइबर का एक समृद्ध स्रोत है। यह शिशुओं में कब्ज, ऐंठन, सूजन और अतिरिक्त गैस की समस्या को रोकता है। बाजरा भी सुपाच्य प्रोटीन का एक बड़ा स्रोत है जो इसे पचाने योग्य हल्का भोजन बनाता है।

ओट्स :

ओट्स कई जरूरी पोषक तत्वों से भरपूर होता है। इसमें बड़ी मात्रा में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, आहार फाइबर, विटामिन और खनिज होते हैं। इसमें कैल्शियम और फास्फोरस जैसे खनिज मजबूत हड्डियों के निर्माण में मदद करते हैं, मैग्नीशियम ऊर्जा उत्पन्न करता है और हड्डियों और दंत स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है। इसमें मौजूद पोटैशियम और सोडियम बच्चे के शरीर में इलेक्ट्रोलाइट का संतुलन बनाए रखते हैं और जिंक मस्तिष्क के विकास को बढ़ावा देता है। यह फाइबर का एक उत्कृष्ट स्रोत है जो आंत के स्वास्थ्य को बढ़ाता है। (बच्चों के लिए सर्वश्रेष्ठ प्रतिरक्षा निर्माण खाद्य पदार्थ)

टैपिओका:

टैपिओका को शुरू करने के लिए सबसे अच्छा शिशु ठोस आहार माना जाता है। इसके कई स्वास्थ्य लाभ हैं। यह कैल्शियम, आयरन, पोटेशियम और विटामिन K से भरपूर होता है जो बच्चे की हड्डियों के विकास के लिए महत्वपूर्ण खनिज हैं। टैपिओका अपच, सूजन और कब्ज सहित पाचन संबंधी बीमारियों को ठीक करने में भी मदद करता है। इसमें मौजूद स्टार्च कार्बोहाइड्रेट से भरपूर होता है जो बच्चे को दिन भर ऊर्जा प्रदान करता है और वजन बढ़ाने में मदद करता है। यह प्रोटीन का भी एक अच्छा स्रोत है और इस प्रकार उन्हें मजबूत करके मांसपेशियों के विकास में सहायता करता है। टैपिओका शिशु की सबसे अच्छी खाद्य श्रेणियों में से एक में सबसे ऊपर है।

बच्चे के भोजन में जड़ी-बूटियाँ जोड़ना:

मां के आहार के आधार पर, शिशुओं को अक्सर ठोस पदार्थ शुरू करने से पहले बुनियादी गुणों और विभिन्न प्रकार की जड़ी-बूटियों  और मसालों के स्वाद से परिचित कराया जाता है। मां के आहार का असर मां के दूध के स्वाद पर भी पड़ता है। इस तरह एक ठोस  आहार बच्चे को शुरू करवाने से पहले कुछ स्वादों के भी विचार होते हैं। चूंकि बच्चे के भोजन में नमक और चीनी डालना उचित नहीं है, दलिया में एक चुटकी दालचीनी पाउडर, सब्जियों की प्यूरी में लहसुन की एक छोटी कली , कटी हुई लौंग या मसले हुए शकरकंद में चुटकी भर जीरा पाउडर बच्चे को स्वाद से परिचित कराने में अच्छा काम कर सकता है। यह बच्चे को विभिन्न स्वादों के साथ विभिन्न खाद्य पदार्थों को आजमाने के लिए प्रोत्साहित करेगा और स्वस्थ खाने की आदतों की नींव रखेगा। विटामिन और खनिजों से भरपूर, इन जड़ी-बूटियों का कुछ पोषण उद्देश्य भी होता है।

दालचीनी:

इस जड़ी बूटी में एंटी-बैक्टीरियल और एंटीफंगल गुण होते हैं। इसमें एंटीऑक्सिडेंट होते हैं जो सूजन को कम करते हैं। चूंकि दालचीनी में प्रीबायोटिक्स गुण भी होते हैं, यह पाचन विकारों से राहत देता है और आंत के स्वास्थ्य में सुधार कर सकता है। (बच्चों के लिए दालचीनी कैंडी कैसे बनाएं?)

जायफल:

जायफल कई महत्वपूर्ण बी-कॉम्प्लेक्स विटामिन से भरपूर होता है। विटामिन ए, विटामिन सी, फोलिक एसिड, राइबोफ्लेविन, नियासिन और बीटा-कैरोटीन जैसे एंटीऑक्सीडेंट। यह कैल्शियम, मैग्नीशियम, आयरन, जिंक जैसे खनिजों का भी एक बड़ा स्रोत है जो अच्छे स्वास्थ्य के लिए आवश्यक हैं। जायफल में जीवाणुरोधी गुण होते हैं जो मौखिक स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद करते हैं।

जीरा:

अध्ययनों से पता चला है कि जीरा अग्नाशयी एंजाइमों के उत्पादन को बढ़ाकर पाचन को बढ़ावा देता है। इसका डायरिया रोधी प्रभाव भी होता है। बच्चे के भोजन में जीरा पाउडर मिलाने से अपरिपक्व पाचन तंत्र को बढ़ावा मिलता है जिससे भोजन आसानी से टूट जाता है। जीरा एक मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली विकसित करने में भी मदद करता है। इसमें एक यौगिक क्यूमिनाल्डिहाइड होता है जो सीधे रोग पैदा करने वाले बैक्टीरिया और कवक को मारता है। अपने बच्चे के भोजन में इसे शामिल करना सबसे अच्छी चीज है।

पुदीना:

पुदीना आपके बच्चे के भोजन में शामिल करने के लिए सबसे अच्छी जड़ी-बूटी है। यह न केवल एक अच्छा स्वाद है, बल्कि कई अन्य पोषण और औषधीय मूल्य भी है। यह पेट की परेशानी और पेट की ऐंठन में सहायता करता है। पुदीना एक शांत जड़ी बूटी है जो पेट की ख़राबी या पाचन संबंधी समस्याओं को शांत करने में मदद करती है। (बच्चों के हाइड्रेशन के लिए समर ड्रिंक्स)

हल्दी:

जैसे ही बच्चा ठोस आहार लेना शुरू करे, आप उसे हल्दी दे सकती हैं। इसमें करक्यूमिन और करक्यूमिनोइड्स जैसे कुछ जैव-सक्रिय यौगिक होते हैं जो बच्चे की प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा दे सकते हैं। हल्दी प्रभावी दर्द प्रबंधन से संबंधित है। आयुर्वेद में बताया गया है कि हल्दी में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं और यह खांसी जैसी सांस की समस्या में राहत देती है। हल्दी का सेवन पित्त एसिड के उत्पादन को उत्तेजित करके पाचन में मदद करता है। प्यूरी, सूप और दाल में थोड़ी मात्रा में हल्दी मिलाने से भी स्वास्थ्य लाभ हो सकता है। (ठंड और फ्लू में हल्दी खिलाना लाभदायक है)

अजवाइन:

इसमें शक्तिशाली एंटी बैक्टीरियल और एंटी फंगल गुण होते हैं। अजवायन का अर्क गैस और अपच को रोकने और उसका इलाज करने में मदद करता है। यह भारत में खांसी के इलाज के लिए इस्तेमाल की जाने वाली एक आम दवा है। जब बच्चा ठोस आहार लेना शुरू करे तो आप अपने बच्चे को थोड़ा अजवायन का पानी देना शुरू कर सकती हैं।

बच्चे के लिए मिश्रित भोजन:

जब बच्चा खाने के लिए ठोस आहार लेना शुरू करता है और आप इस बारे में सुनिश्चित हैं कि उसे अलग-अलग खाद्य पदार्थों से किसी प्रकार की एलर्जी का सामना नहीं करना पड़ा है, तो यह दो खाद्य पदार्थों के मिश्रण की पेशकश करने का समय है। यह वह चरण है जब आप जानते हैं कि आपके द्वारा शुरू किया गया भोजन शिशु के लिए सुरक्षित है और उसे इनमें से किसी से भी एलर्जी नहीं है। अपने बच्चों के लिए भोजन बनाते समय रंग, बनावट और स्वाद का ध्यान रखना सबसे महत्वपूर्ण है। विविधता का लक्ष्य रखें क्योंकि इससे बच्चों को खाने की आदतें विकसित करने में मदद मिलेगी। बच्चों के लिए हमेशा ताजा खाना बनाने की कोशिश करें। जब बच्चा ठोस आहार खाना शुरू करता है तो कुछ बुनियादी व्यंजन बनाना आसान होता है और भोजन के रूप में पेश करना सबसे अच्छा होता है। (खाद्य पदार्थ और उपाय जो दांत निकलने में मदद करेंगे)

चावल-मूंग बीन/मूंग दाल दलिया:

यह सबसे अच्छा भोजन है जिसे आप तब बना सकते हैं जब बच्चा ठोस आहार खाना शुरू करे। पोषण से भरपूर और पचने में आसान, यह चावल और मूंग की दाल का मिश्रण बच्चों को भी बहुत पसंद आता है। इसके पोषण मूल्य को बढ़ाने के लिए आप इसमें धीरे-धीरे उबली हुई मैश की हुई सब्जियां जैसे गाजर, बारीक कटा हुआ पालक या कोई भी लाभदायक  सब्जी मिला 

सकते हैं। यह बच्चों को स्वाद विकसित करने और सब्जियों से अन्य पोषक तत्व प्राप्त करने में मदद करेगा। बच्चे के लिए इसे पचाना आसान बनाने के लिए हमेशा सेम या कोई भी दाल अंकुरित करें।

दलिया:

दलिया बहुत सारे स्वास्थ्य लाभों के साथ तैयार करने के लिए आपके लिए एक आसान भोजन। इसे दलिया की तरह पकाया जा सकता है। स्वाद बढ़ाने के लिए आप इसमें मूंग या सोयाबीन या नीचे से सब्जियों की प्यूरी जैसी कोई भी फलियां और थोड़ा सा जीरा पाउडर मिला सकते हैं। इसे थोड़े से दूध के साथ भी पकाया जा सकता है और ऊपर बताए गए फलों की प्यूरी के साथ परोसा जा सकता है। एक चुटकी जायफल पाउडर मिलाने से इसमें खुशबू और स्वाद आएगा और पौष्टिकता बढ़ेगी। जब बच्चा ठोस आहार खाना शुरू करे तो इस भोजन को खिलाना सबसे अच्छा है।

टैपिओका पर्ल दलिया (साबुदाना खीर):

यह एक आसान रेसिपी है जिसे आप अपने बच्चे को दे सकती हैं। टैपिओका को धोकर रात भर के लिए भिगो दें। एक पैन लें और उसमें थोड़ा पानी, दूध और टैपिओका डालें। नरम होने तक पकाएं। स्वाद बढ़ाने के लिए आप इसमें एक चुटकी दालचीनी पाउडर मिला सकते हैं। इस मिश्रण के ठंडा होने पर इसमें फ्रूट प्यूरी मिलाना भोजन को मीठा और पोषण से परिपूर्ण बनाने का एक तरीका है। खजूर या अंजीर की प्यूरी को शामिल करना भी भोजन को मीठा करने और इसे आयरन से भरपूर बनाने का एक तरीका है। (फास्ट-फूड खाने से बच्चों के कैल्शियम को कैसे नुकसान होता है?)

बच्चे का पहला ठोस आहार: कुछ रेसिपीज

Indian Baby's first solid food. Solid food for baby
उबले और मैश किए हुए बटरनट स्क्वैश/कद्दू लाल छिलके वाले आलू के साथ। चिकना पेस्ट बनाने के लिए दूध डालें। जीरा पाउडर, दालचीनी या जायफल पाउडर जैसे हर्ब्स या मसालों का कोई भी मसाला छिड़कें।
उबले हुए नाशपाती छिलके सहित और केले के साथ मैश या प्यूरी।
उबली हुई गाजर और उबले चावल के साथ प्यूरी। मसाला या जीरा पाउडर या हर्ब्स डालें।
Baby's first food. Solid food for baby
मसला हुआ केला
उबले हुए  कद्दू की  प्यूरी | मसाला के रूप में दालचीनी पाउडर डालें।
भांप किए हुए  (उबले नहीं) सेब छिलके सहित, अंगूर और केले के साथ प्यूरी बनायें | 
Baby's first foods. Baby Solid Food
आलू को अच्छे से साफ कर लीजिये. त्वचा के साथ भाप लें या उबाल लें और प्यूरी बनाने के लिए पानी और त्वचा का उपयोग करें। बाद में उपयोग करने के लिए आलू के पानी को बचाएं, यदि अतिरिक्त हो।
ब्रोकली, बीन्स और मटर को उबाल लें। प्यूरी करें और जीरा पाउडर मसाला या हर्ब्स डालें।
गोभी को भांप कर लें । पकी हुई मूंग / मूंग दाल और प्यूरी डालें। हर्ब्स या मसाला ऊपर से डालें |
चुकंदर  के छोटे कटे  हिस्से को भाप दें और पके हुए चावल के साथ प्यूरी कर दें |  हर्ब्स या  मसाला जोड़ें।
First food for 6 month old baby. Solid food food babies
मक्का और कद्दू उबाल लें। पकी हुई मूंग/मूंग दाल के साथ प्यूरी कर दें ।
शकरकंद को बहुत अच्छी तरह से साफ करें। त्वचा सहित भाप लें। दूध के साथ प्यूरी कर दें।
Indian baby's first food. Solid food for baby in India
टैपिओका/साबुदाना दलिया/ दूध में उबाली हुई खीर।
ओट्स को पानी या दूध के साथ पकाया जाता है और मैश किए हुए फलों के साथ परोसा जाता है|
Solid food for baby, baby first food.
मूंग और चावल का दलिया, वेजी प्यूरी के साथ नरम पकाया जाता है।

उत्पाद/प्रोडक्ट्स:

हमें बच्चों के लिए पौष्टिक और स्वादिष्ट उत्पादों की अपनी श्रृंखला पेश करते हुए खुशी हो रही है !!

हम जानते हैं कि प्रतिदिन स्वस्थ भोजन तैयार करना और खिलाना एक बहुत बड़ा काम है, और भी कठिन है जब बच्चे अपने द्वारा चयनित भोजन खाने वाले होते हैं। बच्चे कुछ खाद्य पदार्थ और प्रारूप को पसंद करते हैं। बच्चों को हर रोज कड़वी आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां, तरह-तरह की सब्जियां, फल, मेवा और बीज खिलाना आसान नहीं होता।

आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के साथ मिश्रित, यह अनूठा उत्पाद बिना किसी झंझट के बच्चों को प्रतिरक्षा(इम्युनिटी), मस्तिष्क के विकास (ब्रेन डेवलपमेंट) , हड्डियों की मजबूती(बोन स्ट्रेंथ) और समग्र विकास (ओवरॉल ग्रोथ) के लिए दैनिक पोषण (डेली न्यूट्रिशन) प्रदान करने का एक आसान उपाय है।


Iyurved Immunity Boost Chocolate Spread

आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के साथ भारत का पहला स्वादिष्ट किड्स न्यूट्रिशन।

बच्चों और किशोरों के लिए  इम्युनिटी बूस्टर चॉकलेट स्प्रेड | 0% प्रेज़र्वेटिव्स | 0% परिष्कृत चीनी | 0% ताड़ का तेल | आमला, गिलोय, तुलसी के साथ | यहाँ आर्डर करें

बच्चों के लिए अन्य उत्पादों की जाँच करें: दैनिक पोषण, मस्तिष्क विकास, नींद, हार्मोन और नेत्र स्वास्थ्य।

(शिपिंग केवल भारत और सिंगापुर में )


छोटे बच्चों और किशोरों के माता-पिता के लिए बच्चों के पोषण और स्किनकेयर समुदाय में शामिल हों।

पोषण विशेषज्ञ द्वारा अनुशंसित खाद्य पदार्थ और उपचार।


और ब्लॉग पढ़ें:

Tasty and Healthy Food Recipes for 1 year old baby

Food Recipes for 1 year old baby

Time flies so fast – your little delight is a year old now. I’m sure you’ve had a lot of fun with your baby on this wonderful journey. It’s time to say goodbye to purees and hello to yummy table foods now that your baby is a toddler. By now, babies have developed taste buds and are eager to try different flavor foods. You can also introduce family foods to your little ones with fewer salt and spices, that suits their digestive system. In this article, we will learn some nutritious Indian food recipes for 1 year old baby. (What are some nutrition tips for toddlers?)

Tasty and healthy food recipes for 1 year old baby:

Here are some of the tasty and healthy food recipes for 1 year old baby. These are modified and introduced to babies in a way that they like.

Porridge RECIPES :

Porridge is a nutritious, easily digestible food for people of all ages, especially kids. It is delicious and healthy food for newborns because it has a smooth texture and is soothing to the tiny ones’ taste buds. Usually, porridges and purees are the first solid foods introduced to babies. Porridges are not only appropriate as a first food for babies, but they are also the greatest option when your child is unwell or has a food allergy.

Ragi porridge:

Ragi porridge is a superfood for babies. It is rich in calcium, iron, protein and dietary fiber, hence provides high nutritional value. It also aids in digestion and is known to be the best food for weight gaining and strengthening muscles. 

Ragi porridge

Rice porridge:

This is one of the easily digestible food recipes for 1 year old baby. Rice is a good staple diet since it contains vital proteins and vitamins for a baby’s overall growth and development. It eases the babies bowel movements and is less likely to trigger food allergies.

Rice porridge

Rice recipes:

One of the best cereal food with good nutritional benefits is – Rice. And, it is also the most common Indian food recipes for 1 year old baby. It is rich in minerals and vitamins. The nutritional value can be increased by adding dal, veggies etc.

Dal rice:

Dal rice is a simple recipe made with rice and moong dal. First, start with dal and rice separately and then go for the dal rice. (Why dal is so beneficial?)

Dal rice

Mashed sweet potato rice:

Mashed sweet potato rice is one of the healthy food recipes for 1 year old baby. Sweet potatoes are high in fibre, which aids digestion. Vitamins B6, C, D, and carotenoids are abundant in sweet potatoes. They’re also high in magnesium, potassium, and iron.

Mashed sweet potato rice

Dosa RECIPES:

Dosa is one of the common south indian food recipes for 1 year old baby. Dosas are not only delicious, but they’re also easy on the stomach. The crispy dosa’s are a great source of healthy carbohydrates with low fat.  They are fantastic finger snacks for babies to learn to self-feed with!

Rava dosa:

Rava dosa, the instant indian food recipes for 1 year old baby doesn’t require any fermentation and whipping. You can also add vegetable purees to enhance the nutrients. 

Rava Dosa recipe

Multigrain dosa:

Multigrain dosa is a blend of grains such as ragi, bajra, jowar, wheat etc.,. They are highly nutritious than regular grain atta with low glycemic index.It has high protein and dietary fibre. Due to the blend of multigrains, the taste, colour and texture also improves. 

Multigrain Dosa recipe

CURRIES:

Curry is an easy and healthy way of introducing herbs and spices to your baby’s food. They introduce the babies to different flavours and improve their taste buds.

Dal curry:

It serves as a combination of carbohydrates and proteins. (What are other sources of protein?)

Dal Curry

Mixed vegetable curry:

Vegetables are rich in vitamins, minerals, dietary fibre and antioxidants. 

Mixed Vegetable Curry

Soups:

Soups are a portion of nutritious comfort food for newborns, toddlers, and children that is easy to digest and flavorful. It is another healthy food recipes for 1 year old baby. However, soups can be served in the evening or at snack time to children. 

Carrot and beetroot soup:

This is the best way to introduce vitamin A and folates in your child’s diet. Carrot – rich in vitamin A improves eye health and beetroot has a vitamin that keeps the blood vessels healthy. (Why beets are so important?)

Carrot and Beetroot soup

Tomato soup:

Tomato soup with mixed spices is one of the best south indian food recipes for 1 year old baby. The mixed spices such as pepper, cumin, garlic serve as the best remedy for cold and flu. It acts as an immunity booster, also aids in digestion and enhances the baby’s appetite. For children, it is served as a soup or with steamed rice.

Tomato soup

You can modify the above recipes based on your baby’s taste by adding or cutting down one or more ingredients. Cook your baby’s food with joy and enjoy the process. 

More tips for feeding healthy food recipes for 1 year old baby:

Don’t force your child to eat:

This is the time when kids start recognising different flavours and figure out what they like and dislike. So, don’t force the child to eat something if they don’t like it, even if it is highly nutritious. Find other ways of preparation or change the ingredients.

Food should be simple and easy on the stomach:

The foods should be easy to chew and digest. In addition to this, avoid providing bigger pieces of food that may result in choking. 

Ensure the food is cool before serving:

Do not feed foods that are hot to babies. Always check the temperature before feeding. 

Avoid – excess salt, spices, sugar:

Adding too much salt and sugar can be heavy to process and causes harm to the immature kidneys. Also, too many spices can cause irritation in a baby’s digestive system.

Keep an eye on the child, if they are self feeding:

Babies learn to self-feed at this phase, so make sure they are under supervision. Do not just hand over the food and engage in your daily chores, instead teach them how to eat to prevent choking of food.


PRODUCTS:

We are happy to introduce our range of nutritious & tasty kid’s Ayurvedic foods!!
We know that preparing and feeding healthy foods everyday is a huge task. Even more tough when kids are picky eaters. Kids prefer certain foods and formats. It is not easy to feed kids bitter Ayurvedic herbs, variety of vegetables, fruits, nuts and seeds everyday.
Mixed with Ayurvedic herbs, this unique Ayurvedic savoury spread is an easy solution to feed daily nutrition for Immunity, Brain development, Bone strength and overall-growth to kids without any fuss.


Ayurvedic savoury spread for kids daily nutrition by Iyurved

India’s First Tasty Kids Nutrition fortified with Ayurvedic herbs.

If your child is a picky eater or does not take enough nutrition for the day, you can give ‘5 Ayurvedic herbs and 7 Nuts’ chocolate or savoury spread to meet daily Nutrition ORDER | 0% preservative | 0% Palm oil |

Check more products for: Immunity, Gut health, Digestion, Eyesight, Weight, Brain development, Sleep, Bones and Overall growth

(shipping in India and Singapore only)

Join Iyurved group for FREE CONSULTATION

Foods and Remedies by a Nutrition Expert

Read more blogs:

बच्चों का वजन बढ़ाने के लिए भोजन: 7 अति पौष्टिक आहार

वजन बढ़ाने के लिए भोजन

आमतौर पर हम बच्चों में मोटापे के बारे में सुनते हैं और माता पिता उनके वज़न नियंत्रण  के लिये परेशान होते हैं पर आपको यह जानकर हैरानी होगी कि कई लोगों को बच्चों के लिए वज़न बढ़ाने के लिये टिप्स चाहिये होते हैं या बच्चों के वज़न बढ़ाने के लिए भोजन की तलाश करनी पड़ती है। कम वज़न वाले बच्चों को आमतौर पर बहुत अच्छी भूख नहीं लगती है या वे स्नैक्स या फास्ट-फूड से ही अपना पेट भर लेते हैं। इसलिए शरीर के लिए आवश्यक पोषक तत्वों की आवश्यकता कभी पूरी नहीं हो पाती है। कई माता-पिता वजन में कमी को खाने की कमी से भी जोड़ते हैं। हालांकि यह सच हो सकता है, लेकिन बच्चों में वजन न बढ़ने के कई कारण होते हैं।

वज़न न बढ़ने के आम कारण :

वज़न न बढ़ने का सबसे आम कारण बच्चों के शरीर की ज़रूरतों को पूरा करने के लिए स्वस्थ और पौष्टिक भोजन का सेवन न करना है। दिन भर में बच्चों की खाने की आदतों में कुछ छोटे-छोटे बदलाव करके आप उन्हें मिलने वाली कैलोरी बढ़ाने में उनकी मदद कर सकते हैं। अगर बच्चा ठीक से खा लेता  है, तो वजन कम होने की चिंता कम होती है। यह अंततः उम्र के साथ ठीक हो जाता है  और जब तक ऐसा नहीं होता, यह स्वास्थ्य के लिए हानिकारक नहीं है।

अगर बच्चा खाना ठीक से नहीं खाता या बहुत मान मनुहार से मुश्किल से खाता है तो चुनौती पोषक तत्वों से भरपूर उच्च कैलोरी वाला खाना खिलाने की है। बच्चों के लिए आवश्यक वसा, कार्ब्स, प्रोटीन, फाइबर, विटामिन और खनिजों से भरपूर भोजन का सेवन करना महत्वपूर्ण है। बच्चों के लिए पौष्टिक भोजन की अधिक खपत को सक्षम करने के लिए भोजन के समय पेय पदार्थों को कम करना भी एक उचित युक्ति है क्यों कि पानी या पेय पेट को जल्दी से जल्दी भर सकता है। अन्य युक्तियों में तीन बड़े भोजन देने के बजाय चार या पांच छोटे भोजन शुरू करना और दिन में कुछ स्वस्थ नाश्ते को प्रोत्साहित करना शामिल है। ये कुछ प्रयास हैं जो वास्तव में आपके बच्चे को न केवल वज़न बढ़ाने में मदद कर सकते हैं बल्कि एक स्वस्थ और सक्रिय शरीर भी प्रदान कर सकते हैं।

बच्चों का वज़न बढ़ाने के लिए आहार:

कुछ पौष्टिक भोजन, जिन्हें अपने बच्चे के आहार में शामिल करके आप उसे स्वस्थ वज़न बढ़ाने में मदद कर सकते हैं:

केला:

वज़न बढ़ाने के लिए केला सबसे अच्छे खाद्य पदार्थों में से एक है, क्योंकि ये पोटेशियम, मैग्नीशियम, कैल्शियम और विटामिन बी 9 से भरपूर होते हैं। यह फल कार्बोहाइड्रेट में भी समृद्ध है और तत्काल ऊर्जा का स्रोत है। केले  में प्राकृतिक चीनी अधिक होती है जो अन्य खाद्य पदार्थों की तुलना में तेज ऊर्जा आपूर्ति कर सकती है। यह कई अन्य फलों की तुलना में उच्च कैलोरी वाला भोजन भी है। एक कप सेब के स्लाइस में लगभग 55-60 कैलोरी होती है, जबकि एक कप केले के स्लाइस में लगभग 130 कैलोरी होती है, हालांकि दोनों पौष्टिक होते हैं। (केले के मफिन की रेसिपी:)

आलू:

प्रत्येक आलू में लगभग 4 ग्राम फाइबर और 4 ग्राम प्रोटीन होता है, जो बच्चों को भरा हुआ महसूस कराता है। एक सरल कार्ब होने के कारण जो पचने में आसान है, आलू तुरंत ऊर्जा के स्तर को भी बढ़ा सकते हैं। इस भोजन को अधिक पोषक बनाने के लिए, उसे उसके छिलके के साथ उपभोग करना पसंद किया जाता है, जो आहार में फाइबर और अन्य पोषक तत्व जोड़ता है और बच्चों के वजन बढ़ाने के लिए पसंदीदा और सर्वोत्तम खाद्य पदार्थों में से एक बनाता है। समान कैलोरी सेवन के साथ शकरकंद का सेवन भी अधिक पौष्टिक विकल्प है। ( शकरकंद की रेसिपी: )

अंडे:

यह उच्च गुणवत्ता वाले प्रोटीन और स्वस्थ वसा के साथ पैक किया जाता है। जब वे वजन बढ़ाने की कोशिश कर रहे होते हैं तो अंडे बच्चों के खाने के लिए पौष्टिक भोजन  हैं। स्वस्थ वसा के लिए शरीर की मांगों को पूरा करने के लिए अंडे की ज़र्दी अनिवार्य है। यह प्रोटीन के साथ-साथ विटामिन बी2, फॉस्फोरस और विटामिन डी की एक महत्वपूर्ण मात्रा प्रदान करता है। आहार में दो अंडे जोड़ने से 12 ग्राम प्रोटीन के साथ 120 कैलोरी और शरीर के लिए बहुत अधिक पोषण मिलता है।

दूध:

दूध और अन्य डेयरी उत्पादों में प्रोटीन और कैल्शियम होता है, जो वजन बढ़ाने और मांसपेशियों के निर्माण के लिए आवश्यक होता है। यदि लक्ष्य वजन बढ़ाना है, तो संपूर्ण दूध सबसे अच्छा विकल्प हो सकता है क्योंकि इसमें कुछ संतृप्त वसा के साथ प्रोटीन की अच्छी मात्रा होती है। शोधकर्ताओं का मानना ​​है कि  प्रोटीन मांसपेशियों की मरम्मत और विकास (घर पर मट्ठा कैसे बनाएं?) के लिए प्रोटीन के सेवन का एक भरोसेमंद स्रोत हो सकता है। अतिरिक्त अध्ययनों से पता चला है कि दूध या मट्ठा और कैसिइन संयुक्त अन्य प्रोटीन स्रोतों की तुलना में अधिक बड़े पैमाने पर लाभ प्रदान कर सकते हैं। (मट्ठा प्रोटीन बन्स के लिए नुस्खा:)। पनीर और पनीर से बने व्यंजन उच्च कैलोरी के अन्य पोषक स्रोत हैं।

मेवे और बीज:

वज़न बढ़ाने के लिए ये सबसे अच्छे खाद्य पदार्थों में से हैं। यदि आप अपने बच्चों का वजन बढ़ाने के लिए कुछ खाद्य पदार्थों की तलाश कर रहे हैं तो नट्स और नट बटर बिल्कुल सही विकल्प हैं। सिर्फ एक मुट्ठी कच्चे बादाम में 170 कैलोरी, 6 ग्राम प्रोटीन, 4 ग्राम फाइबर और 15 ग्राम स्वस्थ वसा होता है। पिस्ता, अखरोट, काजू, सूरजमुखी के बीज, कद्दू के बीज, चिया और अलसी के बीज भी वसा और कैलोरी में उच्च होते हैं और वजन बढ़ाने और मस्तिष्क के लिए आवश्यक वसा प्रदान करने में मदद कर सकते हैं। (अखरोट कुकीज़ या केक के बनाने की विधि: ) या ( मेवे चॉकलेट की विधि : )

सोया:

सोया खाद्य पदार्थों को कैलोरी में उच्च कहा जाता है, जिसका अर्थ है कि वे बच्चों के लिए सबसे अधिक पौष्टिक भोजन हैं और वजन बढ़ाने में उनकी मदद कर सकते हैं। 1/2 कप सोया नगेट्स/ग्रेन्यूल्स लगभग 100 कैलोरी देंगे। सोया प्रोटीन वज़न बढ़ाने में मदद करने के लिए आहार में शामिल करने के लिए एक बेहतरीन उत्पाद है।

इस प्रकार आपने देखा कि कुछ पौष्टिक  भोजन  या आहार  और व्यंजन हैं जो बच्चों के लिए न केवल वज़न बढ़ाने में सहायक  हैं अपितु स्वास्थ्य वर्धक  भी हैं।

रागी , नट और जड़ी बूटियों के साथ आलू पराठा की रेसिपी:

आइए सब्जियों, आइए सब्जियों, जड़ी-बूटियों और नट्स के ‘छिपे हुए’ पोषण से हर व्यंजन को स्वादिष्ट और पौष्टिक बनाते हैं।


उत्पाद/प्रोडक्ट्स:

हमें बच्चों के लिए पौष्टिक और स्वादिष्ट उत्पादों की अपनी श्रृंखला पेश करते हुए खुशी हो रही है !!

हम जानते हैं कि प्रतिदिन स्वस्थ भोजन तैयार करना और खिलाना एक बहुत बड़ा काम है, और भी कठिन है जब बच्चे अपने द्वारा चयनित भोजन खाने वाले होते हैं। बच्चे कुछ खाद्य पदार्थ और प्रारूप को पसंद करते हैं। बच्चों को हर रोज कड़वी आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां, तरह-तरह की सब्जियां, फल, मेवा और बीज खिलाना आसान नहीं होता।

आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के साथ मिश्रित, यह अनूठा उत्पाद बिना किसी झंझट के बच्चों को प्रतिरक्षा(इम्युनिटी), मस्तिष्क के विकास (ब्रेन डेवलपमेंट) , हड्डियों की मजबूती(बोन स्ट्रेंथ) और समग्र विकास (ओवरॉल ग्रोथ) के लिए दैनिक पोषण (डेली न्यूट्रिशन) प्रदान करने का एक आसान उपाय है।


Iyurved Immunity Boost Chocolate Spread

आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के साथ भारत का पहला स्वादिष्ट किड्स न्यूट्रिशन।

बच्चों और किशोरों के लिए  इम्युनिटी बूस्टर चॉकलेट स्प्रेड | 0% प्रेज़र्वेटिव्स | 0% परिष्कृत चीनी | 0% ताड़ का तेल | आमला, गिलोय, तुलसी के साथ | यहाँ आर्डर करें

बच्चों के लिए अन्य उत्पादों की जाँच करें: दैनिक पोषण, मस्तिष्क विकास, नींद, हार्मोन और नेत्र स्वास्थ्य।

(शिपिंग केवल भारत और सिंगापुर में )


छोटे बच्चों और किशोरों के माता-पिता के लिए बच्चों के पोषण और स्किनकेयर समुदाय में शामिल हों।

पोषण विशेषज्ञ द्वारा अनुशंसित खाद्य पदार्थ और उपचार।

Read more blogs: