PCOS And GUT Health: How is it connected?

what pcos means

PCOS affects women during the age group of 15-44 years. Between 2.2 and 26.7 percent of women in this age group have PCOS. If you are experiencing irregular periods, infertility or excessive facial hair, then probably you are suffering from PCOS. It is the most common endocrine disorder in women around the world. In this article, you will learn about what pcos means and what is the connection between pcos and your gut health.

What does PCOS means?

PCOS means Polycystic ovary syndrome which is a widespread health problem that affects 6% to 20% women of reproductive age. The incidence of PCOS has increased dramatically in the recent years, one of the main reasons being poor lifestyle.

The three main features of PCOS are:

  • Irregular periods: it means that your ovaries do not release eggs regularly
  • Excess androgen: more than normal levels of androgen(male hormone) which results in excess facial or body hair and Acne
  • Polycystic ovaries:  a condition in which ovaries become enlarged and contain many fluid-filled sacs that surround the eggs.

Being overweight or obese increases your chances of getting PCOS. Few common symptoms include swelling, weight gain, hair loss, acne, less frequent periods and infertility. 

What Causes PCOS?

Doctors can’t say for sure what causes it, but PCOS seems to be related to an imbalance in a girl’s or woman’s hormones . Though PCOS is mostly linked to an imbalance in hormones, have you ever thought about what causes this hormonal imbalance? An unhealthy or leaky gut might be the main reason for hormonal imbalance. Let’s see how. (What are some foods to manage hormonal imbalance?)

Connection between Gut health & PCOS:

What does gut health have to do with PCOS? The answer is EVERYTHING. According to recent research, PCOS is associated with some degree of chronic inflammation. This chronic inflammation leads to weight gain (particularly around the abdomen) and insulin resistance. It also leads to GUT Dysbiosis, which is an imbalance of good and bad bacteria in the gut. In other words, women with PCOS have less good bacteria and more harmful bacteria than normal.

Additionally, many women diagnosed with PCOS also suffer from a Leaky Gut. Leaky gut occurs when the lining of the gut allows food particles and toxins to pass through into the bloodstream, causing inflammation and insulin resistance. This again stimulates a systemic, low-grade inflammatory response. Probably this is the reason why leaky gut is so common among women suffering from PCOS. So getting your gut health back to normal becomes extremely important for women with PCOS conditions.

Foods to improve Gut Health:

Diet is extremely important to improve your gut health. A healthy diet of unprocessed foods, limited alcohol, and high fiber will help to produce an environment for good bacteria to thrive. Additionally, a good prebiotic supplement will help to replenish gut microbes and hence should be taken regularly. 

Studies have shown that probiotics (which are live microbes or healthy-gut bacteria) and prebiotics (food for good bacteria) have positive effects on improving hormonal balance and reducing inflammation in women with PCOS. Check scientific study here:

HOW PREBIOTIC GUT DRINK WILL HELP WITH PCOS?

Prebiotic can help you improve your hormonal imbalance and reduce inflammation by healing your gut. Here is the simplest way to get your daily dose of prebiotics.

(1) 1 serving of PREBIOTIC GUT DRINK will provide prebiotic essential for healthy gut.

(2) Combine PREBIOTIC GUT DRINK with 1 spoon of ACNE TREAT chocolate Spread to reduce acne caused by PCOS and help to maintain hormonal balance.

India’s First Tasty Kids Nutrition fortified with Ayurvedic herbs

For PCOS in women, give Prebiotic Gut Drink + Teens Acne Treat Chocolate Spread| Made with PREBIOTIC FIBRE, MANJISTHA, TURMERIC, NEEM | 0% preservative | 0% Artificial Colour | 100% Natural | No refined sugar | ORDER |

(shipping in India and Singapore only)

INGREDIENTS OF PREBIOTIC GUT DRINK POWDER:

(1) FRUCTO-OLIGOSACCHARIDES (FOS):

Fructooligosaccharides (FOS) are an excellent source of prebiotics that promote growth of healthy gut bacteria. Hence, Prebiotics play an important role in weight management, lowering blood sugar and maintaining insulin levels.

(2) PARTIALLY HYDROLYZED GUAR GUM:

Guar gum is a fiber made from guar bean or Indian cluster bean. Partially hydrolyzed guar gum is derived from guar gum by the process of enzymatic hydrolysis. It is a water soluble dietary fiber and helps to regulate gut function. Consuming PHGG can help to improve metabolic health and fertility.

(3) CITRUS FRUITS:

Lemon and orange are the two best sources of citric acid or vitamin C. Vitamin C is one of the most important vitamins for PCOS and has many health benefits. Women with PCOS have increased levels of oxidative stress (imbalance of free radicals). As an antioxidant, Vitamin C helps to prevent free radical damage to healthy cells.

For scientifically proven studies by NIH, Check here.

(4) STEVIA

It is a great sugar alternative for refined sugar and is highly beneficial for women facing hormonal issues. It’s sweet and safe (approved by FDA) in its natural form. Stevia has no carbohydrates, calories or any artificial ingredients and is called a “zero-calorie” sweetener. (What are other sugar alternatives?)

(5) PAPAYA

Papaya contains carotene that helps induce period naturally and hence including papaya in diet can benefit women with PCOS.

To know the meaning of gut-healthy foods, check here.

CHECK MORE PRODUCTS FOR:

Immunity, Gut health, Digestion, Weight, Brain development, Speech delay, Epilepsy, Eye health, Hormones, Sleep, Hyperactivity, Bones and Overall growth

Veggies and Dal Powder
Veggies and Dal Powder

PARENT REVIEWS: LET’S HEAR FROM Subhra

Some parents have been kind enough to share their journey with us. Let’s hear them to closely understand the benefits of Ayurvedic spreads by Iyurved.

Check here to know how Subhra helped her child reduce the shoulder acne.

CHECK MORE PARENT REVIEWS HERE.

To get your doubts or queries answered by Nutrition expert, whatsapp us.

Read more blogs:

Vomiting in Kids: 10 Foods and Home remedies of Vomiting that help

vominting in kids

It is absolutely normal for babies and children to vomit occasionally. Generally, it will last for no longer than one to two days and is not considered a sign of anything serious.

Vomiting is most often a symptom of an underlying condition.When the body consumes anything that is unwanted or infected, the body’s defense mechanism causes it to throw out the undigested substances in the form of puking or vomiting. Though the stomach is being cleaned the natural way, frequent bouts of vomiting should get you worried. During a vomiting bout, your kid will expel the contents of the stomach through the mouth. In this article, you will know about some foods and home remedies of vomiting that can help.

Types of Vomiting in Children:

1) Posseting:

This type of vomiting is very common among babies who are being breastfed. Posseting means throwing up small amounts of milk by babies following each feed.

2) Projectile Vomiting:

If your child throws up the contents of his/her stomach forcefully out, it is known as projectile vomiting. The volume may seem quite large, but the vomit generally consists only of the last feed your child has had. This type of vomit may happen intermittently but can be a matter of concern if it happens after every feed. 

3) Reflux:

Most babies face this type of vomiting. When the valve at the top of the baby’s stomach opens up unintentionally, it causes the stomach contents to travel in a reverse manner up the oesophagus/food pipe. This is called Reflux. Usually reflux in babies is harmless and will stop by the time they begin sitting upright or walking.

Causes of Vomiting in Children:

The following are some of the common reasons that could cause vomiting in children:

1. Food Allergies

If your child is allergic to certain foods like milk, wheat, eggs or fish, this could cause a reaction when he/she eats it. Food allergies often cause severe abdominal pain and this could be followed by nausea and vomiting. (What are some common food allergies in kids?)

2. Gastroenteritis

The most common cause of vomiting in children is gastroenteritis. It is a gut infection usually caused by  bacteria,virus and parasites and can lead to diarrhoea.

3. Digestive Issues

If your child’s appendix is infected or there is a blockage in the digestive system, he/she can suffer from vomiting. Sometimes, overeating may also cause vomiting. Overeating means consuming food which is beyond the ability of the stomach to digest easily. (What are some foods that help in proper digestion?)

4. Food Poisoning

Food poisoning is often the result of the harmful bacteria present in stale or under-cooked food. It can cause severe nausea and vomiting, which can even lead to dehydration. Common signs of food poisoning include nausea, abdominal pain and diarrhoea.

5. Stress and Emotional Disturbance

Sometimes stress or emotional disturbance may also cause nausea and vomiting in children. If you have recently moved to a new city or if your child is now attending a different school, these changes can cause excessive stress. Your kid might also feel stressed before or during exams or while competing in debates/competitions.When a child undergoes an emotional trauma (death in the family or divorce or separation of parents), it might also lead to excessive vomiting.

6. Flu and Other Illnesses

Seasonal allergies, acid reflux, swine flu and ear infections are some diseases that can induce vomiting in young children. Appendicitis causes severe abdominal pain which could lead to vomiting in young kids. Labyrinthitis (ear infection) leads to extreme dizziness and this spinning sensation is also a common cause for vomiting in kids.

Home Remedies of Vomiting:

Here are some foods and home remedies of vomiting that can help to get rid of vomiting and give immediate relief.

1. Ginger: 

In order to stop vomiting in children, ginger is a proven remedy, since it contains natural antiemetic properties. Ginger has qualities that can ease the irritation of the stomach and bring instant relief. Crush a piece of ginger and put it in water. Add one teaspoon of honey and sip it the entire day. Kids love fresh ginger tea with honey, so you can try that as well.

2. Cloves and cardamom: 

Keep a few pieces of cloves or cardamom in your mouth and suck them for long. The aroma and taste of cloves and cardamom can help to stop vomiting. It also reduces the sensitivity of the mouth. Drinking clove tea also helps to avoid vomiting. 

3. Salt and Sugar Solution

This age-old remedy is quick to make and can be made from these everyday ingredients. Continuous vomiting can aggravate the stomach lining, lead to severe dehydration and expel essential nutrients like sodium and potassium from the child’s body. This solution will not allow the body to get dehydrated and would prevent weakness of the body. It acts as a natural electrol.

4. Papaya

Papaya is packed with antibacterial compounds which help digestion and reduce acids in the body. It contains all the necessary natural enzymes that facilitate the smooth and quick digestion of food. And is also helpful in removing harmful germs that cause stomach upsets.

5. Onion Juice

Mix one teaspoon of onion juice with a similar quantity of ginger juice and feed it to your child. It is one of the extremely useful home remedies of vomiting and nausea since it contains natural antibiotic properties. 

6. Cumin

Cumin seeds enhance the pancreatic enzyme secretion and hence is known as one of the best home remedies of vomiting. It helps in improving digestion and reducing any stomach discomfort. Boil a cup of water and add freshly ground cumin seeds to it. Adding a bit of nutmeg to this mixture can further enhance its effectiveness. You can also try ½ teaspoon of cumin powder and cardamom along with one teaspoon of honey. Make sure that your child consumes this mixture slowly to keep vomiting at bay.

7. Apple Cider Vinegar

Take one tablespoon of honey and apple cider vinegar and mix both in a glass of water. Give this mixture to your child at regular intervals. The antimicrobial properties of vinegar are helpful in curing food poisoning. Mix vinegar with water and rinse the mouth with it. This will eliminate the acidic smell of vomit and reduce the vomiting sensation that rises due to it. (Benefits of apple cider vinegar?)

8. Mint

Mint is a wonderful antidote for vomiting that works wonders. Boil water and add one tablespoon of dried mint leaves. Keep the mint leaves in the water for 10 minutes and then strain it. Give this solution thrice a day to get relief from vomiting. Chewing on fresh mint leaves is also a proven method of reducing the feeling of nausea. A mix of lemon juice, mint juice and honey (one teaspoon each) can be equally effective in vomiting

9. Rice Water

Rice water is basically the starch from white rice. When gastritis is the reason for a bout of vomiting, rice water can be really effective. Make sure you make use of white rice and not brown, since the starch from white rice is easily digestible for young children. Take one cup of white rice, two cups of water and boil it. Strain this mixture and separate the rice water in a cup. This rice water helps to reduce and stop vomiting.

10. Saunf or fennel seeds:

Chewing saunf at regular intervals is extremely effective in stopping nausea and vomiting. It acts as a mouth freshner and makes the person feel much better. You can also have fennel tea to avoid vomiting. Take one teaspoon of fennel seeds and add one cup of boiling water. Steep for 10 minutes and strain before drinking.

When to see the Doctor?

It is important to seek medical help immediately when you notice the following symptoms in your child:

  • Bile or blood in the vomit
  • Uncontrolled retching and gagging
  • Stomach ache
  • Continuous vomiting
  • Body temperature above 104°C
  • Blood in stool
  • Projectile vomiting
  • Lethargy or slow to respond

If your child is suffering from vomiting, he/she must take sufficient rest. He/she must lie down on their back and not on the stomach. Long hours of rest are very helpful in improving the condition. Vomiting can cause a lot of weakness and if precautions are not taken, it can be fatal. Therefore, it is suggested that vomiting must never be suppressed voluntarily as the body is making an effort to get rid of substances in the body that could be dangerous to health.

Recipe: Spinach and Mung Bean Wrap WITH HIDDEN NUTS AND HERBS

Let’s make every dish tasty and nutritious by ‘hidden’ nutrition of veggies, herbs and nuts.

Spinach & Mung Bean Wrap Recipe by Iyurved

Check the Recipe made with Ayurvedic spread by Iyurved- DAILY NUTRITION spread.

CHECK MORE HEALTHY RECIPES LOVED BY KIDS.

PRODUCTS:

We are happy to introduce our range of nutritious & tasty products for kids!!

We know that preparing and feeding healthy foods everyday is a huge task. Even more tough when kids are picky eaters. Kids prefer certain foods and formats. It is not easy to feed kids bitter Ayurvedic herbs, variety of vegetables, fruits, nuts and seeds everyday.
Mixed with Ayurvedic herbs, this unique Ayurvedic chocolate spread is an easy solution to feed daily nutrition for Immunity, Brain development, Bone strength and overall-growth to kids without any fuss.

Let’s try to make every food a child wants to eat more tasty and nutritious with (hidden) veggies, herbs and nuts.

Iyurved Weight Healthy Savoury Spread

India’s First Tasty Kids Nutrition fortified with Ayurvedic herbs.

For HEALTHY WEIGHT GAIN in Kids | Give Weight Healthy Savoury Spread | Made with clinically proven ‘5 Ayurvedic Herbs and 7 Nuts’ | ORDER | 0% preservative | 0% Palm oil |

Check more products for: Immunity, Gut health, Digestion, Healthy weight, Brain development, Eye health, Autism, Hyperactivity, Sleep, Bones and Overall growth

(shipping in India and Singapore only)

Join Iyurved group for FREE CONSULTATION

Foods and Remedies by a Nutrition Expert
Read more blogs:

10 Proven Health Benefits Of Chamomile

health benefits of chamomile

Chamomile is one of the oldest medicinal herbs known to mankind. There are two common varieties: German Chamomile and Roman Chamomile, both of which are native to certain parts of Europe. Numerous products are made from the essential oil of chamomile flowers, which you can use in the form of oils or creams, eat in the form of herbs and teas, and also inhale. You can also find Chamomile in capsule form as a supplement. There are many health benefits of Chamomile.

The most common form of chamomile is tea, which is made from the dried flowers of the chamomile plant. It’s so common that more than a million people drink chamomile tea, often in the evenings before bed.

Composition of Chamomile:

Long list of health benefits of Chamomile comes from the more than 120 chemical constituents it contains, which include:

  • 28 terpenoids
  • 36 flavanoids
  • 52 additional compounds

Many of these compounds are pharmacologically active, meaning they contain ingredients that are actively effective in treating a concern, much like the main ingredient in a medication. For example, α-bisabolol and cyclic ethers are antimicrobial, meaning they can fight against microbes like bacteria, while chamazulene and α-bisabolol are antiseptic, which means they can prevent the growth of microorganisms or help destroy them.

Health Benefits of Chamomile:

1.Promotes Sound Sleep:

Chamomile is one of the most widely used alternative therapies for promoting sleep and treating insomnia. Chamomile’s restful properties don’t work like a pharmaceutical drug. That is, they don’t force you to sleep. Rather, they help to relieve your physical and emotional tension, allowing you to drift off to sleep naturally. Aiding sleep is one of the most important health benefits of Chamomile.

A 2017 study of 77 older people in nursing homes found a significant improvement in sleep quality when participants were given 400-milligram capsules of chamomile twice a day for four weeks, compared to those who didn’t receive any treatment. Similarly, when researchers in a 2016 study randomized 40 women who had just given birth to drinking one cup of chamomile tea a day for two weeks, they scored significantly lower compared to a control group that didn’t drink the tea when it came to both sleep problems and symptoms of depression. (Other foods to promote sleep?)

2.Anxiety and seizure:

Research has shown chamomile to have meaningful benefits when it comes to reducing anxiety. The Natural Medicines Comprehensive Database, which rates the effectiveness of natural remedies based on scientific evidence, says chamomile is possibly effective for anxiety. Chamomile is used in the treatment of generalized anxiety disorder (GAD). The recent results from the controlled clinical trial on chamomile extract for GAD suggests that it may have modest anxiolytic activity in patients with mild to moderate GAD. Check here. There is also some limited evidence to support its use in the treatment of ADHD.

Study indicates that the extracts of chamomile (M. recutita) possess suitable effects on seizure induced by picrotoxin, although more experiments are needed in this field. (Causes & remedies for Seizure?)

3.Relieves Pain:

Chamomile acts as a natural pain reliever as it eases minor pains and aches in the body. It can also provide relief from any tension or inflammation present in the body.

4.Improves digestion:

Another important health benefits of chamomile is that it improves digestion. It is also very effective in soothing and healing stomach ulcers. Chamomile helps to calm overactive sensations and cramping in the bowels and promote better digestion, relieve constipation and help with gas pain and vomiting. 

An animal study from 2014 showed that chamomile extracts have strong antidiarrheal and antioxidant properties when given to rats in a dose-dependent manner against castor oil-induced diarrhea and intestinal fluid accumulation.

5.Diabetes:

Chamomile, as a rich source of phenolic compounds and terpenoids, seems to be an effective approach in the management of chronic conditions such as diabetes mellitus. A study was conducted to evaluate evidence from animal and human studies of the effects of chamomile on metabolic risk markers and complications of diabetes mellitus. The results of these studies demonstrated a significant effect of chamomile administration on metabolic profiles. Four of the five studies appraising the impact of chamomile on lipid profiles showed that it improved dyslipidemia. Six studies showed that chamomile markedly decreased oxidative stress particularly malondialdehyde. (How some foods can help to manage diabetes in kids?)

6.Wound Healing:

Topically applied chamomile may be able to speed wound healing. Studies show that substances in chamomile can kill viruses and bacteria, including Staphylococcus aureus, the cause of staph infections, reduce inflammation, and prevent and treat the growth of ulcers.

One preliminary study that compared chamomile and corticosteroids for treating ulcers in test tubes and animals concluded that chamomile promotes faster wound healing: Animals treated with chamomile exhibited complete wound healing nine days before animals treated with corticosteroids. Another study suggested that antibacterial and wound healing activities of Chamomile nobile ointment were more than tetracycline ointment significantly. (Some home remedies for wounds?)

7.Improves Oral Health:

Some preliminary studies that evaluated the efficacy of chamomile mouthwash found that it significantly reduced gingivitis and plaque in comparison to controls, probably because of its antimicrobial and anti-inflammatory activities. (How to take care of oral health of kids?)

8.Treats Eczema:

Chamomile is often used to treat mild skin irritations, including sunburn, rashes, sores, and even eye inflammations, but its value in treating these conditions needs more research.

Topical applications of chamomile have been shown to be moderately effective in the treatment of eczema. In one partially double-blind trial carried out as a half-side comparison, a commercial chamomile cream showed a mild superiority towards a low-dose .5 percent hydrocortisone and a marginal difference compared to the placebo. (How these foods can help in Eczema?)

9. Natural Relief from Allergies:

Another important health benefits of chamomile is that it helps to treat allergies. Chamomile naturally reduces histamine and excess mucous production in the body thereby relieving the symptoms of allergy. It also helps to detoxify the liver which reduces the body’s overreaction to environmental irritants and allergens.

10. Anti Cancer Properties:

Chamomile helps to fight against various types of cancers such as skin, thyroid, breast, ovarian and prostate. According to a study, consuming chamomile tea regularly can reduce the risk of thyroid cancer by 80%. It also helps to prevent and heal mouth sores caused as a result of chemotherapy and radiation treatments.

Is It Safe For Kids?

Chamomile is a kids friendly herb as it has a pleasant taste and is gentle in nature. Many parents are skeptical about chamomile, but, if given in pure form, it is very beneficial for kids.

Recipe: Biscuit Cake WITH HIDDEN NUTS AND HERBS

Let’s make every dish tasty and nutritious by ‘hidden’ nutrition of veggies, herbs and nuts.

Check the Recipe made with Ayurvedic spread by Iyurved- DAILY NUTRITION spread.

CHECK MORE HEALTHY RECIPES LOVED BY KIDS.

Products:

We are happy to introduce our range of nutritious & tasty kids Ayurvedic foods!!
We know that preparing and feeding healthy foods everyday is a huge task. Even more tough when kids are picky eaters. Kids prefer certain foods and formats. It is not easy to feed kids bitter Ayurvedic herbs, variety of vegetables, fruits, nuts and seeds everyday.
Mixed with Ayurvedic herbs, this unique Ayurvedic spread is an easy solution to feed daily nutrition for Immunity, Brain development, Bone strength and overall-growth to kids without any fuss.


India’s First Tasty Kids Nutrition fortified with Ayurvedic herbs.

For uninterrupted deep sleep to prevent snoring, give Kids and Teens Sleep Well Chocolate Spread | 0% preservatives | 0% refined sugar | 0% Palm oil | Fortified with CHAMOMILE, LEMON BALM | ORDER

Check more products for: Immunity, Brain development, Digestion, Gut health, Healthy weight, Bones, Eye Health, Hyperactivity, Sleep and Overall growth

(shipping in India and Singapore only)

Join Iyurved group for FREE CONSULTATION

Foods and Remedies by a Nutrition Expert

Read more blogs:

Growth And Development of Premature Infants: What to Expect?

Premature Infants

Premature infants/babies or Preemie means that the baby is born more than three weeks before the baby’s estimated due date (EDD). This means that the premature infants are born anytime before the start of the 37th week of pregnancy.

Premature babies, especially those born very early, often have medical problems. The earlier your baby is born, the higher the risk of complications.

Depending on how early a baby is born, he or she may be:

  • Late preterm, born between 34 and 36 completed weeks of pregnancy
  • Moderately preterm, born between 32 and 34 weeks of pregnancy
  • Very preterm, born at less than 32 weeks of pregnancy
  • Extremely preterm, born at or before 25 weeks of pregnancy

Most premature births occur in the late preterm stage.

Causes for premature delivery:

Although there is no specific cause for premature birth, but it might happen due to one or more of the following reasons:

  • Having a history of premature delivery
  • Twin, triplet or multiple pregnancy
  • Less gap between two pregnancies, usually less than 6 months of gap
  • Issues with uterus, cervix or placenta
  • Infection of amniotic fluid or lower genital tract
  • Conceiving through In Vitro Fertilization
  • Smoking cigarettes or using illicit drugs
  • Chronic conditions such as diabetes or high blood pressure
  • Multiple miscarriages or abortions
  • Stressful life events such as death in family, divorce or domestic violence
  • Being underweight or overweight before pregnancy ( How to reduce weight?)
  • Physical injury or mental trauma

Growth and Development of Premature Infants:

According to the American Academy of Pediatrics (AAP), development is not a race, and babies develop at their own pace. Even premature infants will gradually reach their developmental milestones and will be on track with full term babies by age 3 or so. But a premature baby’s initial growth and development is slightly different from a full term baby. Therefore, parents of preemies will need to adjust their baby’s age to get a true picture of where their baby should be in his/her developmental stage.

How to calculate your baby’s adjusted/correct age?
  • Identify the number of weeks your baby was born earlier than the Estimated Due Date(EDD)
  • Subtract this number from your baby’s actual age in weeks (number of weeks since the date of birth). 
  • This is your baby’s adjusted age (also called corrected age).​​

For example: Suppose your baby’s EDD was 8th December but she arrived on 10th November(4 weeks earlier), then her corrected age on 10th June will be 28 weeks-4 weeks=24 weeks. 

Factors that affect the growth and development of Premature Babies:
1.How early they were born?

The earlier the baby is born, the more likely he or she is to face health issues which can impact their growth and development. Extremely preterm babies are more prone to serious complications as compared to late preterm babies who tend to catch up to full-term babies sooner.

2. Weight at the time of Birth: 

Another important factor that affects the growth and development of premature infants is their birth weight. Lower birth weight of a baby means that the baby is at risk of facing health complications.

3.Hospital stay time:

Extremely preterm babies usually spend some weeks in the hospital. If your baby spent a long time in the neonatal intensive care unit (NICU) and needed a lot of special care, they are likely to need extra time to develop.

4. Other medical conditions:

Preemies are more likely to have medical issues like heart, lung infections or intestinal conditions at the time of birth since they have missed out on a lot of crucial development in the final months of pregnancy. This slows down their development and hence premature babies have developmental delays as compared to full term babies.

How to monitor growth and development of premature infants?

Weight, height and head circumference are the key parameters to track the growth and development of babies(Tips to increase height?). But for premature babies, their weight, height and head circumference vary depending on the gestational week of their birth and their overall health at birth. The following are some key points to remember:

  • Premature infants have to stay in the neonatal intensive care unit (NICU) where they start gaining weight within a few days after birth.
  • Healthy premature infants are likely to show improvement first in the head circumference, followed by weight and then height.
  • How much weight a premature baby will gain per day depends on how early he/she was born. For example, a baby with a gestational age of 24 weeks (born after the 24th week of pregnancy) may attain five grams per day while those born at 33 weeks or later can put on as much as 30 grams per day.
  • The desirable weight gain in babies who are born with a birth weight of more than two kilograms is 20-30 grams per day.
  • The height of preterm babies increases by about 1.1 centimeters every week until the completion of the ideal gestational age, which is about 40 weeks.

Complications associated with Preterm Birth:

While not all premature babies experience complications, being born too early can cause short-term and long-term health issues. Generally, the earlier a baby is born, the higher the risk of complications. Birth weight plays an important role too.

Short-term complications

In the first few weeks, the complications of premature birth may include:

1.Difficulty in breathing:

A premature baby may have trouble breathing due to an immature respiratory system. If the baby’s lungs lack surfactant (a substance that allows the lungs to expand),he or she may develop respiratory distress syndrome because the lungs cannot expand and contract normally. They may also develop a lung disorder known as bronchopulmonary dysplasia. In addition, some preterm babies may experience prolonged pauses in their breathing, known as apnea.

2.Heart problems:

Patent ductus arteriosus (PDA) and low blood pressure (hypotension) are the most common heart problems that premature babies face. PDA is a persistent opening between the aorta and pulmonary artery. Usually this heart defect closes on its own, but if left untreated, it can lead to a heart murmur, heart failure as well as other complications.

3.Brain hemorrhage:

The earlier a baby is born, the greater is the risk of bleeding in the brain, known as an intraventricular hemorrhage. Most hemorrhages are mild and generally resolve with little short-term impact. But some babies may have larger brain bleeding that may cause permanent brain injury.

4.Low body temperature:

Since premature babies don’t have the stored body fat of a full-term infant, they can’t generate enough heat to maintain a normal body temperature. This might result in an abnormally low core body temperature also known as hypothermia. Hypothermia may cause breathing difficulties and low blood sugar levels. Moreover, a premature infant may use up all of the energy gained from feedings just to stay warm. This is the reason why premature infants require additional heat from a warmer or an incubator until they are able to maintain body temperature without assistance.

5.Immature Gastrointestinal system:

Premature infants are prone to have immature gastrointestinal systems, which might result in complications like necrotizing enterocolitis (NEC). This potentially serious condition, in which the cells lining the bowel wall are injured, can occur in premature babies once they start feeding. However, premature babies who receive only breast milk have a much lower risk of developing NEC. (Which foods help to increase breast milk supply?)

6.Anemia and Newborn Jaundice:

Premature babies are at higher risk of anemia (low count of red blood cells) and newborn jaundice. Newborn jaundice is a yellow discoloration in a baby’s skin and eyes that occurs because the baby’s blood contains excess bilirubin(yellow-colored substance) from the liver or red blood cells. (How Iron rich foods help in Anemia?)

7.Poor Metabolism:

Premature babies often have problems with their metabolism. Some premature babies may develop an abnormally low level of blood sugar (hypoglycemia). This happens because premature infants typically have smaller stores of stored glucose than full-term babies. They also have difficulty converting their stored glucose into more-usable, active forms of glucose.

8.Low Immunity:

An underdeveloped immune system is quite common in premature babies which can lead to a higher risk of infection. Infection in a premature baby can quickly spread to the bloodstream, causing sepsis. (Foods that help to boost immunity?)

Long-term complications

In the long term, premature birth may lead to the following complications:

1.Cerebral palsy:

Cerebral palsy is a disorder of movement, muscle tone or posture that can be caused by infection, inadequate blood flow or injury to a newborn’s developing brain either early during pregnancy or while the baby is still young and immature.

2.Impaired learning:

Premature babies are more likely to lag behind their full-term counterparts on various developmental milestones. This is the reason why a premature child is more likely to have learning disabilities. ( How some foods can help with learning difficulties?)

3.Impaired Vision:

Premature infants may develop retinopathy of prematurity, a disease that occurs when blood vessels swell and overgrow in the light-sensitive layer of nerves at the back of the eye (retina). Sometimes the abnormal retinal vessels gradually scar the retina, pulling it out of position. When the retina is pulled away from the back of the eye, it’s called retinal detachment, a condition that, if undetected, can impair vision and cause blindness. (Foods that help with eye health?)

4.Hearing loss:

Premature babies are at a higher risk of hearing loss. As a routine, all babies have their hearing checked before going home from the hospital.

5.Dental problems:

Premature infants who have been critically ill are at increased risk of developing dental problems, such as delayed tooth eruption, tooth discoloration and improperly aligned teeth.

6.Chronic health issues:

Premature babies are more likely to have chronic health issues, some of which may require hospital care. Infections, asthma and feeding problems are more common amongst them. (Tips to avoid frequent infections in kids?)

How to prevent Premature Deliveries?

Although the exact cause of preterm birth is not known, some preventive measures can be taken to help women, especially those who are at a higher risk of preterm deliveries.

  • Progesterone supplements: Progesterone supplements may help to reduce the risk of preterm birth in woman who have a history of premature deliveries, short cervix or both issues.
  • Cervical cerclage: Women with short cervix or a history of cervical shortening might need this procedure during pregnancy. In this procedure, cervix is stitched closed with strong sutures to provide extra support to the uterus.

Recipe: COOKIES WITH SESAME AND HIDDEN NUTS AND HERBS

Let’s make every dish tasty and nutritious by ‘hidden’ nutrition of veggies, herbs and nuts.

Sesame Cookies Recipe by Iyurved

Check the Recipe made with Ayurvedic spread by Iyurved- DAILY NUTRITION spread.

CHECK MORE HEALTHY RECIPES LOVED BY KIDS.


PRODUCTS:

We are happy to introduce our range of nutritious & tasty kid’s Ayurvedic foods!!
We know that preparing and feeding healthy foods everyday is a huge task. Even more tough when kids are picky eaters. Kids prefer certain foods and formats. It is not easy to feed kids bitter Ayurvedic herbs, variety of vegetables, fruits, nuts and seeds everyday.
Mixed with Ayurvedic herbs, this unique Ayurvedic spread is an easy solution to feed daily nutrition for Immunity, Brain development, Bone strength and overall-growth to kids without any fuss.

Ayurvedic weight savoury spread by iyurved

India’s First Tasty Kids Nutrition fortified with Ayurvedic herbs.

For proper nutrition, immunity, strong bones & muscles and overall growth in kids, give Daily Nutrition Savoury Spread | Made with clinically proven ‘5 Ayurvedic Herbs and 7 Nuts’ | ORDER | 0% preservative | 0% Palm oil | High in CALCIUM, VITAMIN D and VITAMIN B12 |

Check more products for: Immunity, Gut health, Digestion, Healthy weight, Brain development, Eye health, Autism, Hyperactivity, Sleep, Bones and Overall growth

(Shipping in India and Singapore only)

Join Facebook group for FREE CONSULTATION

Foods and Remedies by a Nutrition Expert
Read more blogs:

लड़कियों में यौवन में होने वाले शरीरिक बदलाव 

Puberty in girls

पैरेंटिंग के दौरान आप अपने बच्चों को बढ़ते हुए देखने के साथ साथ कई चीजों का अनुभव करते हैं। शिशु (0 से 1 वर्ष), बच्चा (1 से 3 वर्ष), प्रारंभिक बचपन (4 से 8 वर्ष), मध्य बचपन (9 से 11 वर्ष) और किशोरावस्था (12 से 18 वर्ष), प्रत्येक चरण के रूप में आप अपने बच्चे में कुछ मानसिक और शारीरिक विकास का अनुभव करते हैं।

पहले तीन चरणों (शिशु, बच्चा और प्रारंभिक बचपन) के दौरान बच्चे आमतौर पर विकास के कई प्राकृतिक शारीरिक परिवर्तनों से गुजरते हैं। बच्चों के ये पहले 8 साल उनके स्वस्थ विकास और आजीवन सीखने के लिए बेहद महत्वपूर्ण हैं। इस दौरान संज्ञानात्मक, सामाजिक, भावनात्मक, भाषा और शारीरिक विकास उनके जीवन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। प्रत्येक चरण में एक बच्चे को आपके द्वारा सिखाई गई सीखों और परिवर्तनों को समझने की आवश्यकता होती है जो वे अपने आसपास अनुभव कर रहे हैं। जैसे ही वे यौवन (puberty) के चरण में प्रवेश करते हैं, उनके साथ रहना अधिक महत्वपूर्ण हो जाता है। यह कुछ प्रमुख शारीरिक और हार्मोनल परिवर्तनों का समय है, जो कुछ प्रश्न उत्पन्न कर सकते हैं, जिनका ठीक से उत्तर दिया जाना है, लेकिन मुख्य प्रश्न यह है कि यौवन क्या है और किस उम्र में यौवन शुरू होता है?

यौवन क्या है? यह किस उम्र में शुरू होता है?

यौवन वह समय है जब एक लड़का या लड़की जैविक और शारीरिक परिवर्तनों की एक श्रृंखला से गुजरते हैं। जीवन में इस चरण का अनुभव सभी ने किया है। यह बचपन से किशोरावस्था तक का संक्रमण है। इस चरण के दौरान किशोर अपने शरीर और हार्मोन के स्तर में कुछ बदलावों से गुजरते हैं।

लड़कियों में यौवन अक्सर 8 से 13 साल की उम्र के बीच  शुरू हो जाता है । हालांकि हर लड़की की अपनी अनूठी यात्रा होती है और प्रत्येक लड़की में यौवन का समय अलग होता है, यह निश्चित रूप से लड़कियों में कुछ हार्मोनल, शारीरिक और भावनात्मक परिवर्तन लाता है जो बिल्कुल सामान्य हैं। किसी भी शारीरिक परिवर्तन को देखने के लिए 8 वर्ष की आयु वास्तव में युवा लगती है। इसलिए, अपनी युवा लड़कियों के साथ यौवन के चरणों और महिला प्रजनन प्रणाली पर चर्चा करना थोड़ा अजीब है, लेकिन उन्हें सबसे अच्छी तरह से तैयार करने के लिए परिवर्तन होने से पहले इन विषयों पर उन्हें शिक्षित करना महत्वपूर्ण है। इससे उन्हें परिवर्तनों को समझने और स्वीकार करने में अधिक सुविधा होगी।

लड़कियों में यौवन के संकेत :

स्तन विकास:

यह ज्यादातर लड़कियों में यौवन का पहला दिखाई देने वाला संकेत है। “ब्रेस्ट बड्स”, निपल्स के नीचे छोटे-छोटे उभार, दिखने लगते हैं । बाएं और दाएं स्तन का अलग-अलग गति से बढ़ना सामान्य है। ब्रेस्ट बड्स का कोमल या दर्द होना भी सामान्य है, आमतौर पर समय के साथ इसमें सुधार होता है। इस स्तर पर पहनने के लिए स्पोर्ट्स ब्रा एक अच्छा विकल्प हो सकता है।

शरीर के बाल(प्यूबिक हेयर):

लगभग 15-20% लड़कियों में प्यूबिक बाल यौवन का पहला संकेत हो सकते हैं। ये बाल बाहों के नीचे, जननांग क्षेत्रों के आसपास और पैरों पर बढ़ने लगते हैं। यह लड़कियों में यौवन का एक और संकेत है।

योनि स्राव(वैजिनल डिस्चार्ज):

यह शरीर में एस्ट्रोजन हार्मोन की बढ़ती संख्या का संकेत है। लड़कियों को थोड़ी मात्रा में स्पष्ट या सफेद योनि स्राव का अनुभव होता है जो उनकी पहली माहवारी से लगभग 6-12 महीने पहले शुरू होता है। इसे लड़कियों में यौवन का संकेत माना जाता है।

पीरियड्स (माहवारी):

लड़कियों को आमतौर पर ब्रेस्ट बड्स के विकसित होने के 1-2 साल के भीतर पहली बार पीरियड्स आ जाते हैं। यह जानना जरूरी है कि पीरियड्स बड़े होने की एक सामान्य प्राकृतिक प्रक्रिया है। पहले कुछ महीनों के दौरान यह अनियमित हो सकता है क्योंकि शरीर कुछ तेज शारीरिक परिवर्तनों के अनुकूल हो रहा होता है। सामान्य मासिक धर्म चक्र 21 दिन से 35 दिन तक का हो सकता है। (मासिक धर्म के दौरान कौन से खाद्य पदार्थ मदद कर सकते हैं?) माहवारी के साथ ऐंठन और दर्द सामान्य है। चिंता करने की कोई बात नहीं है। लेकिन अगर मासिक धर्म में ऐंठन गंभीर है और स्कूल और सामान्य दिन-प्रतिदिन की गतिविधियों को प्रभावित कर रही है, तो स्त्री रोग विशेषज्ञों से बात करें।

यौवन चरण के दौरान कुछ अन्य परिवर्तन:

मस्तिष्क

जाहिर तौर पर लड़कियों को यौवन के दौरान तेजी से बदलाव का सामना करना पड़ता है और इस तरह उनके मस्तिष्क को समायोजित होने के लिए समय की आवश्यकता होती है। (बच्चों की दिमागी शक्ति बढ़ाने के लिए शीर्ष 10 खाद्य पदार्थ) यह उनके व्यवहार और सामाजिक कौशल को प्रभावित करता है। 

हड्डियाँ 

यदि लड़कियां अधिक उम्र में यौवन में प्रवेश करती हैं तो उनकी हड्डियों का घनत्व कम हो सकता है और जीवन में आगे भी हड्डियों की समस्या का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए, हड्डियों के स्वास्थ्य में निवेश करने का यह आदर्श समय है। अपने आहार में कैल्शियम और विटामिन डी से भरपूर खाद्य पदार्थों को शामिल करने से उन्हें जीवन भर के लिए मजबूत हड्डियां प्राप्त करने में मदद मिल सकती है। (विटामिन डी कैल्शियम को अवशोषित करने में कैसे मदद कर सकता है?)

वजन

वजन में वृद्धि हो सकती है। (वजन की समस्याओं का प्रबंधन कैसे करें?) यौवन के दौरान मस्तिष्क अंडाशय को महिला हार्मोन एस्ट्रोजन बनाने का निर्देश देता है। यह हार्मोन एक लड़की के शरीर के आकार और आकार में बदलाव के लिए जिम्मेदार होता है। ऊपरी बाहों, जांघों और पीठ के आसपास चर्बी देखी जा सकती है। कूल्हे (हिप्स) चौड़े और सुडौल हो जाते हैं। उनके पेट, आंत जैसे अंग भी इस चरण के दौरान आकार में बढ़ जाते हैं। इस समय अपने आहार में प्रोटीन, खनिज, कैल्शियम और आयरन युक्त अधिक स्वस्थ और पौष्टिक खाद्य पदार्थों को शामिल करना चाहिए।

ऊंचाई

यौवन के दौरान लड़कियां लंबी हो सकती हैं। युवावस्था में प्रवेश करते समय लड़कियों की ऊंचाई में प्रति वर्ष 7-8 सेमी की वृद्धि देखी जा सकती है। लड़कियों की हाइट में पीक ग्रोथ उनके पीरियड्स शुरू होने से 6-12 महीने पहले देखी जा सकती है।

नींद के पैटर्न

यौवन के दौरान बच्चों में देर रात तक जागने और सुबह अधिक देर तक सोने का एक पैटर्न विकसित होता है। (कौन से खाद्य पदार्थ स्वाभाविक रूप से बेहतर नींद लेने में मदद कर सकते हैं?) ऐसा इसलिए होता है क्योंकि उनके शरीर को मेलाटोनिन, नींद को बढ़ावा देने वाले हार्मोन का उत्पादन करने में समय लगता है। नींद के शोध से पता चलता है कि एक किशोर को कम से कम 8 से 9 घंटे की नींद लेनी चाहिए। लेकिन उनमें से ज्यादातर को सिर्फ 6-7 घंटे ही मिलते हैं।

त्वचा और बाल

यौवन अवस्था के दौरान तेल ग्रंथियां अधिक सक्रिय हो जाती हैं। इससे लड़कियों को मुंहासों की समस्या का सामना करना पड़ता है। (बच्चों के मुंहासों का इलाज कैसे करें?) कभी-कभी यह केवल एक सामयिक दाना होता है जो प्रत्येक मासिक धर्म से ठीक पहले होता है। लेकिन कुछ किशोरों के लिए यह एक स्थायी स्थिति हो सकती है जिसे मुँहासे के रूप में जाना जाता है। ज्यादातर तैलीय त्वचा और मुंहासों की समस्या साथ-साथ चलती है। कई किशोर लड़कियों को हथेली, पैरों के तलवों, बाहों के नीचे और खोपड़ी पर अत्यधिक पसीने का सामना करना पड़ता है। कुछ किशोर लड़कियों के यौवन में प्रवेश करते ही बालों के झड़ने का अनुभव होता है। (बच्चों में बाल गिरने का मूल कारण क्या है?) हालांकि यह इलाज योग्य है और स्वस्थ आहार का पालन करके इसे प्रबंधित किया जा सकता है।

किशोरों में पीसीओएस (PCOS)

पीसीओएस का मतलब पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम है। यह आजकल की टीनएज लड़कियों में एक आम बात हो गई है। महिलाएं एक महिला हार्मोन एस्ट्रोजेन बनाती हैं । लेकिन वह पुरुष हार्मोन टेस्टोस्टेरोन भी कम मात्रा में बनाती है। पीसीओएस वाली लड़कियां इन पुरुष हार्मोनों का थोड़ा अतिरिक्त उत्पादन करती हैं। हालांकि यह स्पष्ट नहीं है कि पीसीओएस का वास्तव में क्या कारण है, ऐसा कहा जाता है कि आपको अपने परिवार से जो जीन विरासत में मिला है, वह इस हार्मोन असंतुलन का मुख्य कारण है। अगर मां को पीसीओएस है, तो बेटियों को इसके होने का खतरा अधिक होता है।

संकेत और लक्षणों में शामिल हैं: अनियमित मासिक धर्म, बहुत भारी और दर्द पूर्ण मासिक धर्म, चेहरे पर बालों का बढ़ना, मुंहासे और वजन की समस्या। अगर आपकी लड़की को इनमें से कोई भी समस्या है, तो अपने स्त्री रोग विशेषज्ञ से सलाह लें। पीसीओएस इलाज योग्य है और आहार और व्यायाम के मामले में जीवनशैली में कुछ बदलाव करके इसे ठीक किया जा सकता है।

पोषक तत्व (nutrients) जो यौवन के दौरान मदद कर सकते हैं:

प्रोटीन

लड़कियों को यौवन के दौरान पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन के साथ संतुलित भोजन की आवश्यकता होती है। यह मांसपेशियों और ऊतकों की वृद्धि और मरम्मत में मदद करता है। यह एंजाइम और हार्मोन भी उत्पन्न करता है। प्रोटीन युक्त आहार उन्हें पूरे दिन ऊर्जावान महसूस करने में मदद करते हैं। (मैं अपने बच्चों को आवश्यक प्रोटीन कैसे प्रदान कर सकता हूँ?)

आयरन 

कई लड़कियों को आयरन की कमी और एनीमिया हो जाता है। (आयरन की कमी को कैसे दूर करें?) असंतुलित आहार के कारण आयरन की कमी हो सकती है । आरडीए (अनुशंसित आहार भत्ता) दिशानिर्देश 2020 के अनुसार, एक लड़की के लिए आयरन  की जरूरत 28-30mg/d के बीच होती है। एक लड़की को अपने मासिक धर्म के नुकसान को बहाल करने के लिए यौवन के दौरान अधिक आयरन की आवश्यकता होती है। यह मांसपेशियों की वृद्धि में मदद करता है और रक्त की मात्रा भी बढ़ाता है।

कैल्शियम

लड़कियों को प्रतिदिन कम से कम 800-1000mg कैल्शियम की आवश्यकता होती है। (कैल्शियम कैसे मजबूत हड्डियों के निर्माण में मदद करता है?) उन्हें मजबूत हड्डियों के निर्माण के लिए इसकी आवश्यकता होती है जो बाद में जीवन में उनकी मदद कर सकते हैं। कैल्शियम की कमी से ऑस्टियोपोरोसिस होने का खतरा बढ़ सकता है (ऐसी स्थिति जिसमें हड्डियां कमजोर हो जाती हैं और आसानी से टूट सकती हैं)। विटामिन डी का सेवन भी उतना ही जरूरी है क्योंकि यह कैल्शियम के अवशोषण में मदद करता है।

ज़िंक 

किशोर लड़कियों के लिए के लिए आरडीए 9-12 मिलीग्राम / दिन ज़िंक उच्चतम है। जिंक की कमी से लड़कियों में विकास मंदता हो सकती है। यह यौवन के दौरान अस्थि खनिज करण (bone mineralization)  को भी बढ़ावा देता है और हड्डियों के घनत्व (bone density ) को बढ़ाने में मदद करता है।

विटामिन ए

यह एक लड़की के आहार में शामिल करने के लिए सबसे आवश्यक पोषक तत्व है। यह यौवन के दौरान गर्भाशय को मजबूत करने में मदद करता है। इसके अलावा यह स्वस्थ त्वचा और विकास को बढ़ावा देता है। यह ऊतक (tissues) की मरम्मत करता है और दृष्टि में भी मदद करता है। (हम खाद्य पदार्थों से विटामिन ए को कैसे अवशोषित कर सकते हैं?)

उपयोगी जड़ी बूटियां/ हर्ब्स :

मंजिष्ठा

आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों को उनके उपचार और उपचार गुणों के लिए सदियों से जाना जाता है। मंजिष्ठा अपने रक्त शुद्ध करने वाले गुणों के लिए जानी जाने वाली जड़ी-बूटियों में से एक है। इसके अलावा यह पिंपल्स के इलाज के लिए जाना जाता है, मूड को बढ़ाता है, इस दौरान सुचारू रक्त प्रवाह विकसित करता है और मासिक धर्म के दर्द को कम करता है और पीरियड्स को नियंत्रित करने और पीसीओएस के इलाज में मदद करता है।

नीम

नीम मुंहासों की समस्या के इलाज में अविश्वसनीय रूप से प्रभावी है। जैसे-जैसे लड़कियां किशोरावस्था में प्रवेश करती हैं, उनकी तेल ग्रंथियां अधिक सक्रिय हो जाती हैं और मुंहासों का कारण बनती हैं। नीम के एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण किसी भी तरह के पिंपल्स, ब्लैक या व्हाइट हेड्स पर सकारात्मक प्रभाव डालते हैं। यह मुंहासे पैदा करने वाले बैक्टीरिया के हानिकारक प्रभावों को नियंत्रित करता है। इसमें एंटीऑक्सिडेंट और औषधीय गुण भी होते हैं जो रक्त को शुद्ध करने में मदद करते हैं और नियमित अवधि को बढ़ावा देते हैं। नीम के पत्तों का सेवन करने से पीरियड्स के दर्द को ठीक करने में मदद मिल सकती है क्योंकि यह एक बेहतरीन दर्द निवारक है। (हमें एंटीऑक्सीडेंट की आवश्यकता क्यों है?)

हल्दी

हल्दी (हल्दी) के औषधीय लाभ हैं जो कई चिकित्सीय स्थितियों का इलाज करने में मदद करते हैं। यह हार्मोन को संतुलित करने और लड़कियों में मासिक धर्म चक्र को विनियमित करने में मदद करता है। हल्दी विटामिन ए, थायमिन (बी1), राइबोफ्लेविन (बी2) और विटामिन सी से भी भरपूर होती है और किशोर लड़कियों के लिए एक उत्तम प्रतिरक्षा बूस्टर भोजन के रूप में काम करती है। करक्यूमिन पित्ताशय की थैली में पित्त (bile in gallbladder ) के उत्पादन को उत्तेजित करता है, इसका उपयोग यकृत (liver ) द्वारा विषाक्त पदार्थों (toxins ) को खत्म करने और रक्त को शुद्ध करने के लिए किया जाता है जो पीसीओएस को ठीक करने में मदद करता है। (बच्चों के लिए इम्युनिटी पाउडर)

मेवे और बीज

मेवे और बीज प्रोटीन, एंटीऑक्सिडेंट, फाइबर और विटामिन और खनिजों से भरे होते हैं। इनमें स्वस्थ वसा भी शामिल हैं जिनमें सूजन-रोधी प्रभाव होते हैं और शरीर की कोशिकाओं को स्वस्थ संरचना प्रदान करते हैं। ये सभी पोषक तत्व हार्मोन को संतुलित करने के लिए आवश्यक और फायदेमंद होते हैं। अलसी के बीज, कद्दू के बीज, सूरजमुखी के बीज, बादाम और हेज़लनट्स को नियमित रूप से खाने से पीसीओएस के लक्षणों को कम करने में मदद मिल सकती है।

अश्वगंधा

अश्वगंधा एक एडाप्टोजेन जड़ी बूटी है। यह एक उत्कृष्ट तनाव निवारक है और किशोर लड़कियों के लिए बेहद मददगार हो सकता है। शोधकर्ताओं का सुझाव है कि इसकी जड़ में नींद पैदा करने वाले यौगिक होते हैं जो स्वाभाविक रूप से बेहतर नींद लेने में मदद कर सकते हैं। यह एसिटाइलकोलाइन के स्तर को बढ़ाने के लिए भी प्रेरित करता है, जो मस्तिष्क की शक्ति को बढ़ाने से जुड़ा सबसे महत्वपूर्ण न्यूरोट्रांसमीटर है। (बच्चों के लिए अश्वगंधा के स्वास्थ्य लाभ)

पकाने की विधि: छिपी जड़ी बूटियों और नट्स के साथ गेहूं बेरी कुकीज़ (Recipe of Wheat Berry Cookies)

आइए सब्जियों, जड़ी-बूटियों और नट्स के ‘छिपे हुए’ पोषण से हर व्यंजन को स्वादिष्ट और पौष्टिक बनाते हैं।

Recipe of Wheat Berry Cookies by Iyurved

Iyurved के गुप्त स्वास्थ्य घटक- डेली न्यूट्रिशन स्प्रेड से बनी रेसिपी देखें।

बच्चों द्वारा पसंद किए जाने वाले अधिक स्वस्थ व्यंजनों की जाँच करें।

उत्पाद/प्रोडक्ट्स:

हमें बच्चों के लिए पौष्टिक और स्वादिष्ट उत्पादों की अपनी श्रृंखला पेश करते हुए खुशी हो रही है !!

हम जानते हैं कि प्रतिदिन स्वस्थ भोजन तैयार करना और खिलाना एक बहुत बड़ा काम है, और भी कठिन है जब बच्चे अपने द्वारा चयनित भोजन खाने वाले होते हैं। बच्चे कुछ खाद्य पदार्थ और प्रारूप को पसंद करते हैं। बच्चों को हर रोज कड़वी आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां, तरह-तरह की सब्जियां, फल, मेवा और बीज खिलाना आसान नहीं होता।

आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के साथ मिश्रित, यह अनूठा उत्पाद बिना किसी झंझट के बच्चों को प्रतिरक्षा(इम्युनिटी), मस्तिष्क के विकास (ब्रेन डेवलपमेंट) , हड्डियों की मजबूती(बोन स्ट्रेंथ) और समग्र विकास (ओवरॉल ग्रोथ) के लिए दैनिक पोषण (डेली न्यूट्रिशन) प्रदान करने का एक आसान उपाय है।


Teens Hormone Balance Chocolate Spread

आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के साथ भारत का पहला स्वादिष्ट किड्स न्यूट्रिशन।

बच्चों और किशोरों के लिए  हॉर्मोन बैलेंस चॉकलेट स्प्रेड | 0% संरक्षक | 0% रिफाइंड चीनी | 0% पाम तेल | मंजिष्ठा , हल्दी और नीम के साथ  | यहाँ आर्डर करें

बच्चों के लिए दैनिक पोषण: प्रतिरक्षा, मस्तिष्क विकास, हड्डियों और समग्र विकास के लिये

(शिपिंग केवल भारत और सिंगापुर में )


Join Facebook group for FREE CONSULTATION

Foods and Remedies by a Nutrition Expert

और ब्लॉग पढ़ें:

बच्चों में सफेद बालों का इलाज करने के लिए 5 खाद्य पदार्थ और घरेलू उपचार

grey in hair

सफेद और भूरे रंग के बाल बड़े होने पर आपके लुक में एक स्टाइल एलिमेंट जोड़ते हैं, लेकिन यह एक समस्या है जब बच्चों के बाल सफेद और भूरे रंग के होते हैं। जैसे-जैसे लोग बड़े होते हैं बालों का सफेद होना एक सामान्य घटना है। समय से पहले बाल सफेद होना बच्चे और माता-पिता दोनों के लिए एक कष्टदायक और अप्रिय अनुभव हो सकता है, और यह बच्चे के आत्म-सम्मान को भी प्रभावित कर सकता है। समय से पहले बाल सफेद होने का बच्चे के स्वास्थ्य पर कोई नकारात्मक प्रभाव नहीं पड़ता है, हालांकि बालों का सफेद होना अन्य स्वास्थ्य समस्याओं का संकेत हो सकता है। इसलिए, इस समस्या से निपटने का सबसे अच्छा तरीका है कि बालों के सफेद होने के कारणों का पता लगाया जाए और जल्द से जल्द निवारक उपाय किए जाएं। (आपके बच्चे के बालों और त्वचा के लिए आहार)

बालों के सफेद होने के कारण:

यदि आप देखते हैं कि आपके बच्चे के बाल सफ़ेद हो रहे हैं, तो इसकी सबसे अधिक संभावना उसके शरीर में किसी कमी के कारण है। जबकि बच्चों में सफेद बालों के कई कारण होते हैं, उनमें से अधिकांश का इलाज किया जा सकता है। बच्चों में सफेद बालों के सबसे प्रचलित कारणों में से कुछ निम्नलिखित हैं।

1. आनुवंशिकी

बच्चों में समय से पहले बाल सफेद होने का सबसे प्रमुख कारण आनुवंशिकता है। सीधे शब्दों में कहें, यदि माता-पिता या दादा-दादी के बाल बचपन में समय से पहले सफेद हो गए थे, तो संतानों में भी विकार विकसित होने का अधिक खतरा होता है। बालों के सफेद होने की शुरुआत पीढ़ियों को सौंपी जा सकती है, और यह बच्चों में बालों के समय से पहले सफेद होने का एक प्राथमिक कारण है।

2. विटामिन बी12 की कमी

शरीर में विटामिन बी12 की कमी बच्चों में बालों के सफेद होने का एक और कारण हो सकता है। क्योंकि शाकाहारी भोजन में पर्याप्त मात्रा में विटामिन बी12 की कमी होती है, जो बच्चे शाकाहारी भोजन का पालन करते हैं, उनमें इस स्थिति के विकसित होने का खतरा होता है।

3. अन्य बीमारियाँ 

बच्चों के बालों का समय से पहले सफेद होना किसी गंभीर बात का संकेत हो सकता है। बालों का झड़ना कई तरह की बीमारियों का संकेत है, जिनमें विटिलिगो और पाइबल्डिज्म शामिल हैं। मेलेनिन वह वर्णक है जो हमारी त्वचा और बालों को उनका रंग देता है। विटिलिगो एक ऐसी स्थिति है जिसमें त्वचा में मेलेनोसाइट्स मेलेनिन को संश्लेषित करने में असमर्थ होते हैं, जिसके परिणामस्वरूप सफेद धब्बे होते हैं। इसी तरह, यदि थायरॉयड ग्रंथि ठीक से काम नहीं कर रही है, तो यह अति सक्रियता या निष्क्रियता का कारण बन सकती है। यह विकार कई प्रकार की स्थितियों में होता है, जिसमें ग्रेव रोग और हाशिमोटो रोग शामिल हैं, और यह बालों के समय से पहले सफेद होने के कारणों में पाया जाता है।

4. तनाव

तनाव के कारण बच्चों में बालों का समय से पहले सफेद होना हो सकता है, लेकिन यह असामान्य है। इस संदर्भ में इसे जीनोटॉक्सिक तनाव कहा जाता है, और यह पर्यावरणीय कारकों द्वारा उत्पन्न होता  है।

5. एनीमिया

एनीमिया, जो बच्चों में थकान और बालों के सफेद होने का कारण बनता है, आयरन की कमी के कारण हो सकता है। पर्निशियस एनीमिया भी बच्चों के बाल सफेद करने का कारण बन सकता है।

6. अस्वास्थ्यकर खाने की आदतें

यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि वर्तमान दुनिया में फास्ट-फूड जीवनशैली के कारण बालों का समय से पहले सफेद होना अधिक व्यापक होता जा रहा है। मेनकेस हेयर सिंड्रोम और क्वाशियोरकोर (प्रोटीन की कमी) जैसी अन्य दो स्थितियां भी बच्चों में समय से पहले बालों के सफेद होने के कारण हैं।

7. सिंथेटिक साबुन और शैंपू का अत्यधिक उपयोग

बालों के उत्पाद की गुणवत्ता समय के साथ खराब होती गई है, जैसा कि हम सभी जानते हैं। आजकल इस्तेमाल किए जाने वाले सिंथेटिक साबुन और शैंपू के कारण बच्चों के बाल रूखे और भूरे भी हो सकते हैं। वयस्क शैम्पू बच्चे के बालों को कठोर और घुंघराला बना सकता है, इसलिए माता-पिता के रूप में, आपको शुरू से ही सतर्क रहना चाहिए। बेबी शैम्पू का इस्तेमाल आपके बच्चे पर अवश्य ही किया जाना चाहिए क्योंकि इसमें विटामिन और मिनरल के अर्क शामिल होते हैं। आप अपने बच्चे के बालों को घर के बने या हर्बल शैंपू से भी धो सकते हैं। (सूखे और घुंघराले बाल के लिए  घरेलू उपचार)

बच्चों में सफ़ेद बालों का उपचार:

युवाओं को समय से पहले सफेद होने से बचाने के लिए कोई उपचार या दवा उपलब्ध नहीं है। बालों को सफेद होने से रोकने का एक ही उपाय है कि आप पौष्टिक आहार का सेवन करें। ज्यादातर मामलों  में, यह  स्थिति खराब पोषण के कारण होती है। शरीर में विटामिन बी12 और कॉपर और जिंक जैसे खनिजों की कमी भी बालों के सफेद होने का कारण बन सकती है, हालांकि इसे विटामिन सप्लीमेंट या युवाओं को स्वस्थ भोजन खिलाकर नियंत्रित किया जा सकता है। यदि बालों का समय से पहले सफेद होना अन्य विकारों या सिंड्रोम के कारण होता है, तो उन समस्याओं का समाधान करें और समय से पहले बालों का सफेद होना बहुत कम हो जाएगा। इनके अलावा कुछ घरेलू नुस्खे भी बालों को सफेद होने से रोकने में मदद कर सकते हैं।

बालों को सफेद होने से रोकने के घरेलू उपाय:

बच्चों के सफेद बालों के इलाज के लिए प्राकृतिक उपचारों का उपयोग किया जा सकता है। यदि आप सोच रहे हैं कि बच्चों के बालों को समय से पहले सफेद होने से कैसे रोका जाए, तो यहां कुछ घरेलू उपचार दिए गए हैं जिन्हें आप आजमा सकते हैं।

1. नारियल का तेल और आंवला

आंवला में विटामिन सी और एंटीऑक्सिडेंट होते हैं, जो अच्छे बालों में मदद कर सकते हैं। स्कैल्प पर नारियल का तेल लगाने से बालों के रोम में वर्णक कोशिकाओं की रक्षा होती है, जो बालों को उसका मूल रंग देते हैं। नारियल का तेल स्कैल्प को मॉइस्चराइज भी करता है और बालों को मजबूत बनाता है।

इस उपाय के लिए नारियल के तेल में आंवले के कुछ टुकड़े डालकर 5-10 मिनट तक उबालें, ठंडा करें और अपने बच्चे के सिर की मालिश करें।(नारियल तेल के लाभों की जाँच करें: त्वचा, बाल, शरीर और मौखिक स्वच्छता)

2. बादाम का तेल और आंवला का अर्क

बादाम के तेल में विटामिन ई भी शामिल होता है, जो एक अन्य घटक है जो बालों के स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है। यह बालों को समय से पहले सफेद होने से भी रोकता है।

सर्वोत्तम परिणामों के लिए, बराबर भागों में बादाम का तेल और आंवला का रस या अर्क का उपयोग करें और इस संयोजन को अपने बच्चे के सिर  में मालिश करें।

3. नारियल का तेल और करी पत्ता

करी पत्ते को बालों के सफेद होने को धीमा करने के लिए भी देखा  गया है। करी पत्ता मेलेनिन के निर्माण में मदद कर सकता है, जो बालों को प्राकृतिक रंग देता है।

करी पत्ते को नारियल के तेल में तब तक उबालें जब तक कि वे काले न हो जाएं। फिर, बालों को सफेद होने से बचाने के लिए अपने बच्चे के बालों में यह तेल लगाएं।

4. बादाम के तेल के साथ तिल के बीज

एक ब्लेंडर में बादाम का तेल और तिल मिलाएं। इस मिश्रण को अपने बच्चे की खोपड़ी पर लगाएं और लगभग 20 मिनट तक मालिश करें। इसे एक हर्बल शैम्पू और गर्म पानी से धोने से पहले 20 मिनट तक आराम करने दें।

5. आंवला और मेथी के बीज का हेयर मास्क

बालों के स्वास्थ्य का पोषण बनाए रखने के लिए आंवला एक उत्कृष्ट सामग्री है। यह सफेद होने को रोक सकता है क्योंकि यह विटामिन सी, एंटीऑक्सिडेंट और अन्य पोषक तत्वों से भरपूर होता है। मेथी और आंवला दोनों ही बालों की समस्याओं को दूर करते हुए उन्हें मजबूत बनाते हैं। मेथी के बीज में अमीनो एसिड होता है जो बालों के रोम को समय से पहले सफेद होने से रोकता है। यह अमीनो एसिड में उच्च है जो काले बालों के रंग के लिए फायदेमंद होते हैं।

नारियल के तेल या बादाम के तेल में आंवले के कुछ टुकड़े डालें और 5-10 मिनट तक उबालें। फिर तेल के मिश्रण में एक बड़ा चम्मच मेथी पाउडर मिलाएं। इस तेल को ठंडा करके स्कैल्प पर हल्के हाथों से मसाज करें। इसे एक घंटे के लिए छोड़ दें और अच्छी तरह धो लें।

6. घी हेयर मास्क

घी में उच्च मात्रा में एंजाइम होते हैं, जो बालों की चमक बनाए रखने के साथ-साथ जड़ों को भी मजबूत बनाने में मदद करते हैं।

सप्ताह में दो बार घी लगाएं और एक घंटे तक लगा रहने दें और अच्छे परिणाम के लिए बालों को धो लें।

7. प्याज का रस

सदियों से, इसका उपयोग सफ़ेद बालों से निपटने के लिए पारंपरिक इलाज के रूप में किया जाता रहा है। यह कैटेलेज को बढ़ावा दे सकता है, एक एंजाइम जो स्वाभाविक रूप से बालों को काला करने में मदद करता है। इसके अतिरिक्त, यह रूसी को कम करता है और बालों के विकास को उत्तेजित करते हुए सिर को पोषण देता है।

बादाम के तेल या नारियल के तेल की कुछ बूंदों के साथ प्याज का रस मिलाएं और मिश्रण को बालों और सिर  पर समान रूप से लगाएं। इसे 30 मिनट के लिए छोड़ दें और अच्छी तरह से धो लें।

बच्चों के सफ़ेद बाल रोकने के आयुर्वेदिक घरेलू उपाय:

जड़ी-बूटियों का उपयोग सदियों से स्वास्थ्य संबंधी कई समस्याओं के इलाज के लिए किया जाता रहा है। बालों और त्वचा की बात करें तो इसके अविश्वसनीय चिकित्सीय लाभ हैं। आयुर्वेदिक फॉर्मूलेशन पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं, जो उम्र बढ़ने को उलटने में मदद करते हैं और बालों को जड़ों से सिरे तक मजबूत करते हैं। बच्चों में बालों को सफेद होने से रोकने के लिए यहां कुछ सरल आयुर्वेदिक घरेलू उपचार दिए गए हैं:

1. अश्वगंधा

अश्वगंधा को भारतीय जिनसेंग के नाम से भी जाना जाता है। अश्वगंधा में पाया जाने वाला अमीनो एसिड ‘टायरोसिन’ बालों के रोम में मेलेनिन के उत्पादन को उत्तेजित करता है। यह खोए हुए मेलेनिन की बहाली और समय से पहले बालों के सफेद होने को उलटने में सहायता करता है। (अश्वगंधा के स्वास्थ्य लाभ)

गर्म अश्वगंधा तेल को स्कैल्प और बालों पर लगाएं। इसे रात भर रख दें। शैम्पू से अच्छी तरह धो लें।

अश्वगंधा पाउडर (बालों की लंबाई के अनुसार आवश्यक) मिलाएं और इसमें पानी मिलाकर एक महीन पेस्ट बना लें। इसे अपने स्कैल्प और बालों पर लगाएं और हल्के हाथों से मसाज करें। इसे किसी तौलिये या चादर से लपेट दें। 30 मिनट बाद अच्छे से धो लें।

2. ब्राह्मी

ब्राह्मी तनाव से राहत के लिए सबसे प्रभावी जड़ी बूटियों में से एक है। यह एक बहुत अच्छा तंत्रिका टॉनिक है और आयुर्वेद में एक ट्रैंक्विलाइज़र के रूप में प्रयोग किया जाता है। बालों के समय से पहले सफेद होने का एक प्रमुख कारण तनाव है। बालों को समय से पहले सफेद होने से रोकने और तनाव के कारण खोए हुए प्राकृतिक रंग को बहाल करने के लिए ब्राह्मी सबसे अच्छी  जड़ी-बूटी है।

अपने बालों और सिर में ब्राह्मी तेल और आंवला तेल की मालिश करें। तेल को इस्तेमाल करने से पहले गर्म कर लें। इसे अच्छी तरह से धोने से पहले 1 घंटे तक बैठने दें।

एक महीन पेस्ट बनाने के लिए, ब्राह्मी पाउडर और पानी मिलाएं। इसे अपने स्कैल्प और बालों में धीरे से मसाज करें। 30 मिनट के बाद इसे अच्छी तरह से धो लें।

3. मुलेठी

इसे कभी-कभी “आश्चर्यजनक जड़ी बूटी” कहा जाता है क्योंकि यह मानव शरीर को कई महत्वपूर्ण लाभ प्रदान करता है। मुलेठी में बालों के स्वास्थ्य में उल्लेखनीय सुधार करने की क्षमता है। यह सिर में रक्त परिसंचरण में सुधार करता है, बालों के रोम को महत्वपूर्ण पोषक तत्वों की आपूर्ति करता है। यह बालों के तेजी से विकास को बढ़ावा देता है, बालों के झड़ने को कम करता है और समय से पहले सफेद होने से रोकता है।

मुलेठी के पाउडर को दही और जैतून के तेल की कुछ बूंदों के साथ मिलाएं। सामग्री को अच्छी तरह से मिलाएं और अपने बालों और सिर पर लगाएं, कुछ मिनट के लिए मालिश करें और फिर इसे 15-20 मिनट तक रहने दें। गुनगुने पानी से धो लें।

4. घर का बना शैम्पू

रीठा, शिकाकाई और आंवला को अलग अलग उबाल लें और रस को छान लें। इसमें ब्राह्मी, गुड़हल और मेथी का पाउडर मिलाएं। अच्छे से घोटिये। इसे शैंपू की तरह इस्तेमाल करें। इससे बालों का सफेद होना प्राकृतिक रूप से कम हो जाएगा।

खाद्य पदार्थ / पोषक तत्व जो बच्चों में सफ़ेद बालों को रोकने में मदद कर सकते हैं:

आप अपने बच्चे के आहार में पौष्टिक खाद्य पदार्थों को शामिल करके उसके बालों को सफेद होने से रोक सकते हैं। सुनिश्चित करें कि आप अपने शिशु को जो कुछ भी खिलाने की योजना बना रहे हैं वह महत्वपूर्ण पोषक तत्वों से भरपूर हो। समय से पहले सफेद होने को रोकने और उलटने के लिए कुछ सबसे महत्वपूर्ण विटामिन और खनिज निम्नलिखित हैं।

1. विटामिन ए

हरी सब्जियां और पीले फल विटामिन ए के अच्छे स्रोत हैं। यह विटामिन सामान्य रूप से स्कैल्प  और बालों के स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है। यह बालों को चमकदार भी रखता है। उच्च विटामिन ए खाद्य पदार्थों में शकरकंद , गाजर, पालक, पपीता, खुबानी, सलाद, शिमला मिर्च और ब्रोकोली जैसे गहरे पत्तेदार साग शामिल हैं।

2. विटामिन बी

स्वस्थ बालों को बनाए रखने के लिए यह विटामिन आवश्यक है। विटामिन बी तेल के स्राव को नियंत्रित करता है और बालों को लंबे समय तक स्वस्थ और रेशमी बनाए रखता है। दही, हरी पत्तेदार सब्जियां, टमाटर, फूलगोभी और केला सभी विटामिन बी से भरपूर होते हैं। नतीजतन, सुनिश्चित करें कि ये खाद्य पदार्थ आपके बच्चे के आहार में शामिल हैं। (बी विटामिन वाले खाद्य पदार्थ और आपको उनकी आवश्यकता क्यों है?)

3. खनिज

स्वस्थ बालों के लिए सबसे महत्वपूर्ण तत्व आयरन, जिंक और कॉपर हैं। ये खनिज आपके बच्चे के बालों की गुणवत्ता बनाए रखने में मदद करेंगे और समय से पहले सफेद होने से बचाएंगे। हरी सब्जियों, पोल्ट्री और रेड मीट में जिंक होता है, जबकि अंडे, सूखे खुबानी, गेहूं, अजमोद और सूरजमुखी के बीजों में आयरन होता है। तांबे की जरूरतों को पूरा करने के लिए अपने आहार में साबुत अनाज या समुद्री भोजन शामिल करें। इन सभी खनिजों का, जब पर्याप्त मात्रा में सेवन किया जाता है, तो ये बालों को समय से पहले सफेद होने से रोकने में मदद कर सकते हैं| 

4. प्रोटीन

यह बालों को चमकदार रखता है और इसकी बनावट को बढ़ाता है। साबुत अनाज, सोया, अनाज, सब्जियां, दूध, नट्स (बादाम, काजू, पिस्ता), बीज (अलसी के बीज, सूरजमुखी के बीज, चिया के बीज) और मांस जैसे खाद्य पदार्थ प्रोटीन से भरपूर होते हैं। नतीजतन, अपने बच्चे के आहार में इन प्रोटीन युक्त भोजन को शामिल करें।(बच्चों के लिए प्रोटीन के आसान स्रोत)

5. जड़ी बूटी

अश्वगंधा, मुलेठी, तुलसी, ब्राह्मी जैसी जड़ी-बूटियों को बालों को सफेद होने से रोकने के लिए भोजन के साथ पूरक के रूप में लिया जा सकता है। (5 शीर्ष आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां जो बच्चों के लिए सुरक्षित हैं)

सफ़ेद बालों के लिए पालन करने के लिए सावधानियां:

यदि आपके बच्चे के बाल सफेद हैं तो आपको निम्नलिखित कुछ निवारक उपाय करने चाहिए।

  • अपने बच्चे के बाल धोने के लिए गर्म पानी का प्रयोग न करें। गर्म पानी मेलानोसाइट्स को नष्ट कर देता है, जो मेलेनिन के संश्लेषण में सहायता करता है।
  • यूवी किरणों का अत्यधिक संपर्क समय से पहले सफेद होने का एक और कारण है। नतीजतन, सुनिश्चित करें कि आपका बच्चा धूप में ज्यादा समय नहीं बिताता है।
  • अपने बच्चे के सिर से भूरे या सफेद बालों को न हटाएं।
  • सुनिश्चित करें कि आपके बच्चे को पर्याप्त आयोडीन मिल रहा है। उसे कम मात्रा में इसका सेवन करना चाहिए क्योंकि इसका बहुत अधिक या बहुत कम सेवन थायरॉयड ग्रंथि को नुकसान पहुंचा सकता है और बालों के समय से पहले सफेद होने का कारण हो सकता है।

कई बच्चे समय से पहले बाल सफेद होने की समस्या से पीड़ित होते हैं। हालांकि, इन घरेलू उपचारों को अपनाकर और स्वस्थ आहार पर ध्यान देकर बालों को सफेद होने से रोका जा सकता है। यदि विकार या सिंड्रोम बालों के समय से पहले सफेद होने का कारण हैं, तो उन्हें रोकने के लिए उन समस्याओं का समाधान करें।

पकाने की विधि: शकरकंद-खस्ता पुरी, हिडन हर्ब्स और नट्स के साथ

आइए सब्जियों, जड़ी-बूटियों और नट्स के ‘छिपे हुए’ पोषण से हर व्यंजन को स्वादिष्ट और पौष्टिक बनाते हैं।

उत्पाद/प्रोडक्ट्स:

हमें बच्चों के लिए पौष्टिक और स्वादिष्ट उत्पादों की अपनी श्रृंखला पेश करते हुए खुशी हो रही है !!

हम जानते हैं कि प्रतिदिन स्वस्थ भोजन तैयार करना और खिलाना एक बहुत बड़ा काम है, और भी कठिन है जब बच्चे अपने द्वारा चयनित भोजन खाने वाले होते हैं। बच्चे कुछ खाद्य पदार्थ और प्रारूप को पसंद करते हैं। बच्चों को हर रोज कड़वी आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां, तरह-तरह की सब्जियां, फल, मेवा और बीज खिलाना आसान नहीं होता।

आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के साथ मिश्रित, यह अनूठा उत्पाद बिना किसी झंझट के बच्चों को प्रतिरक्षा(इम्युनिटी), मस्तिष्क के विकास (ब्रेन डेवलपमेंट) , हड्डियों की मजबूती(बोन स्ट्रेंथ) और समग्र विकास (ओवरॉल ग्रोथ) के लिए दैनिक पोषण (डेली न्यूट्रिशन) प्रदान करने का एक आसान उपाय है।


Kids & Teens Daily Nutrition Savoury Spread

आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के साथ भारत का पहला स्वादिष्ट किड्स न्यूट्रिशन।

यदि आप अपने बच्चे के Nutrition के बारे में चिंतित हैं, तो आप उसे डेली न्यूट्रीशन Savoury स्प्रेड दे सकते हैं | High in Calcium, Vit-D, Vit-B12 | चिकित्सकीय रूप से सिद्ध ‘5 आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों और 7 मेवों’ के साथ बनाया गया | 0% preservatives | 0% Palm oil | No refined sugar | यहाँ आर्डर करें

बच्चों के लिए दैनिक पोषण: प्रतिरक्षा (immunity), मस्तिष्क विकास (brain development), हड्डियों (bones)और समग्र विकास (overall growth) के लिये

(शिपिंग केवल भारत और सिंगापुर में )

और ब्लॉग पढ़ें:

11 Effective Home Remedies for Ear Infections in Kids

Ear infections can be really uncomfortable and painful for children and seeing your child in pain is something no parent wants. Though ear infections are more common in younger children, grown up kids and adults can also have it. Good thing is that for most of the ear infections or ear pain, your child might not even need medications. In this article, you will know about the best and most effective home remedies for ear infections.

What is an Ear infection?

An ear infection is an infection of the middle ear, the air-filled space behind the eardrum that contains the tiny vibrating bones of the ear. It might be caused by a bacteria or virus in the ear. Ear infections often happen as a result of allergies, colds, or upper respiratory problems. When the tubes inside the ear fill up with fluid and mucus, this causes an infection. Acute Otitis Media (AOM) is the most common ear infection.

Signs and symptoms of ear Infections in Children:

  • Ear pain, especially when lying down
  • Tugging or pulling at an ear
  • Trouble sleeping
  • Crying more than usual
  • Fussiness
  • Trouble hearing or responding to sounds
  • Loss of balance
  • Fever of 100 F (38 C) or higher
  • Drainage of fluid from the ear
  • Headache
  • Loss of appetite (Tips to improve appetite?)
  • Sore throat

When to see a Doctor?

 It is important to get an accurate diagnosis and rule out any other severe conditions. You should call your child’s doctor if:

  • Symptoms last for more than a day
  • Your baby is less than 6 months old with any of the above symptoms
  • Ear pain is severe
  • Your infant or toddler is sleepless or irritable after a cold or other upper respiratory infection
  • You observe a discharge or fluid from the ear

Your doctor will advise medications or suggest going with the home remedies depending on the severity of the infection. The latest guidelines from the American Association of Pediatrics suggest that doctors should focus on pain management, not antibiotics, for ear infections. This is because ear infections often go away on their own, and the overuse of antibiotics could lead to antibiotic-resistant infections.

Causes of Ear Infections in Children:

Many times, ear infections are caused from another illness like cold, flu or allergy, that results in congestion and swelling of the nasal passages, throat and eustachian tubes. (What are some foods & remedies for cough and cold?)

Other possible causes for an earache or ear infection are mentioned below:

11 Home Remedies for Ear Infections in Children:

1.Cold or Warm Compresses

One of the best home remedies for ear infections in children is using warm and cold compresses. Hold either a hot pad or cold washcloth against the ear for 10 to 15 minutes or alternate between hot and cold.   

2. Neck exercises

Ear infections cause pressure in the ear canal which can be relieved by Neck exercises. Here’s how to do neck-rotation exercises:

  1. Sit or stand up straight.
  2. Rotate your neck to the right, so it’s parallel with your right shoulder. Hold for five to 10 seconds.
  3. Repeat this exercise on the left side.
  4. Raise your shoulders high like you’re trying to reach your earlobes with them. Hold for five to 10 seconds.
  5. Repeat these exercises throughout the day. 

3. Olive oil

Though there is no solid scientific evidence to prove that drops of olive oil in your ear canal can soothe ear pain. However, according to the American Association of Pediatrics, putting a few warm drops of olive oil in the ear is safe and could be moderately effective.

For young children, it is advisable to consult a doctor before giving oil. Another important point is to make sure the olive oil is no warmer than your body temperature so as to avoid burning the eardrum.

4. Mullein

Oil made from the flowers of the mullein plant is an effective pain reliever for ear infections. Mullein is available at most health food stores as a stand-alone tincture or as an ingredient in herbal ear drops. 

5.Vitamin D 

Vitamin D may seem unrelated to ear infections, but it is known to boost immunity. And a healthier immune system is less likely to be susceptible to ear infections. (How some foods can help to boost immunity?) According to a 2017 study, the risk of ear infections might be reduced by increasing serum levels of vitamin D through food consumption, supplementation, and direct sunlight.

6. Garlic oil

Due to its antimicrobial, antiviral, and antifungal properties, garlic oil ear drops can be applied to the ear canal to help kill bacteria or viruses that might be causing an ear infection. You can also soak crushed garlic cloves in warm olive oil to make your own garlic oil ear drops. Hence, garlic oil is one of the best home remedies for ear infections.

7.Chiropractic

Chiropractic adjustments may help relieve tight muscles around the ear, which will allow trapped fluid to drain. According to this study where 46 children aged 5 & below participated, 93 percent of them showed improvement following chiropractic adjustments. 43 percent of the children felt better after only one or two sessions.

8. Hydrogen peroxide

Hydrogen peroxide can help keep ears clean and prevent dirt or additional bacteria from entering the middle ear. It is especially useful for preventing swimmer’s ears. Swab a tiny amount of hydrogen peroxide onto the ear canal, but be careful that too much doesn’t get into the ear itself.

9.Ginger

Ginger has anti-inflammatory properties and thus applying ginger in juice form or as infused oil to the outer ear canal can help to relieve the ear infection. But never put it directly into the ear.

10.Sleep positions

Resting or sleeping sitting upright rather than lying down can encourage fluid in your ear to drain. This could ease pressure and pain in your middle ear. Prop yourself up in bed with a stack of pillows, or sleep in a reclining armchair. (Foods for sound sleep?)

11.Distraction

Sometimes distraction helps to take your child’s mind off the pain or discomfort they are suffering.

You may want to:

  • Put on their favorite movie
  • Engage them in colouring or drawing activity
  • Allow them a bubble bath with lots of toys
  • Let them play a game on your phone or tablet
  • Give them their favorite snack (Healthy recipes for kids?)
  • Find other things for them to focus on

If your child is of teething age, offer cooled teething toys for chewing.

These home remedies for ear infections should help to relieve your child from any discomfort or ear pain. But if the problem continues, it is advisable to see a pediatrician.

Recipe for Laddu with Sesame, Jaggery, hidden nuts and herbs

Let’s make every dish tasty and nutritious by ‘hidden’ nutrition of veggies, herbs and nuts.

Sesame Jaggery Laddu by Iyurved

Check the Recipe made with Iyurved’s secret health ingredient- DAILY NUTRITION spread.

Check more healthy recipes loved by kids.

ProductS:

We are happy to introduce our range of nutritious & tasty kids Ayurvedic food!!
We know that preparing and feeding healthy foods everyday is a huge task. Even more tough when kids are picky eaters. Kids prefer certain foods and formats. It is not easy to feed kids bitter Ayurvedic herbs, variety of vegetables, fruits, nuts and seeds everyday.
Mixed with Ayurvedic herbs, this unique Ayurvedic spread is an easy solution to feed daily nutrition for Immunity, Brain development, Bone strength and overall-growth to kids without any fuss.


Ayurvedic chocolate spread by Iyurved
Kids & Teens Immunity Boost Chocolate Spread
Kids & Teens Immunity Boost Chocolate Spread

India’s First Tasty Kids Nutrition fortified with Ayurvedic herbs.

For developing strong immune system and to protect kids from cough, cold and infections, give Kids & Teens Immunity Boost Chocolate Spread | 0% preservatives | 0% refined sugar | 0% Palm oil | Fortified with AMLA, GILOY, TULSI | ORDER |

Check more products for: Immunity, Brain development, Healthy weight, Eye health, Sleep, Hyperactivity, Bones and Overall growth

(shipping in India and Singapore only)

Join Iyurved group for FREE CONSULTATION

Foods and Remedies by a Nutrition Expert
Read more blogs


5 tips and foods to manage PCOS in Teens and Adults

PCOS in Teens

Just like hormonal changes, PCOS in teens and adults ( a type of hormonal imbalance) are part of normal puberty and quite common these days. Actually acne and irregular periods are part of pubertal development. So when does it become PCOS?

Lots of girls who are misdiagnosed with PCOS are actually just in normal puberty, and later go on to have completely normal hormones. On the other hand, many girls or women still go undiagnosed, even with clear signs, as there’s so much confusion as to what is normal. With PCOS, it’s better to intervene earlier because this can make a huge difference in their overall health for life. In this article, you will understand about PCOS, its causes, symptoms, signs and tips to manage PCOS in Teens and Adults.

What Is PCOS (Polycystic Ovary Syndrome)?

PCOS, which stands for polycystic ovary syndrome, is a common health problem that can affect teen girls and young women. It can cause irregular menstrual periods, make periods heavier, or even make periods stop. It can also cause a girl to have excess facial hair and acne.

What Causes Polycystic Ovary Syndrome (PCOS)?

Doctors can’t say for sure what causes it, but PCOS seems to be related to an imbalance in a girl’s or woman hormones . For most women, it’s probably a combination of factors, including the genes you inherit from your family. For example, women with PCOS are more likely to have a mother or sister with PCOS.

PCOS is usually caused when in addition to estrogen (the main female hormone), women also make small amounts of testosterone (the main male hormone). In PCOS, girls and women make a little extra testosterone than normal. Research also suggests that the body might make too much insulin, signaling the ovaries to release extra male hormones. The higher amounts of these male hormones can interfere with egg development and release. Due to the presence of extra male hormones (testosterone), sometimes cysts (little sacs filled with liquid) develop, instead of the eggs maturing. This results in the cysts build up in the ovaries instead of an egg being released during ovulation as in a normal period. Eventually, these Polycystic ovaries can become enlarged. Girls/women with PCOS might not be ovulating or releasing an egg each month. (How to manage period pains?)

What are the Signs and Symptoms of  Polycystic Ovary Syndrome (PCOS)?

The signs and symptoms of Polycystic Ovary Syndrome (PCOS) are as mentioned below:

  • Irregular menstrual periods, which means having your period more than once a month or every few months
  • Missed periods
  • Very heavy or very light periods
  • Unwanted hair growth on your face, chest, back, hands, upper arms and legs, or around your nipples (a condition called hirsutism)
  • Acne or clogged pores
  • Thinner hair on your head (alopecia)
  • Patches of dark, thickened skin on your neck, armpits, or between your breasts (called acanthosis nigricans), which is a sign of insulin resistance
  • Weight gain or obesity (Foods to manage obesity)

Teens and women with PCOS also are at higher risk for type 2 diabetes, high blood pressure, and/or high cholesterol.

Girls who show signs of puberty early, such as developing underarm or pubic hair before age 8, may be at greater risk for PCOS later on.

What Problems Can Polycystic Ovary Syndrome (PCOS) Cause?

Girls/women with PCOS are more likely to:

  • Face infertility or have difficulty conceiving. However, this is treatable when a woman decides she wants to become pregnant.
  • Have excessive hair growth on places such as the face, chest, or belly
  • Get acne or have their acne get worse
  • Gain weight or difficulty maintaining a normal weight
  • Develop diabetes, heart disease, or high blood pressure
  • Have obstructive sleep apnea (Which foods help to manage sleep issues?)

How Is Polycystic Ovary Syndrome (PCOS) Diagnosed?

If your doctor thinks you might have PCOS, he or she may refer you to a gynecologist or an endocrinologist for a diagnosis. To make the diagnosis, the doctor might  perform any or some of the following actions:

  • Ask about your concerns and symptoms, your past health, your family’s health, any medicines you’re taking, any allergies you have, and other issues. 
  • Ask you lots of questions specifically about your period and its regularity. 
  • Do a physical exam, which includes checking your weight, and looking for physical signs such as acne, hair growth, and darkened skin. 
  • Do a gynecologic exam to rule out other possible causes of your symptoms.
  • Order blood tests to diagnose PCOS and or to see if the symptoms are caused by other conditions, such as thyroid or other ovarian or gland problems.
  • Order a pelvic ultrasound (a safe, painless test that uses sound waves to make images of the pelvis) to check your ovaries for cysts or other problems. 

How THeSE 5 TIPS AND FOODS CAN HELP TO TREAT PCOS in Teens or adults?

There’s no cure for PCOS, but there are several ways to treat and manage it.

1. Diet and Exercise

If a girl/woman is overweight or obese, a doctor will recommend lifestyle changes. Weight loss can be very effective in easing many of the health conditions associated with PCOS, such as high blood pressure and diabetes.

Your doctor or a registered dietitian can look at your food intake and your exercise and activity to create a weight-loss program for you. Exercise is very important to improve your body’s sensitivity to insulin and prevent progression to diabetes.

2. Medicines

Sometimes doctors prescribe medicines to treat PCOS.

  • Birth control pills to help control androgen levels in the body and regulate menstrual cycle. They may also help control acne and excessive hair growth in some girls, but they don’t work for everyone.
  • Antiandrogens also are sometimes used to treat PCOS in teens. These medicines counter the effects of excess androgens and help clear up skin and hair growth problems.
  • A diabetes medicine called metformin can lower insulin levels. In some girls with PCOS, it can help control ovulation and androgen levels which can make menstrual cycles more regular.

Medicines should always be combined with the recommended lifestyle changes.

3. Dietary changes to maintain hormone balance in body

Though all of the nutrients are beneficial for the overall health of the body when it comes to maintaining hormone levels, some of them are extremely important to include in the diet. Here is the list of the major nutrients that you should include in your diet. (Foods that help to manage hormones?)

  • Magnesium: whole grain, cereals, nuts, dairy products, bananas and chlorophyll rich vegetables
  • Zinc: Foods such as brown rice, whole wheat, nuts, pumpkin seeds, oats, millets, dried beans and lentils, leafy greens, yams and sesame seeds.
  • Calcium: Dried fig, milk and milk products, beans, pulses, seeds and nuts
  • Vitamin D: Exposure to sunlight and vitamin D rich foods like egg yolk.
  • Vitamin K: Green vegetables, cereals and meat.
  • Manganese: Cereals, brans, nuts and tea.
  • Phytoestrogens: Flax seeds, fennel seeds, licorice, alfalfa and aloe vera.

4. Lifestyle changes to maintain the hormonal levels

Along with the dietary changes in your routine, a few lifestyle changes could bring out the best of the best results. Following these tips and routines on a daily basis, would help to stay away from all kinds of health issues. 

  • Avoid alcohol consumption and smoking to the most extent. Also, avoiding junk food to the maximum will show great results.
  • Sleep well and make sure you get good and sound sleep every night.
  • Stress is undoubtedly your worst enemy and you should do every single effort to keep it away from you.

5. Ayurvedic Herbs and Remedies for PCOS:

PCOS or Artavakshaya is classified as Kapha Dosha imbalance. Kapha is the dynamic energy of growth and structure. Ayurveda prescribes specific herbs, therapies, yoga, exercise and diet to balance the Dosha.

Herbs that help to give relief from Acne and Hirsutism:

Manjistha: Manjishtha is extremely useful to balance hormones and help in PCOS. It is a herb known for its blood purifying properties and ability to restore uterine health. It is also well known for treating pimples, excessive facial growth, hair fall, improving moods, controlling heavy bleeding and aiding in the regulation of periods as well as treating PCOS in teens and adults.

Neem: Neem is extremely effective in treating acne. The anti-bacterial and anti-inflammatory properties of neem are beneficial to any type of pimple, whether black or white heads. It reduces the negative effects of acne-causing bacteria. It also contains antioxidants and medicinal properties that aid in blood purification and promote regular menstruation. (Why do we need antioxidants?)

Turmeric: Turmeric (Haldi) has medicinal properties that aid in the treatment of a variety of medical conditions. It aids in hormone balance and menstrual cycle regulation in females. Curcumin ( a compound found in Turmeric) stimulates the production of bile in the gallbladder, which is then used by the liver to eliminate toxins and purify the blood, resulting in regular periods. (Immunity powder for kids) 

Amla: Amla has detoxifying qualities which helps to reduce cholesterol levels. In addition, it has anti-inflammatory properties which removes free radicals and helps to restore hormonal balance in the body.

Red Clover: Red clover is a rich source of phytoestrogens (estrogen rich foods from plants) and thus it acts as a natural source of estrogens which helps in purifying blood and treating acne.

Tulsi: Tulsi helps to relieve hyperandrogenism (excess male hormones) that comes with PCOS and thus helps to control hirsutism( unwanted hair growth) and anovulation ( a condition when an egg doesn’t release from your ovary during your menstrual cycle).

Licorice: Licorice or Mulethi is a sweet tasting root that helps to balance hormones. In addition, it helps to reduce high estrogen and high androgen levels and thus reduces the growth and spread of unwanted hair.

Herbs for Insulin Resistance:

Insulin resistance is the situation in which your body cells resist the action of insulin (sugar regulator) which results in too much sugar in your bloodstream.

Pumpkin Seeds: They are a rich source of Omega-3 fatty acids which helps to manage cholesterol and insulin levels and also treat weight gain, hirsutism and acne by dealing with androgens. (What are some other benefits of pumpkin seeds?)

Triphala: Triphala is a powerful Ayurvedic Rasayana which deeply cleanses our body and helps to flush out wastes and toxins. Moreover, it has powerful antioxidants to rejuvenate, inhibit inflammation, promote healthy cells and purify blood.(How Triphala helps to improve eyesight?)

Cinnamon: Scientific studies suggest that giving cinnamon to women for eight weeks significantly reduces insulin resistance.(What are some other benefits of Cinnamon?)

Green Tea: Green tea has antioxidant properties that helps to regulate hormones including insulin and also can help with weight loss.

SCIENTIFIC RESEARCH ON INGREDIENTS FOR HORMONE BALANCE:

Manjistha: There is convincing scientific evidence that a Manjistha helps in making the skin complexion even, cure acne and lighten dark spots. Read here.

Neem: There is wide research on the role of Neem in reducing acne and hair fall. Read here.

Turmeric: There is scientific evidence that supports the claim that turmeric helps in reducing acne. Read here.

Recipe for Whole Grain Pizza cups with hidden nuts and herbs

Let’s make every dish tasty and nutritious by ‘hidden’ nutrition of veggies, herbs and nuts.

Check the Recipe made with Iyurved’s secret health ingredient- DAILY NUTRITION spread.

Check more healthy recipes loved by kids.

Products:

We are happy to introduce our range of nutritious & tasty products for kids!!
We know that preparing and feeding healthy foods everyday is a huge task. Even more tough when kids are picky eaters. Kids prefer certain foods and formats. It is not easy to feed kids bitter Ayurvedic herbs, variety of vegetables, fruits, nuts and seeds everyday.
Mixed with Ayurvedic herbs, this unique product is an easy solution to feed daily nutrition for Immunity, Brain development, Bone strength and overall-growth to kids without any fuss.


Ayurvedic Hormone Balance Chocolate Spread by Iyurved

India’s First Easy Effective Nutrition fortified with Ayurvedic herbs.

For PCOS or Facial hair or Hair fall or Acne | HORMONE BALANCE Chocolate Spread | 0% preservatives | 0% refined sugar | 0% Palm oil | Fortified with MANJISTHA, TURMERIC, NEEM | ORDER |

Check more products for: Daily Nutrition, Immunity, Digestion, Eye health, Brain development, Healthy weight, Sleep, Hyperactivity, Bones and Overall growth

(shipping in India and Singapore only)


Join Iyurved group for FREE CONSULTATION

Foods and Remedies by a Nutrition Expert

बच्चे की लंबाई बढ़ाने के लिए टिप्स और खाद्य पदार्थ

tips to increase height of child

हर माता-पिता चाहते हैं कि उनके बच्चे उनसे लंबे हों। बच्चे अपनी गति से बढ़ते हैं और उनके विकास की दर भी भिन्न होती है, कुछ बच्चे शुरुआती वर्षों में ऊंचाई हासिल करते हैं जबकि अन्य अपने किशोरावस्था के अंत में। लेकिन आमतौर पर लड़कियों और लड़कों दोनों की हाइट हर साल 2 इंच बढ़ने की संभावना होती है। बच्चों की लंबाई बढ़ाने के लिए टिप्स और खाद्य पदार्थ हैं। बच्चों की ऊंचाई नीचे सूचीबद्ध कई कारकों पर निर्भर करती है:

बच्चे की ऊंचाई को प्रभावित करने वाले कारक:

आनुवंशिकी:

बच्चे की लंबाई निर्धारित करने में आनुवंशिकी (जीन )महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। उन्हें अपने माता-पिता से उनकी शारीरिक विशेषताएं मिलती हैं , उनके व्यक्तित्व के सभी पहलू जैसे, ऊंचाई, वजन, शरीर की संरचना, त्वचा, बाल और आंखों का रंग, सभी उनके माता-पिता के जीन से प्रभावित होते हैं । आमतौर पर लम्बे माता-पिता के लम्बे बच्चे होते हैं और इसके विपरीत नाटे माता पिता के नाटे बच्चे होते हैं ।

पोषण:

आनुवंशिकी के बाद पोषक तत्व मुख्य कारक है जिस पर बच्चों की ऊंचाई निर्भर करती है, क्योंकि शरीर को जो कुछ भी चाहिए वह हमारे द्वारा खाए जाने वाले भोजन से आता है। कुपोषण से कई तरह के रोग हो सकते हैं जो बच्चे की वृद्धि और विकास पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकते हैं। (बच्चों के दैनिक पोषण पर नज़र कैसे रखें?)

व्यायाम और बाहरी गतिविधियाँ:

बाहरी गतिविधियाँ और नियमित व्यायाम बच्चों को अच्छी तरह से विकसित होने और समय पर अपने विकास के मील के पत्थर तक पहुँचने में मदद करता है। अगर वे नियमित रूप से बाहर खेलते हैं या रोजाना कुछ व्यायाम करते हैं, तो यह उनकी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करके उन्हें स्वस्थ रखने में मदद करेगा। (बच्चे के वजन को कैसे नियंत्रित करें?)

हार्मोन:

ग्रोथ हार्मोन बच्चे के शारीरिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। ये पिट्यूटरी ग्रंथि में बनते हैं और विकास के लिए महत्वपूर्ण हार्मोन हैं। यदि किसी स्वास्थ्य स्थिति के कारण उत्पादन कम होता है तो यह बच्चों की ऊंचाई पर प्रतिकूल प्रभाव डालेगा। (खाद्य पदार्थ जो हार्मोन को संतुलित करने के लिए अच्छे हैं?)

लिंग:

लड़के और लड़कियां अलग-अलग दर से बढ़ते हैं। नर मादाओं की तुलना में लम्बे होते हैं। यहां तक ​​कि नर भी मादाओं की तुलना में लंबे समय तक बढ़ते रहते हैं।

यह 5 वर्ष की आयु तक के भारतीय लड़कों और लड़कियों के लिए एक संदर्भ ऊंचाई और वजन चार्ट है।

भारतीय लड़कों का विकास चार्ट

*किलोग्राम में वजन और सेमी में ऊंचाई।

भारतीय बालिका विकास चार्ट

*किलोग्राम में वजन और सेमी में ऊंचाई।

बच्चे की लंबाई बढ़ाने के लिए टिप्स

संतुलित आहार:

लंबाई बढ़ाने के लिए टिप्स में संतुलित आहार का एक अहम् योगदान है | आप वही हैं जो आप खाते हैं, आपका व्यक्तित्व आपके आहार का आईना है। बच्चों को स्वस्थ खाद्य पदार्थों का सेवन करना  चाहिए ताकि वे बड़े होकर लंबे हो सकें। संतुलित आहार वह है जिसमें प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, वसा, विटामिन और खनिज सही अनुपात में हों। कैल्शियम और पोटेशियम जैसे खनिज हड्डियों के विकास के लिए महत्वपूर्ण पोषक तत्व हैं और ऊंचाई बढ़ाने के लिए खाद्य पदार्थों में इन्हें अवश्य  मौजूद होना चाहिए। प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों (प्रोसेस्ड फूड्स) के सेवन पर भी नज़र रखें क्योंकि यह बच्चे के विकास पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है। (बच्चों के लिए पोषण युक्तियाँ?)

व्यायाम और योग:

आउटडोर खेल और व्यायाम बच्चे की जीवनशैली का हिस्सा होना चाहिए। कुछ ऐसे व्यायाम हैं जो लंबाई बढ़ाने के लिए टिप्स हैं जैसे स्ट्रेचिंग, क्योंकि यह रीढ़ को लंबा करने में मदद करता है और बच्चे की मुद्रा में भी सुधार करता है। बार से लटकने से भी रीढ़ को लंबा करने में मदद मिलती है। ऊंचाई हासिल करने के लिए अगला व्यायाम स्किपिंग है, जिसमें शरीर पूरी तरह से फैलता है और बच्चों के समग्र विकास को बढ़ावा देता है। तैरना एक और खेल या व्यायाम है जो आपके बच्चे को सक्रिय और ऊर्जावान रखता है, यह एक पूर्ण शरीर का व्यायाम है जो बच्चों को लंबा होने में मदद करता है। इन अभ्यासों के अलावा आप अपने बच्चे को कुछ योगासन करने के लिए भी प्रेरित कर सकते हैं। सूर्य नमस्कार और चक्रासन बच्चे के कद पर सकारात्मक प्रभाव डालते हैं। (स्वस्थ बच्चों को किस तरह के सप्लीमेंट्स खाने चाहिए?)

अच्छी नींद:

नींद वह सोने की जंजीर है जो आपके स्वास्थ्य और शरीर को एक साथ बांधती है। उचित नींद आपके बच्चों के समग्र विकास में सबसे महत्वपूर्ण कारकों में से एक है और एक स्वस्थ जीवन शैली का एक अनिवार्य हिस्सा है। सोने से एचजीएच नामक ग्रोथ हार्मोन रिलीज होता है, जो हाइट बढ़ाने में अहम भूमिका निभाता है। नींद की कमी (अपर्याप्त नींद) के प्रभाव से कई विकास संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। (नींद मस्तिष्क के विकास से कैसे जुड़ी है और कौन से खाद्य पदार्थ बेहतर नींद में मदद करते हैं?)

सूरज की रोशनी:

सूरज की रोशनी विटामिन डी का बड़ा स्रोत है, जो मांसपेशियों और हड्डियों के विकास में मदद करता है जो कि बच्चे की लंबाई बढ़ाने के लिए टिप्स है। विटामिन डी आपके शरीर को खाद्य पदार्थों से कैल्शियम को अवशोषित करने में मदद करता है और हड्डियों को मजबूत बनाने में भी मदद करता है। इसलिए अपने बच्चे को हमेशा बाहरी गतिविधियों के लिए प्रोत्साहित करें, ताकि उन्हें धूप के माध्यम से विटामिन डी की दैनिक खुराक मिल सके। (कौन से खाद्य पदार्थ कैल्शियम और विटामिन-डी का अच्छा स्रोत हैं?)

आसन:

आपके बच्चे की मुद्रा का उनकी ऊंचाई पर बहुत प्रभाव पड़ता है, क्योंकि ढलने से रीढ़ पर अनावश्यक दबाव पड़ सकता है। एक अच्छा आसन न केवल तनाव और गर्दन और पीठ में दर्द को बढ़ाता है बल्कि यह आपकी शारीरिक ऊंचाई को भी बदल सकता है। जब आप उन्हें झुकते हुए देखें तो हमेशा अपने बच्चे को सीधे बैठने और सीधे चलने के लिए बोलें | 

बच्चे तेजी से बढ़ रहे हैं और ऊंचाई हासिल कर रहे हैं इसलिए उनकी कैल्शियम की जरूरत भी अधिक है। हमारे शरीर में सबसे महत्वपूर्ण खनिजों में से एक कैल्शियम है। हड्डियाँ 70% कैल्शियम हैं और यह केवल कैल्शियम है जो हड्डियों को सुरक्षा और समर्थन के लिए उनकी कठोरता देता है। विटामिन डी शरीर के कैल्शियम को अवशोषित करने में मदद करता है और मजबूत हड्डियों के निर्माण और ऊंचाई बढ़ाने के लिए इसके साथ काम करता है। यह आंत से कैल्शियम को रक्तप्रवाह और हड्डियों में ले जाता है। 9 से 18 वर्ष की आयु के बच्चों को दैनिक अनुशंसित सेवन को पूरा करने के लिए अधिक कैल्शियम की आवश्यकता होती है। दिलचस्प बात यह है कि केवल 20 के दशक के मध्य तक ही बच्चे अपनी हड्डियों में सुधार कर सकते हैं और ऊंचाई बढ़ा सकते हैं, जो उन्हें जीवन भर चलेगा | 

लंबाई बढ़ाने के लिए खाद्य पदार्थ:

गाय का दूध और उसके उत्पाद:

यह दूध का सबसे अधिक सेवन किया जाने वाला प्रकार है और स्वाभाविक रूप से कैल्शियम, प्रोटीन, फास्फोरस और विटामिन बी 2 जैसे कई पोषक तत्वों का एक अच्छा स्रोत है और ऊंचाई बढ़ाने के लिए सबसे अच्छे खाद्य पदार्थों में से एक है। कई देशों में, यह विटामिन डी के साथ मजबूत होता है क्योंकि दूध में स्वाभाविक रूप से विटामिन डी नहीं होता है, लेकिन यह बच्चों के लिए सबसे अधिक उपयोग किए जाने वाले कैल्शियम युक्त खाद्य पदार्थों में से एक है। ये दोनों मिलकर हड्डियों को मजबूत रखने का काम करते हैं। गाय के दूध से बने कुछ डेयरी उत्पाद हैं जैसे पनीर, दही जो विटामिन डी का अच्छा स्रोत हैं। ये सभी बच्चों की लंबाई बढ़ाने में भूमिका निभाते हैं।

अंडे की जर्दी:

अंडे विटामिन डी के उच्चतम प्राकृतिक स्रोतों में से एक हैं। सिर्फ एक बड़ा अंडा दिन के लिए आवश्यक 50% विटामिन डी प्रदान करता है। यह मजबूत हड्डियों और दांतों को बनाए रखने में मदद करता है। लोग मछली (सामन, सार्डिन) को भी विटामिन डी के स्रोत के रूप में चुन सकते हैं। यदि आप ऊंचाई बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थों की तलाश में हैं तो अंडा अच्छा भोजन है।

मोरिंगा:

मोरिंगा एक सुपरफूड है। इसमें दूध की तुलना में 3 गुना अधिक कैल्शियम होता है जो इसे कमजोर या क्षतिग्रस्त हड्डियों के इलाज के लिए, ऊंचाई बढ़ाने के लिए सबसे अच्छे खाद्य पदार्थों में से एक बनाता है और कैल्शियम के सर्वोत्तम गैर-डेयरी स्रोतों में से एक है। कुछ अध्ययनों से यह भी संकेत मिलता है कि मोरिंगा क्षतिग्रस्त हड्डियों को ठीक कर सकता है और इस प्रकार इसे हड्डियों के लिए कैल्शियम युक्त खाद्य पदार्थों में प्रमुख मन गया है! सूखे मोरिंगा के पत्तों के पाउडर में फोर्टिफाइड दूध की तुलना में 17 गुना अधिक विटामिन डी होता है। साथ ही यह पाचन संबंधी समस्याओं, रोग प्रतिरोधक क्षमता और आयरन के लिए भी रामबाण है।

रागी:

रागी भी कैल्शियम और विटामिन डी से भरपूर खाद्य पदार्थों में से एक है। ऐसा कहा जाता है कि कोई अन्य पौधा स्रोत रागी के जितना  कैल्शियम प्रदान नहीं करता है, जिससे यह कैल्शियम के लोकप्रिय गैर-डेयरी स्रोतों में से एक बन जाता है। रागी में विटामिन डी भी होता है और कैल्शियम के साथ यह हड्डियों की मजबूती में सुधार करने में मदद कर सकता है। यह एक साबुत अनाज है जो लस मुक्त भी है और इसका उपयोग केक और कुकीज़ पकाने में किया जा सकता है।

पोटेशियम युक्त भोजन:

यदि बच्चा बहुत अधिक आराम-भोजन (कम्फर्ट फूड्स) खाता है, तो पोटेशियम युक्त खाद्य पदार्थ (केला, पालक, खीरा, मटर और शकरकंद) का सेवन करने से कैल्शियम हड्डियों से नष्ट होने से बच जाएगा।

बादाम:

सभी मेवों में बादाम में सबसे ज्यादा कैल्शियम होता है। बादाम का एक औंस या लगभग 22 बादाम, कैल्शियम के अनुशंसित दैनिक सेवन का 8% प्रदान करता है। (Iyurved की डेली न्यूट्रीशन चॉकलेट और सेवरी स्प्रेड बादाम और 6 अन्य नट्स और बीजों से बनी है )

बीज:

कई बीज कैल्शियम के अच्छे स्रोत होते हैं। उदाहरण के लिए, 1 चम्मच (9 ग्राम) खसखस ​​में अनुशंसित दैनिक सेवन का 13% होता है, जबकि तिल के समान सेवन से अनुशंसित दैनिक सेवन का 9% होता है। कैल्शियम के अलावा चिया सीड्स ओमेगा 3 फैटी एसिड से भी भरपूर होते हैं।

सब्जियां:

पत्ता गोभी, सरसों (सरसों के पत्ते), ब्रोकली और भिंडी कैल्शियम के अच्छे स्रोत हैं।

कमल के बीज / मखाना:

मखाना या कमल के बीज एशियाई देशों में उगाए जाते हैं और ऊंचाई बढ़ाने के लिए एक आवश्यक  खाद्य पदार्थ माने जाते हैं। मखाना कई महत्वपूर्ण पोषक तत्वों का बेहतरीन स्रोत है। यह प्रोटीन, फाइबर, कैल्शियम, मैग्नीशियम, लौह, फास्फोरस और कार्बोहाइड्रेट से भरा हुआ है। सिर्फ एक कटोरी मखाना बच्चों के लिए बहुत अच्छा नाश्ता है। (मखाना आइसक्रीम बनाने की विधि)

खजूर और जड़ी बूटियों के साथ अखरोट और बीज की मिठाई की रेसिपी

आइए सब्जियों, जड़ी-बूटियों और नट्स के ‘छिपे हुए’ पोषण से हर व्यंजन को स्वादिष्ट और पौष्टिक बनाते हैं।

उत्पाद/प्रोडक्ट्स:

हमें बच्चों के लिए पौष्टिक और स्वादिष्ट उत्पादों की अपनी श्रृंखला पेश करते हुए खुशी हो रही है !!

हम जानते हैं कि प्रतिदिन स्वस्थ भोजन तैयार करना और खिलाना एक बहुत बड़ा काम है, और भी कठिन है जब बच्चे अपने द्वारा चयनित भोजन खाने वाले होते हैं। बच्चे कुछ खाद्य पदार्थ और प्रारूप को पसंद करते हैं। बच्चों को हर रोज कड़वी आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां, तरह-तरह की सब्जियां, फल, मेवा और बीज खिलाना आसान नहीं होता।

आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के साथ मिश्रित, यह अनूठा उत्पाद बिना किसी झंझट के बच्चों को प्रतिरक्षा(इम्युनिटी), मस्तिष्क के विकास (ब्रेन डेवलपमेंट) , हड्डियों की मजबूती(बोन स्ट्रेंथ) और समग्र विकास (ओवरॉल ग्रोथ) के लिए दैनिक पोषण (डेली न्यूट्रिशन) प्रदान करने का एक आसान उपाय है।


आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के साथ भारत का पहला स्वादिष्ट किड्स न्यूट्रिशन।

यदि आप अपने बच्चे के Height के बारे में चिंतित हैं, तो आप उसे डेली न्यूट्रीशन चॉकलेट स्प्रेड दे सकते हैं | High in Calcium, Vit-D, Vit-B12 | चिकित्सकीय रूप से सिद्ध ‘5 आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों और 7 मेवों’ के साथ बनाया गया | 0% preservatives | 0% Palm oil | No refined sugar | यहाँ आर्डर करें

बच्चों के लिए दैनिक पोषण: प्रतिरक्षा, मस्तिष्क विकास, हड्डियों और समग्र विकास के लिये

(शिपिंग केवल भारत और सिंगापुर में )



और ब्लॉग पढ़ें: